Home खेल जगत अयाज मेमन की कलम से .....: नरेंद्र मोदी स्टेडियम में तस्वीर खराब...

अयाज मेमन की कलम से …..: नरेंद्र मोदी स्टेडियम में तस्वीर खराब थी, इंग्लैंड ने खुद की मदद भी नहीं की थी


विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली6 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

अयाज मेनन

अहमदाबाद के नए नरेंद्र मोदी स्टेडियम में पिंक बॉल टेस्ट में दिन खत्म हो गया। इसके बाद से ये सवाल उठने लगे कि क्या तस्वीर 5 दिन के टेस्ट के लिए थी? एक्सपर्ट की राय भी दो भाग में बंटी है। वॉन और वेंगसरकर का मानना ​​है कि पिच टेस्ट क्रिकेट का गलत उदाहरण पेश कर रहा है।

दूसरी तरफ गावसकर, पपसन और बोकाकोट का मानना ​​है कि बल्लेबाजी खराब हुई है। यह काफी अलग तरह की डिबेट है। लेकिन बिना किसी की तस्वीर के खराब तो था ही। 2 दिन में 30 विकेट गिरे, मैच सिर्फ 142.2 ओवर में समाप्त हो गया।

यह 1935 के बाद सबसे छोटा टेस्ट था। मौसम की कोई भूमिका नहीं थी। दोनों टीम के पास कई बेहतरीन बल्लेबाज थे। ये सब को देखते हुए तस्वीर फैक्टर महत्वपूर्ण हो जाती है। सिर्फ इंग्लैंड के आगंतुक ही फेल नहीं हुए। भारतीय पारी भी सिर्फ 145 रन पर सिमटी। एक सेशन से भी कम समय में 7 विकेट गिरे। पार्ट टाइम गेंदबाज जो रूट के सामने सभी जूझते दिखे।

ज्यादातर टेस्ट के रिजल्ट पांच दिन के अंतिम ओवर या अंतिम घंटे से काफी पहले आ जाते हैं। कई शानदार 3-4 दिन में समाप्त हो जाते हैं। मौसम, चित्र, फ्लडलाइट, मैदान की रीढ़ जैसी चीजें का इस फॉर्मेट में महत्वपूर्ण योगदान रहता है।

खिलाड़ी स्किल, स्वभाव, धैर्य, आक्रामकता से खेल को बेहतर बनाते हैं। लेकिन अगर तस्वीर की वजह से एक स्किल दूसरे पर भारी पड़ने लगे तो टेस्ट का मजा खत्म हो जाएगा।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments