Home जीवन मंत्र कब्ज की समस्या से परेशान हैं तो इन घरेलू नुस्खों को आजमाएं,...

कब्ज की समस्या से परेशान हैं तो इन घरेलू नुस्खों को आजमाएं, तुरंत राहत मिलेगी


कब्ज के घरेलू उपचार: आज की लाइफ शेटाइल में कब्ज (कब्ज) की समसया आम हो गई है। आम तौर पर यह समसया दरअसल कई बीमारियों का कारण बनती जा रही है। बहुत ही कॉमन सी इस बीमारी को लोग हल्की में ले लेते हैं और तमाम समसया यहीं से शुरू हो जाते हैं। कई बार हम डॉक्टर की सलाह पर दवाइयों का सेवन भी करते हैं, लेकिन इनका असर भी जियादा दिनों तक नहीं रहता। कई बार ऐसी दवाईयां हमारे सेहत को भी नुकसान पहुंचाने लगती हैं। ऐसे में आयुर्वेद की मदद से हम पुराने कब्ज से छुटकारा पा सकते हैं। आयुर्वेद में कब्ज के लिए कई उपाय बताए गए हैं जिन्हेन लाइफ शेटाइल में शामिल कर हम आराम महसूस कर सकते हैं।

इसकी अच्छी बात यह है कि ये घरेलू नुस्केल्स (घरेलू उपचार) का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है। ऐसे में अगर हम कब्ज के उपचार में इन घरेलू नुसालों को अपनाते हैं तो यह हमारे पेट से जुड़ी अन्य समसयाओं को भी ठीक कर सकता है। बता दें कि कब्ज से तात्पर्य पेट की ऐसी समस्या से है, जिसमें व्यक्ति को मल त्याग (उत्सर्जन) करने में परेशानी होती है और उसे मल त्याग के समय काफी दर्द भी होता है, जिसके लिए उसे मेडिकल सहायता लेनी पड़ती है। इस स्थिति में मल (मल) सख्त और शुष्क हो जाता है, जो दर्द का कारण बन जाता है।

कब्ज दूर करने के घरेलू उपाय

– गर्म पानी में नींबू और कैस्टर ऑयल मिलाकर पीने से कब्ज में राहत मिलती है।-सुबह खाली पेट गुनगुने पानी में नींबू मिलाकर पिएं।

-रात को सोने से पहले गर्म दूध में कैस्टर ऑयल मिलाकर पियाऊँ।

– रात को सोने से पहले 1 गला दूध में 1 चम्मच शहद मिलाएं और धीरे धीरे पी लें।

– गर्म पानी में जीरा और काला नमक मिलाकर पियाऊँ।

यह भी पढ़ें: शेयरट्रॉन्ग इर्मयूनिटी तो पैक्टड फूड से बनाएं दूरी, नए शोध में हुआ खुलासा, जानें कारण

– त्रिफला को पानी में रातभर फुलाकर छोड़ दें, सुबह उस पानी का सेवन करें।

– ब्रेकफास्ट में पिपेट या अमरूद का सेवन करें।

– अंजीर को पानी में रातभर फुलाएं और सुबह खाली पेट खाएं।

– अंजीर को दूध के साथ भी पी सकते हैं। कुछ दिनों तक इसका उपयोग करें।

– रोज 6 से 7 गला पानी का सेवन करें।

यह भी पढ़ें: कहीं आपका स्किन को डिटॉक्स की जरूरत तो नहीं? जान

कब्ज का करता है कारण

– दिनभर कम पानी का सेवन करना।

– ज्यादा तेल-मसाले का सेवन करना।

– लगातार एक जगह पर बैठे रहना।

– संतुलित मात्रा में खाना नहीं खाना।

– पेन किलर का ज्यादा इस्तेमाल।

– भोजन में Fi कम लेना। (अस्वीकरण: इस लेख में दी गई जानकारी और सूचना सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं। हिंदी समाचार 18 इनकी पुष्टि नहीं करता है। ये पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें।)





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments