Home देश की ख़बरें इमरान को फिर याद आया कश्मीर: पाकिस्तान के पीएम ने कहा- बातचीत...

इमरान को फिर याद आया कश्मीर: पाकिस्तान के पीएम ने कहा- बातचीत की जिम्मेदारी भारत पर, उसे कश्मीर की आजादी के लिए कदम उठाना चाहिए


  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • भारत पाकिस्तान तनाव; कश्मीर मुद्दा, नियंत्रण रेखा (एलओसी), पाकिस्तान पीएम इमरान खान, पीएम नरेंद्र मोदी, युद्धविराम समझौता

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली / इस्लामाबाद10 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

नवम्बर 2003 में भारत और पाकिस्तान की सरकारों ने LOC पर सीजफायर एग्रीमेंट किया था। जिसके बारे में दोनों देशों की सेनाएं एक दूसरे पर चेतावनी नहीं देंगी।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक बार फिर कश्मीर का राग अलापा है। भारत में बाधा डालने वाले आतंकियों की पनाहगा बनी पाकिस्तान को इमरान ने शांति और स्थिरता का पक्षधर बताया और सभी जिम्मेदारी भारत पर डाल दी है।]

उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कि मैं लाइन ऑफ कंट्रोल (एलओसी) पर सीजफायर देखने का स्वागत करता हूं। आगे की बातचीत के लिए अनुकूल माहौल बनाने की जिम्मेदारी भारत पर है। लंबे समय से चली आ रही कश्मीर की आजादी की मांग और अधिकार को देने के लिए UNSC रिजोलुशन के मुताबिक भारत को कदम उठाने की जरूरत है।

भारत गैर-जिम्मेदाराना, पाकिस्तान जिम्मेदार
इमरान ने कहा, ‘पाकिस्तान पर भारत की अवैध एयर स्ट्राइक के खिलाफ हमारे रेस्पॉन्स के दो साल होने पर मैं पूरे देश और अपनी सेना को भरोसा देता हूं। एक अभिहित और आत्मविश्वासी राष्ट्र के तौर पर हमने अपनी गणना से समय और स्थान पर दृढ़ता से व्यवहार दी। कैद किए गए पायलट को वापस करके हमने दुनिया को भारत की गैर-जिम्मेदाराना सैन्य अस्थिरता और पाकिस्तान का जिम्मेदार रवैया दिखाया। ‘

24 फरवरी को हुआ समझौता
लंबे समय के बाद बुधवार को भारत और पाकिस्तान के डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्रीशेषंस (DGMO) की बैठक हुई थी। इसमें तय हुआ था कि 24-45 फरवरी की रात से ही उन सभी पुराने समझौतों को फिर से अमल में लाया जाएगा, जो समय-समय पर दोनों देशों के बीच हुए हैं। हॉटलाइन पर बातचीत के दौरान सीजफायर उल्लंघन, युद्धविराम और कश्मीर सहित सभी आवश्यक मुद्दे और इन पर हुए पुराने समझौतों पर चर्चा हुई।

2003 में सीजफायर को लेकर हुआ था एग्रीमेंट
नवम्बर 2003 में भारत और पाकिस्तान की सरकारों ने LOC पर सीजफायर एग्रीमेंट किया था। जिसके बारे में दोनों देशों की सेनाएं एक दूसरे पर चेतावनी नहीं देंगी। तीन साल तक यानी 2006 तक दोनों तरफ से इस सीजफायर को माना गया। लेकिन, उसके बाद से पाकिस्तान ने लगातार सीजफायर का उलटना किया। जिसके आड़ में LOC के लगभग बनाये गए आतंककी लॉन्चपैड्स से टाइपिंग न केवल कोशिशें हुईं, बल्कि पाकिस्तानी सेना ने स्थिरता कर पाने में मदद भी की।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments