Home देश की ख़बरें आर्मी की फायरिंग रेंज के बाद अब भूमाफिया ने बेची वन विभाग...

आर्मी की फायरिंग रेंज के बाद अब भूमाफिया ने बेची वन विभाग की 500 बीघा ज़मीन, हरे पेड़ काटने का आरोप लगाया है


वन विभाग की शिकायत के मुताबिक भूमाफिया ने गांव खेड़ा चौगानपुर में 500 बीघा ज़मीन पर कब्जा कर उसे बेच दिया है। (फाइल फोटो)

वहीं डीएफओ (DFO) प्रमोद कुमार का कहना है कि पेड़ तो ज्यादा नहीं काटे गए हैं, लेकिन ज़मीन पर कब्जा (अतिक्रमण) हुआ है। इसकी शिकायत दर्ज करा दी गई है।

गौतम बुद्ध नगर। भूमाफियाओं (लैंड माफिया) के हौंसले इस कदर बुलंद हैं कि कभी आर्मी (सेना) की फायरिंग रेंज की ज़मीन बेच रही हैं तो कभी वन विभाग (वन विभाग) की ज़मीन। भूमाफिया के निशाने पर सबसे ज्यादा गौतम बुद्ध नगर (गौतम बुद्ध नगर) की ज़मीन है। नया मामला भी इसी तरह ज़िले का है। एक बार फिर वन विभाग की करीब 500 बीघा ज़मीन को बेचने का चार्ज लगा दिया गया है। इतना ही नहीं ज़मीन पर प्लॉटिंग (प्लॉट) करने के लिए हरे पेड़ भी काट दिए गए हैं। वन विभाग की ओर से इस संबंध में शिकायत दर्ज कराई गई है।

वन विभाग की ओर से गौतमबुद्ध नगर के ईकोटेक -3 थाने में दी गई शिकायत के मुताबिक भूमाफिया ने गांव खगड़ा चौगानपुर में 500 बीघा ज़मीन को अवैध रूप से प्लॉट काटकर बेच दिया है। इस मामले में वन विभाग की ओर से पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। वन विभाग की एक जांच के दौरान भूमाफिया के इस खेल का खुलासा हुआ है।

पुलिस 5 भूमाफिया के खिलाफ कर रही है कार्रवाई

ईकोटेक -3 थाना में एफआईआर दर्ज होने के बाद पुलिस ने भूमाफिया के खिलाफ कार्रवाई तेज कर दी है। इस मामले में पुलिस के निशाने पर नसीम आलम, सद्दाम, ओसाया मोहम्मद अली व शकूर हैं। इन पर आरोप है कि प्लॉट बेचने के लिए उन्होंने वन विभाग की ज़मीन पर लगे हरे पेड़ को भी काट दिया। इसके बाद एक-एक कर प्लॉट बेच दिया गया। पुलिस का कहना है कि जल्द ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा।ग्रेटर नोएडा: 84 सोसाइटी में बिजली का घोटाला! शिकायत पर एनपीसीएल ने बिलडर्स को थमाया नोटिस

भूमाफिया ने बेच दी थी फायरिंग रेंज की 161 एकड़ ज़मीन

फील्ड फायरिंग और बाम्बिंग के लिए तिलपत रेंज सेना की कई बड़ी रेंज में से एक है। यह रेंज दादरी, गौतमबुद्ध नगर में आती है। लेकिन भूमाफियाओं की नज़र इस फायरिंग रेंज पर भी पड़ गई। माफियाओं ने रेंज की 161 एकड़ ज़मीन पर अवैध कब्जा कर लिया। इतना ही नहीं वहाँ फार्म फॉर्म मेकर बेच दिया गया। यह रेंज 482 एकड़ में बनी हुई है। 161 एकड़ ज़मीन की कीमत 400 करोड़ रुपये बताई गई थी। लेकिन बीते 70 साल से भूमाफिया इस ज़मीन का इस्तेमाल कर रहे थे।







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments