Home देश की ख़बरें इम्यून सिस्टम को चकमा देकर पुन: कर सकता है कोरोनावायरस का नया...

इम्यून सिस्टम को चकमा देकर पुन: कर सकता है कोरोनावायरस का नया वैरिएंट: रिपोर्ट


वायरस का यह प्रकार इम्यून सिस्टम से बचकर निकल सकता है और कोविड -19 बीमारी से उबरड मरीज को फिर से कर सकता है। (सांकेतिक फोटो)

भारत में Covid-19: SARS-CoV-2 के दो वैरिएंट N440K और E484K के मामले में महाराष्ट्र और केरल में मिले हैं। हालांकि, केंद्र सरकार का कहना है कि दोनों राज्यों में बढ़ रहे मामलों के पीछे इस वैरिएंट के होने की जानकारी नहीं है।

  • News18Hindi
  • आखरी अपडेट:28 फरवरी, 2021, सुबह 9:43 बजे IST

नई दिल्ली। देश के कुछ राज्यों में एक बार फिर कोरोनावायरस (कोरोनावायरस) के मामलों में इजाफा हो रहा है। इसी तरह के वायरस के नए वैरिएंट (कोरोनावायरस न्यू वैरिएंट) N440K को लेकर बड़ी खबर सामने आई है। कुरनूल मेडिकल कॉलेज में शोधकर्ताओं ने पाया है कि यह वैरिएंट बीमारी से उबरित रोगियों में फिर से संक्रमण (पुन: संक्रमण) का कारण बन सकता है। देश में लगभग 200 रोगी कोरोनावायरस के नए वैरिएंट्स का शिकार हो चुके हैं।

अंग्रेजी पत्र टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, वायरस का यह प्रकार इम्यून सिस्टम से बचकर निकल सकता है और को विभाजित -19 बीमारी से उबरदार मरीज को फिर से कर सकता है। शोधकर्ताओं ने एक मामले की जांच कुरनूल में की थी। उनका मानना ​​है कि वह देश में इस वैरिएंट के कारण फिर से संक्रमण का दूसरा मामला है। भारत में कई देशों के वैरिएंट अब तक मिल चुके हैं।

कुरनूल के कुरनूल मेडिकल कॉलेज, दिल्ली के इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी और गाजियाबाद की एकेडमी ऑफ साइंटिफिक एंड इनोवेटिव रिसर्च के शोधकर्ताओं ने पाया है कि N440K का आंध्र प्रदेश में 33 प्रतिशत प्रसार है। SARS-CoV-2 के दो वैरिएंट N440K और E484K के मामले में महाराष्ट्र और केरल में मिले हैं। हालांकि, केंद्र सरकार का कहना है कि वर्तमान में अभी तक यह मानने का कोई भी कारण नहीं मिला है कि यह दोनों वैरिएंट्स की वजह से राज्यों के कुछ जिलों में मामलों में इजाफा हुआ है।

यह भी पढ़ें: कोरोना वैक्सीन 2 फेज: इन बीमारियों से जूझ रहे 45 साल से ज्यादा उम्र के मरीज को लगवाएंगेभारत में दूसरे देशों में मिले कोरोनावायरस के वैरिएंट्स ने भी चिंता बढ़ा दी है। नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने एक प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि देश में अब तक 187 लोग ब्रिटेन में मिले तनाव से बच गए हैं। वहीं, 6 मरीजों में दक्षिण अफ्रीका के स्ट्रेन का पता चला है। इनमें से एक मरीज में जेन के वैरिएंट से हानिकारक पाया गया है।

उन्होंने कहा कि ‘महाराष्ट्र में SARS-CoV-2 के दोनों वैरिएंट्स N440K और E484K मिले हैं। केरल और तेलंगाना में भी ये वैरिएंट्स पाए गए हैं। साथ ही ब्रिटेन, दक्षिण अफ्रीका और जेसन में तीनों देशों से मिले एक-एक वैरिएंट मौजूद हैं। ‘ उन्होंने कहा ‘लेकिन वैज्ञानिक सूचना के आधार पर हमारे पास इस बात को मानने का कोई भी कारण नहीं है कि, ये महाराष्ट्र और केरल के जिलों में मामले बढ़ने के लिए जिम्मेदार हैं।’







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments