Home मध्य प्रदेश एंट माफिया मुहिम: छात्रावास की बाउंडीवॉल तोड़कर माफिया ने कब्जा कर रखा...

एंट माफिया मुहिम: छात्रावास की बाउंडीवॉल तोड़कर माफिया ने कब्जा कर रखा था 2 करोड़ की जमीन, 20 मिनट में खाली कर दिया गया था


विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गोलमाल करनेवालाएक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

नगर निगम के मदाखत दस्ते ने जेसीबी मशीन चलाकर अतिक्रमण को ध्वस्त कर दिया

  • जिला प्रशासन ने मंगलवार को टर्मिनल रोड पर निशुल्क सरकारी जमीनों पर कब्जा कर लिया है
  • जल्द ही इस मामले में एफआईआर हो सकती है

श्रमोद्वय छात्रावास की बाउंड्रीवॉल तोड़कर कुछ बदमाशों ने 2 करोड़ रुपए की जमीन पर कब्जा कर रखा था। माफिया इस जमीन पर कॉलोनी काटने वाले थे। एंटी माफिया अभियान के तहत मंगलवार को जिला प्रशासन, पुलिस और मदाखलत दस्ते ने संयुक्त कार्रवाई कर जमीन को माफिया से मुक्त कराया।]पुलिस के पहुंचते ही माफिया वहां से भाग गए। सिर्फ 20 मिनट में पूरी जमीन मुक्त कराकर प्रशासन ने निगरानी में ले ली है। जल्द ही इस मामले में जिला प्रशासन की ओर से कुरपुरा थाना में एफआईआर की जा सकती है।

महाराजपुरा में टर्मिनल रोड पर श्रमोद्वय छात्रावास है। कुछ साल पहले 5 से 6 भू माफिया ने छात्रावास की बाउंड्रीवॉल तोड़कर जमीन पर कब्जा कर लिया था। लगभग एक हैल्प जमीन बदमाशों ने अपने कब्जे में कर ली थी। जिसे वह प्लॉट काटकर बेचने वाले थे। अभी हाल में जिला प्रशासन के पास इस जमीन की शिकायत पहुंची थी। शिकायत की पूरी जांच करने के बाद एंटी माफिया मुहिम के तहत मंगलवार को जिला प्रशासन, पुलिस और नगर निगम के मदाखलत दस्ते ने एक साथ कार्रवाई शुरू की। जैसे ही श्रमोद्वय छात्रावास के पास मंगलवार दोपहर पुलिस की हलचल बढ़ी तो माफिया समझ गए कि अब यहां कोई बड़ी कार्रवाई नहीं हो रही है। इसके बाद वहां से माफिया निकल गए। इसके बाद एडीएम व एंटी माफिया अभियान के नोडल अधिकारी आशीष तिवारी, एम्पापुरा थाना पुलिस के अफसर फोर्स सहित वीजा रोड पहुंचे। जमीन पर मद्खत दस्ते ने जेसीबी मशीन दौड़ाकर सरकारी जमीन को अतिक्रमण कारियों से मुक्त करा लिया। पूरी कार्रवाई में सिर्फ 20 मिनट का समय लगा। अब तोड़ी गई पाउण्ड्रीवॉल का वापस निर्माण जिला प्रशासन करेगा।

दो करोड़ रु रुपये है कीमत

मौके पर अतिक्रमण हटाने पहुंचे तहसीलदार शर्मा ने बताया कि जिस सरकारी जमीन पर भू-माफियाओं द्वारा कब्जा किया गया था, उसके बाजार में कीमत कलेक्टर गाइड लाइन के अनुसार लगभग 2 करोड़ रुपये है। जब ग्वालियर में कोरोना संक्रमण अपने पीक पर था तो उस समय श्रमोद्वय छात्रावास को जिला प्रशासन ने आइसोलेशन रिपोर्ट तैयार की थी।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments