Home देश की ख़बरें अनकही निषेधाज्ञा: मुझे सम्मान नहीं देना चाहिए

अनकही निषेधाज्ञा: मुझे सम्मान नहीं देना चाहिए


यदि महिला घर कि चारदिवारी से बहार आ रही है तो यह उसका संकल्प शक्ति का परिणाम है।

शिक्षा का दामन थाम कर स्त्रियों के सामने होने का सपना तो देखने लगा, लेकिन अपनी आर्थिक व सामाजिक रूप बदलने से सदियाँ गुजर रही हैं। पहले ये मान्यता थी कि स्त्रियाँ अगर कमाएगी नहीं पुरुषों का मुँह देखेंगी तो गुलाम ही है।

  • News18Hindi
  • आखरी अपडेट:29 जनवरी, 2021, 11:41 PM IST

जब यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते का नारा लगाया जाता है तब महिलाओं के दिल में यही आवाज आती है कि हमें सम्मान नहीं चाहिए। यदि सही अर्थों में समानता की सोच होती है तो सशक्तिकरण के नारे कि आवश्यकता नहीं पड़ती है। यदि महिला घर कि चारदिवारी से बहार आ रही है तो यह उसका संकल्प शक्ति का है
परिणाम है मुक्ति कि चाह ने राह बनाई है जिस पर उस अनुकूलन का परदा हटता जा रहा है।

स्त्री सशक्तीकरण कि बात करते हुए बहुत सारी अत्मन्नीयता को छुपाया जा रहा है। कथनी व करनी में बहुत अंतर है। समाज में महिलाओं के साथ दोहरा मापदंड अपनाया जाता है।

शिक्षा का दामन थाम कर स्त्रियों के सामने होने का सपना तो देखने लगा, लेकिन अपनी आर्थिक व सामाजिक रूप बदलने से सदियाँ गुजर रही हैं। पहले ये मान्यता थी कि स्त्रियाँ अगर कमाएगी नहीं पुरुषों का मुँह देखेंगी तो गुलाम ही है। अब आर्थिक आत्मनिर्भरता पाने के बाद भी महिलाएं कितनी सशक्त हुई है इस पर एक नजर डालें।जोटाइप्रेट परिवारों में कमाऊ स्त्री का अपनी आमदनी पर पूर्ण अधिकार तक नहीं है। मनमर्जी के खर्चों पर अनकही निषेधाज्ञा लगी रहती है। विभिन्न संस्थानों में कार्यरत स्त्रियों के अनुसार कार्यस्थल पर भी उनके शरीर पुरुषों के निशाने पर रहता है। ज्यादातर पुरुषों का नजरिया स्त्रियों से मेल नहीं खाता है। अगर मेल खाता है तो पुरुष पुरुष को मां बहन कि गालियां नहीं देती हैं।

सामने पुलिस है, फोन सेवा है, बसों में सीसीटीवी कैमरों का एलान है फिर भी औरतों के साथ रोज अभद्रता कि जाती है। स्त्री अब जौहर व्रत कि चिंता में नहीं बैठाई जाती है उसकी सरेआम हत्या की जाती है। यही कारण है कि आज शिक्षित जोड़ा भी बेटी पैदा कर दहशत में आ जाता है।

(डिस्क्लेमर: यह लेखक के निजी विचार हैं।)







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments