Home कैरियर एफडी से ज्यादा मुनाफा देने वाली सरकार की नई स्कीम शुरू! हर...

एफडी से ज्यादा मुनाफा देने वाली सरकार की नई स्कीम शुरू! हर छह महीने में होगा फायदा, जानिए इसके बारे में सबकुछ


क्या है सरकार की फ्लोटिंग रेट सेविंग बॉन्ड्स स्कीम (2020)

सेविंग खाते और एफडी पर ब्याज दरें लगातार कम हो रही है. ऐसे में अगर आप किसी सेफ इन्वेस्टमेंट स्कीम में पैसा लगाना चाहते तो आपके लिए सरकार की नई फ्लोटिंग रेट सेविंग्‍स बॉन्‍ड, 2020 (टैक्‍सेबल) स्कीम एक अच्छा ऑप्शन हो सकती है. आइए जानें इसके बारे में…

नई दिल्ली.  1 जुलााई  से केंद्र सरकार (Government of India)  को फ्लोटिंग रेट सेविंग्‍स बॉन्‍ड, 2020 (टैक्‍सेबल) स्कीम निवेश के लिए खुल गई है है. इसमें पैसा लगाने वालों को 7.15 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा. इस स्कीम का खासियत इस पर मिलने वाला ब्याज है. केंद्र सरकार हर छह महीने में ब्याज दरें बदलेगी. जी हां, इसमें एकमुश्‍त के बजाय ब्‍याज का भुगतान हर छह महीने में होगा. अगर कोई अभी इन्वेस्ट करता है तो 1 जनवरी 2021 को इसकी ब्याज दरों में अगला बदलाव होगा. आपको बता दें कि इन बॉन्‍डों को आरबीआई बॉन्‍ड के बदले लॉन्‍च किया गया है. आरबीआई बॉन्‍ड को हाल में सरकार ने वापस ले लिया था. इन पर ब्‍याज की दर 7.75 फीसदी थी. बॉन्‍ड की पूरी अवधि के दौरान इसी दर से ब्‍याज ऑफर किया जाता था.

आइए जानें कौन और कैसे कर सकता है इसमें निवेश?

  • कैसे करें सरकार की नई  इस स्कीम में निवेश?

    ये बॉन्‍ड किसी भी सरकारी बैंक से खरीदे जा सकते हैं. इनके अलावा आईडीबीआई बैंक, एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक से भी इन्‍हें खरीदा जा सकता है. बॉन्डस् को केवल इलेक्ट्रॉनिक रूप में खरीदने की इजाजत है. बॉन्ड खरीदते ही ये निवेशक के बॉन्ड लेजर अकाउंट में ट्रांसफर हो जाएंगे. निवेशक चाहें तो नकदी में भी इन्‍हें खरीद सकते हैं. लेकिन उसकी अधिकतम सीमा 20 हजार रुपये है. इसके अलावा ड्रॉफ्ट, चेक और इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट मोड से बॉन्डों को खरीदा जा सकता है.

  • कितना पैसा लगाया जा सकता है?

    इस स्कीम में निवेश की अधिकतम सीमा नहीं है. कम से कम एक हजार रुपये से निवेश की शुरुआत होती है. इसके बाद एक हजार रुपये के मल्टीपल में पैसा लगाया जा सकता है.

  • क्या मैं इसमें पैसा लगा सकता हूं?

    देश में रहने वाला कोई भी व्‍यक्ति इसमें पैसा लगा सकता है. साथ ही, ज्‍वाइंट होल्डिंग सहित और एचयूएफ इसमें निवेश कर सकता है. लेकिन एनआरआई को ये बांड खरीदने की अनुमति नहीं है.

  • इस स्कीम में कब-कब मिलेगा ब्याज?

    जारी होने के बाद से इन बॉन्‍डों की अवधि सात साल की है. खास श्रेणी के वरिष्‍ठ नागरिकों को प्रीमैच्‍योर रिडेम्‍पशन की अनुमति है. जैसा कि नाम से साफ है, ये बांड फ्लोटिंग रेट प्रदान करते हैं. हर 6 महीने में 1 जनवरी और 1 जुलाई को ब्‍याज की दर बदलती रहेगी. पहला बदलाव 1 जनवरी, 2021 को होगा. एकमुश्‍त ब्‍याज के भुगतान का विकल्‍प नहीं है. इसका मतलब है कि बॉन्‍ड पर जिस दिन ब्‍याज देय होगा, उस दिन वह निवेशक के बैंक खाते में क्रेडिट कर दिया जाएगा. कूपन का रेट नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (एनएससी) के रेट से जुड़ा होगा.

  • क्या इसमें पैसा लगाने वालों को टैक्स छूट मिलेगी?

    यह टैक्स सेविंग बॉन्‍ड नहीं है. इसलिए इन बॉन्‍ड पर मिलने वाले ब्याज पर टैक्‍स लगेगा. आप जिस इनकम टैक्‍स स्‍लैब में आएंगे, उसी के अनुसार टैक्‍स देना होगा. इसके अलावा ब्‍याज आय पर टीडीएस (स्रोत पर कटौती) लागू होगा.

  • क्या बॉन्ड्स पर लोन लिया जा सकता है?

    इन बॉन्‍डों की ट्रेडिंग शेयर बाजार में नहीं की जा सकती है. न ही बैंक, वित्‍तीय संस्‍थान, एनबीएफसी इत्‍यादि से इन पर लोन लिया जा सकता है. -बॉन्‍डधारक नॉमिनेशन कर सकता है. -बॉन्‍डधारक की मौत होने पर नॉमिनी को इन्‍हें ट्रांसफर कर दिया जाएगा. ये खबर मनीकंट्रोल से हिंदी में अनुवाद की गई है. अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें




अगली ख़बर





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments