Home उत्तर प्रदेश अपनी मर्जी से गई पत्नी को लाने के लिए नहीं है बंदी...

अपनी मर्जी से गई पत्नी को लाने के लिए नहीं है बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका-अहकोर्ट


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* केवल ₹ 299 सीमित अवधि की पेशकश के लिए वार्षिक सदस्यता। जल्दी से!

ख़बर सुनना

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा है कि किसी व्यक्ति को अवैध निरुद्धि से छुड़ाने के लिए बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दाखिल की जा सकती है। अपनी मर्जी से पति का घर छोड़कर चली गई पत्नी को वापस लाने के लिए बंदीप्रत्यक्षीकरण याचिका दाखिल नहीं की जा सकती।

यह आदेश न्यायमूर्ति डा। यके श्रीवास्तव ने मुजफ्फरनगर की सोनिया की तरफ से दाखिल पति की बंदीप्रत्यक्षीकरण याचिका को खारिज करते हुए दिया है।
कोर्ट ने क्षेत्राधिकारी से रिपोर्ट मांगी थी रिपोर्ट में बताया गया याची पति को छोड़कर अपनी मर्जी से गई है। उसे किसी ने अवैध रूप से नहीं रखा है। कोर्ट ने कहा कि ऐसी याचिका पोषणीय नहीं है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा है कि किसी व्यक्ति को अवैध निरुद्धि से छुड़ाने के लिए बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दाखिल की जा सकती है। अपनी मर्जी से पति का घर छोड़कर चली गई पत्नी को वापस लाने के लिए बंदीप्रत्यक्षीकरण याचिका दाखिल नहीं की जा सकती।

यह आदेश न्यायमूर्ति डा। यके श्रीवास्तव ने मुजफ्फरनगर की सोनिया की तरफ से दाखिल पति की बंदीप्रत्यक्षीकरण याचिका को खारिज करते हुए दिया है।

कोर्ट ने क्षेत्राधिकारी से रिपोर्ट मांगी थी रिपोर्ट में बताया गया याची पति को छोड़कर अपनी मर्जी से गई है। उसे किसी ने अवैध रूप से नहीं रखा है। कोर्ट ने कहा कि ऐसी याचिका पोषणीय नहीं है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments