Home देश की ख़बरें इटावा: समाजवादी पार्टी के पूर्व सभासद के भाई की गोलियों से भूनकर...

इटावा: समाजवादी पार्टी के पूर्व सभासद के भाई की गोलियों से भूनकर हत्या, इलाके में तनाव


समाजवादी पार्टी के पूर्व सभासद के भाई की गेंदों से भूनकर हत्या

इटावा में हत्या: एसपी सिटी (एसपी सिटी) प्रशांत कुमार ने बताया कि शहर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला कबीरगंज में गुरुवर रात पूर्व सभासद भाई की गोली मारकर हत्या की वारदात हुई है। अपराधियो ने मृतक की पत्नी पर भी फायरिंग की।

इटावा। यूपी के इटावा (इटावा) जिले में समाजवादी पार्टी के पूर्व सभासद के भाई की गुरुवार देर शाम गोलियों से भूनकर हत्या (मर्डर) कर दी गई। घटना के दौरान बदमाशों ने मृतक की पत्नी पर गोलियां चलाई, जिससे वह बाल-बाल बच गया। बता दें कि जिस स्थान पर हत्या की वारदात को अंजाम दिया गया है, वहां से भारतीय जनता पार्टी की विधायक सरिता भदौरिया के आवास पर केवल 100 मीटर की दूरी पर है। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। वारदात के बाद इलाके में सनसनी फैल गई।

मामला कोतवाली इलाके के कबीरगंज की है। पुलिस के मुताबिक समाजवादी पार्टी के पूर्व सभासद का भाई जितेंद्र उर्फ ​​मोनू (34) मोटरसाइकिल से अपने घर आ रहा था कि करीब 7 बदमाशों ने बीच में घेर कर सुनियोजित तरीके से करीब वारदात को अंजाम देकर मोनू की गोली मारकर हत्या कर दी। मौके से पुलिस ने कई खाली खोखे बरामद किए गए हैं। फोरेंसिक टीम ने भी घटना स्थल पर पहुंचकर ब्लड के सैम्पल लेने के साथ ही अन्य साक्ष्य भी जुटाए हैं। मृतक की पत्नी ने मोहल्ले के ही लोगों पर हत्या करने का आरोप लगाया है। हत्या के पीछे चुनावी रंजीश एक कारण बताई जा रही हैं।

कई राउंड की फायरिंग, मोनू को तीन गोलियां लगीं

कई राउंड की गई फायरिंग में मोनू के तीन गोलियां लगने से वह मौके पर ही गिर पड़ा। इधर गोलियां की आवाज सुनकर घर में मौजूद मृतक की पत्नी प्राची मौके पर पहुंची तो साथी कुछ और राउंड फायरिंग करते हुए भाग गई। घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर एसपी सिटी प्रशांत कुमार, सीओ सिटी राजीव प्रताप सिंह, कोतवाल बीएस सिरोही पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। जहां युवक गली में मृत हालत में पड़ा था।UP News: आजम खान को जेल चले गए आज एक साल पूरे, जानिए कब तक रहेंगे सलाखों के पीछे

मोहल्ले के ही एक परिवार पर आरोप

घटना की जानकारी होने पर पूर्व सभासद भाई विमल वर्मा सहित रिश्तेदार व अन्य परिजन सामूहिक हो गए। मृतक की पत्नी का आरोप है कि उसकी हत्या के पीछे मोहल्ले के ही एक परिवार का हाथ है। जिनसे पालिका चुनाव को लेकर रंजीश पहले से चल रहा था। इससे पूर्व भी यही किन्नर उसके पति पर जानलेने की कोशिश कर चुकी है। मृतक अपने पीछे दो छोटे-छोटे बेटे और एक बेटी को छोड़ गया है। मृतक सभासद भाई होने के साथ ही खुद रिपोर्टर थे। हत्या के पीछे असली कारण क्या है, इसकी जांच पुलिस अधिकारी कर रहे हैं।

जल्द ही आरोपियों की गिरफ्तारी- एसपी सिटी

एसपी सिटी प्रंशात कुमार ने बताया कि शहर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला कबीरगंज में देर रात पूर्व सभासद भाई की गोली मारकर हत्या हुई है। हत्या के पीछे चुनावी रंजिश के बात सामने आयी है, जिसमें पत्नी ने मोहल्ले के ही कुछ लोगों की घटना को कारित करना बताया है। उन्होंने बताया कि पूरे मामले की जांच की जा रही है, जल्द आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा।

घटना के पीछे सियासी रंजिश

उधर, मृतक मोनू वर्मा के भाई पूर्व सभासद अनिल वर्मा ने बताया कि उनका भाई सभासद के आगामी चुनाव के लिए तैयारी कर रहा था जिसके साथ कुछ राजनीतिक लोग रंजीश मान रहे थे। इसलिए चुनावी रंजीश को मानते हुए उनके भाई को घर आते समय आधा दर्जन से अधिक बदमाशों ने बांड से भूनते हुए मौत के घाट उतार दिया। वारदात को लेकर इलाके में तनाव की स्थिति को देखते हुए पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है।







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments