Home मध्य प्रदेश आम लोगों को केक कल से: सरकारी अस्पताल में मुफ्त तो निजी...

आम लोगों को केक कल से: सरकारी अस्पताल में मुफ्त तो निजी अस्पताल में लगेगा 250 रुपए, दो लाख का डोज पहुंच गया, खुद से इलाज करना होगा वरिष्ठ और बीमार को पंजीकरण


  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • एमपी
  • जबलपुर
  • नि: शुल्क सरकारी अस्पताल में, निजी अस्पताल में 250 रुपये का शुल्क लगेगा, दो लाख की खुराक पर पहुंचना होगा, स्व और वरिष्ठ लोगों को पंजीकरण कराना होगा

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जबलपुर5 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

सोमवार से कोविशील्ड का केक आम लोगों को भी लगेगा।

  • अभी शहर में 10 केंद्रों पर लगेगी वैक्सीन, अगले सप्ताह से ग्रामीण अस्पतालों को भी जोड़ा जाएगा
  • कोविन -2, डीजी लॉकर, अयोग्य सेतु पर करा पंजीकरण होगा, केंद्रों पर भी तत्काल पंजीकरण होगा

स्वास्थ्य कर्मियों और फर्स्ट लाइन वर्कस के बाद अब वैक्सीनेशन की बारी आम लोगों की है। शहर में कल से 10 केंद्राें पर वरिष्ठ नागरिकों और गंभीर बीमारियों से पीड़ित (45 वर्ष या इससे अधिक) लोगों को कोविशील्ड की वैक्सीन लगेगी। चार सरकारी अस्पतालों में जहां ये वैक्सीन मुफ्त में लगेगी। वहीं छह निजी अस्पतालों में वैक्सीन लगवाने के एवज में 250 रुपए देने होंगे। एक सप्ताह बाद ग्रामीण क्षेत्र के अस्पतालों में भी यह सुविधा शुरू होगी।

जानकारी के अनुसार जिले को दो लाख डोज कोवीशील्ड के मिले हैं। वैक्सीनेशन के लिए आरोग्य सेतु, डीजी लॉकर और कोविन -2 एप्स पर पंजीकरण करना होगा। अभी भी एक सप्ताह लोगों को केंद्रों पर तत्काल पंजीकरण की सुविधा दी गई है। इसके लिए लोगों को दांव की तरह कोई एक पहचान पत्र ले जाना होगा।

शहर के 10 केंद्रों में लगेगी वैक्सीन
जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ। शत्रुघन दाहिया के मुताबिक 10 केंद्रों में विक्टोरिया, कैल्शियम, मेडिकल कॉलेज और रांझी अस्पताल में लोगों को मुफ्त में टीका लगता है। वहीं छह निजी अस्पताल जबलपुर, मेट्रो, अनंत, नीलवी, मन्नूलाल और सिटी अस्पताल में वैक्सीन लगवाने के लिए 250 करोड़ रुपये होंगे। 150 रुपए जहां वैक्सीन की कीमत तय की गई है। वहाँ 100 रुपए अस्पताल को मिल जाएगा। 250 रुपए से अधिक कोई निजी अस्पताल नहीं ले सकेगा।
वैक्सीनेशन के लिए निजी अस्पतालों को कलेक्टर से लेनी की अनुमति होगी
डॉ दाहिया के मुताबिक निजी अस्पतालों को कलेक्टर से वैक्सीनेशन के लिए अनुमति लेनी होगी। इसके लिए अस्पताल में वैक्सीनेशन के लिए तीन अलग-अलग कमरे, आईसीयू की सुविधा को आवश्यक शर्तों में जोड़ा गया है। एक मेडिकल ऑफिसर के साथ दो कर्मियों की फिक्स ड्यूटी लगानी होगी। सभी को प्रशिक्षण दिया जाएगा।
निजी अस्पतालों को प्रति डोज 150 रुपए पहले सरकार के खाते में जमा करने वाले लेन। तब उन्हें वैक्सीन की डोज मिलेगी। सोमवार को सरकारी अस्पतालों में जहां 500-500 जबकि निजी अस्पतालों में 150-150 लोगों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य दिया गया है। इसके अलावा स्वास्थ्य कर्मियों को लगने वाला दूसरा डोज भी सोमवार को लगेगा।
टीका लगवाने के लिए इस तरह की प्रक्रिया से गुजरना होगा

  • आरोग्य सेतु एप, डीजी लॉकर, कोविन -2 एप्स पोर्टल पर पंजीकरण करना होगा। टीकाकरण केंद्र पर भी पंजीयन कराए जाएंगे।
  • पंजीयन के समय मतदाता परिचय पत्र, आधार कार्ड, पास, पेन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस सहित 12 तरह की पहचान पत्र दिखाना होगा।
  • ऑनलाइन रजिस्टरयन के दौरान पोर्टल और एप्स में सरकारी व निजी और स्वतंत्र और सशुल्क का विकल्प चुनना होगा। इसके अलावा केंद्र का भी विकल्प चुनना होगा।
  • 45 वर्ष से ज्यादा के उम्र के को-मर्बिडिटीज वालों को टीकाकरण केंद्र में किसी पंजीकृत मेडिकल प्रेक्टिशनर से बीमारी का प्रमाण पत्र लेना हागे।
  • डायबिटीज, हाइपर टेंशन, दिल, किडनी, कैंसर, एचआईवी, थैलेसीमिया सहित 20 के लगभग गंभीर बीमारियों को शामिल किया गया है।
  • टीकारकान केंद्र में सुबह नौ से शाम पांच बजे तक टीके लगाए जाएंगे। पंजीयन के समय अपनी सुविधा के अनुसार दिन चुनने का भी विकल्प होगा।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments