Home मध्य प्रदेश कैट के भारत बंद काे मिला समर्थन: दिखी व्यापारिक एकजुटता, ज्यादातर दुकानें...

कैट के भारत बंद काे मिला समर्थन: दिखी व्यापारिक एकजुटता, ज्यादातर दुकानें बंद रहीं, 50 करोड़ का कारोबार ठप रहा


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जबलपुर4 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

व्यापारियों के समर्थन में व्यापारियों ने दुकानें बंद रखीं।

  • जीएसटी नियमावली में परिवर्तन के विरोध में व्यापारियों ने बंद रखा
  • पेट्रोल पंप वालों ने काला पट् टी से किया विरोध, खुले रखे पंप

जीएसटी नियमावली में परिवर्तन सहित अन्य व्यवसायिक विसंगतियों को लेकर कॉन्फेडरेशन आफ इंडया ट्रेडर्स (कैट) के भारत बंद को आज व्यापक समर्थन मिला। सराफा, फुहारा, सदर, गोरखपुर, गढ़ा सहित ज्यादातर बाजार बंद रहे। मार्कर खुद इस बंद की अगुवाई कर रहे थे। सभी मार्कर संगठन और चेम्बर ऑफ वर्कर्स के सदस्य लगातार बैठकें कर इस बंद को सफल बनाने में जुटे थे। कुछ स्थानों पर दुकानें खुली और आधी बंद रहीं। शाम को जरूर पार्किंग में कुछ रौनक दिखी।

शहर में व्यापारियों का बंद सफल रहा।

शहर में व्यापारियों का बंद सफल रहा।

जानकारी के अनुसार कैट ने इस भारत बंद में आवश्यक सेवाओं को मुक्त रखा था। पेट्रोल पंप खुला रहा, लेकिन वे काले पट् टी बांधकर सांकेतिक विरोध में शामिल रहे। दोनों चेम्बर सहित सभी संगठनों की ओर से बताया गया कि जीएसटी नियमावली में संशोधन व्यापारियाें के लिए मुश्किलें खड़ी हो जाएंगी। जीएसटी नियम के उल्लंघन पर बैंक खाता और सम्पत्ति रखने को सही नहीं है। व्यापारी संगठनों के रवि गुप्ता, शंकर नागदेव, प्रेम दुबे, हिमांशु खरे, राधेलाल अग्रवाल, अनुराग गढ़ावाल सहित अन्य ने बंद कराने में शामिल रहे।

फुहारा क्षेत्र में इस तरह बंद होने वाली दुकानें।

फुहारा क्षेत्र में इस तरह बंद होने वाली दुकानें।

पोर्टल खोला नहीं गया
व्यापारियों ने बंद को समर्थन देते हुए जीएसटी की नई नियमावली का विरोध जताया और जीएसटी का पोर्टल नहीं खोला। बुलेट और रिटेल बाजार पर बंद का ज्यादा असर रहा। एक अनुमान के मुताबिक बंद से लगभग 50 करोड़ के कारोबार का नुकसान हुआ है। व्यापारियों का आरोप था कि सरकार जीएसटी को सरल बनाने की बजाय और नियमों काे कड़े करने में जुटी है। डिफ़ॉल्ट रूप से मानवीय स्वभाव है। पर जीएसटी भरने में छोटी सी संभावना व्यापारियों पर भारी पड़गी।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments