Home देश की ख़बरें कांग्रेस में सोनिया-राहुल के खिलाफ खुली बगावत? आजाद के समर्थन में...

कांग्रेस में सोनिया-राहुल के खिलाफ खुली बगावत? आजाद के समर्थन में लामबंद हुए ‘जी -23’ के नेता


बडे़ नेताओं ने कांग्रेस को लेकर खुलकर अपनी नाराजगी जाहिर की है।

जी -23 मीठ जम्मू: बीते साल ये कांग्रेस (कांग्रेस) के नेताओं ने पार्टी के नेतृत्व से तत्काल निर्णय लेने और andnatkably पर बदलाव करने की मांग की थी। सूत्र बताते हैं कि उस कार्यक्रम में शामिल लोग राज्यसभा से विदा हुआ नेता आजाद के साथ हुए व्यवहार से नाराज हैं।

  • News18Hindi
  • आखरी अपडेट:27 फरवरी, 2021, 3:23 PM IST

जे। बीते साल अगस्त में कांग्रेस नेतृत्व के खिलाफ नाराजगी जाहिर करने वाले जी -23 समूह के कुछ नेता एक बार फिर जम्मू (जम्मू) में इकट्ठे हुए हैं। शनिवार को आयोजित शांति सम्मेलन में पार्टी के गुलाम नबी आजाद (गुलाम नबी आजाद), कपिल सिब्बल (कपिल सिब्बल) सहित कई बडे नेताओं ने कांग्रेस को लेकर खुलकर अपनी नाराजगी जाहिर की है। खास बात यह है कि बीते साल इन नेताओं ने पार्टी नेतृत्व से तत्काल निर्णय लेने और andnatkably पर बदलाव करने की मांग की थी। साथ ही सूत्र बताते हैं कि इस कार्यक्रम में शामिल लोग राज्यसभा से विदा हुआ नेता आजाद के साथ हुए व्यवहार से नाराज हैं।

जम्मू में आयोजित शांति सम्मेलन में आनंद शर्मा, मनीष तिवारी, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भुपिंदर सिंह हुड्डा, विवेक तन्खा और राज बब्बर जैसे कई कांग्रेसी दिग्गजों ने शिरकत की। शर्मा ने खुले शब्दों में कह दिया है कि कोई हमें बता नहीं सकता कि हम कांग्रेसी हैं या नहीं। उन्होंने कहा कि ‘जो कांग्रेस मे हैं महात्मा गांधी के विचार को मानते हैं, उनके अंदर साहस ना हो सच बोलने की ये कैसी हो सकती है।’

उन्होंने कहा ‘पिछले एक दशक मे कांग्रेस कमजोर हुई है, हम नहीं चाहते कि ज्यों-ज्यों हमारी उम्र बढे़ हम कांग्रेस को कमजोर देखें, हममें से कोई उपर से नहीं आए, खिड़की दरवाजे से नहीं आए-हम छात्र आंदोलन से आये, ये अधिकार मैंने किसी को नहीं दिया कि हमे बता दें कि हम कांग्रेसी हैं या नहीं। ‘

माना जा रहा है कि कार्यक्रम में शामिल होने वाले नेता गुलाम नबी आजाद के साथ वहां बर्ताव से खासे नाराज हैं। वरिष्ठ नेता और वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि ‘मुझे समझ नहीं आ रहा है कि कांग्रेस पार्टी गुलाम नबी आजाद के अनुभव का उपयोग क्यों नहीं कर रही है।’ वहीं, तिवारी ने बताया कि वे सब यहां ग्लोबल फैमिली के बुलावे पर जम्मू में इकट्ठे हुए हैं। अभिनेता से राजनेता बने राज बब्बर ने कहा ‘लोग कहते हैं जी -23 मैं कहता हूं गांधी 23, जी -23 कांग्रेस की भलाई चाहता है, आजाद साहब की यात्रा अभी खत्म नहीं हुई है आधी भी नहीं हुई है।’

पार्टी ने आजाद को नहीं दिया सम्मान

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार जी -23 समूह के एक नेता ने कहा ‘जब दूसरी पार्टियां आजाद को सीट की पेशकश कर रही हैं, प्रधानमंत्री ने उनके बारे में इतना अच्छा कहा। हमारी पार्टी पार्टी के नेतृत्व ने उन्हें कोई सम्मान नहीं दिया। ‘ खास बात यह है कि कई वरिष्ठ नेताओं को पार्टी ने दरकिनार करते हुए मल्लिकार्जुन खड़गे को विपक्षी का नेता बनाया है। पार्टी नेतृत्व के इस फैसले के कारण जी -23 के नेताओं की नाराजगी बढ़ गई है और बढ़ गई है।







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments