Home मध्य प्रदेश कैनवास पर उतारा नेताजी का जीवनवृत्त: 125 वीं जयंती पर नेताजी के...

कैनवास पर उतारा नेताजी का जीवनवृत्त: 125 वीं जयंती पर नेताजी के संर्घषों को 400 मीटर कैनवास पर उतार रहे देश भर के कलाकार, 1939 त्रिपुरी अधिवेशन की शब्दावली हो जाएगींगी ताजा


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जबलपुरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

400 मीटर कैनवास पर राष्ट्रपिता और नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आकृति को कैनवास पर उतारते कलाकार।

  • एनजीएमए के तत्वावधान में गोलबीर में देश भर के कलाकार नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जीवन यात्रा को ध्यान में रखते हुए।
  • संस्कारधानी के रोम-रोम में बसे नेताजी की 125 वीं जयंती पर जबलपुर फिर से लिखने का स्वर्णिम इतिहास रहा है

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125 वीं जयंती पर जबलपुर एक बार फिर स्वर्णिम इतिहास लिख रहा है। संस्कारधानी के रोम-राेम में निवासी नेताजी का पूरा जीवन वृत्त 400 मीटर लंबे कैनवास पर उतारा जा रहा है। राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय (एनजीएमए), संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार के तत्वाधान में देश भर के कलाकार उनके संघर्षों और जीवन के अनमोल क्षणों को चित्रित करने वाले हैं।

जबलपुर के शहीद स्मारक गोलाबाजार में नर्मदा की लहरों की तरह कैनवास पर राष्ट्रनायक नेताजी सुभाष चंद्र बोस का समग्र जीवनवृत्त उतारा जा रहा है। एनजीएमए के महानिदेशक अद्वैत गड़नायक के मुताबिक दो मार्च से 400 मीटर कैनवास पर स्थानीय, प्रादेशिक, राष्ट्रीय व आंतरिक ख्याति के बेहतरीन चित्रकार और फाइन आर्ट स्टूडेंट्स अपनी प्रतिभा का परिचय दे रहे हैं। पांच मार्च तक चलने वाले इस आयोजन में केंद्रीय संस्कृति एवं पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), प्रहलाद सिंह पटेल की अगुवाई में इसका आयोजन हो रहा है।
कूंची-कल्पना-कौशल का कमाल
गोलसरार के गोलाकार प्रांगण में वृत्तनुमा कैनवास पर कूंची-कल्पना-कौशल का कमज़ोर आने वाला। इंदौर से आईं गर्वंमेंट इंस्टीट्यूट ऑफ फाइन आर्ट से डाक्टरेट समिधा पालीवाल अपनी टीम के सदस्यों विशाल हंस, लोकेशेक, शुचि, रितेश, दुर्गेश, पूजा सहित अन्य के साथ नेताजी के व्यक्तित्व-कृत्तिव: स्लाइड कर रहे थे।
हर उम्र के कलाकार दिखा रहे हुनर
वहीं दूसरी ओर शांतिनिकेतन व खैरागढ़ से फाइन आर्ट की शिक्षा पूरी करने वाले रवींद्र राय भी अपनी टीम के साथ श्वेत आधार पर रेखांकन कर रंग भरने में दत्तचित्त दिखे। नेताजी के जीवन को चित्रांकन के माध्यम से साकर करने वाले कलाकारों में हर उम्र हुनर ​​देखने को मिल रहे हैं। सभी अपनी थीम के हिसाब से अपने भीतर की रचनात्मकता, सौंदर्यबोध, ऊर्जा और कलात्मकता का प्रदर्शन करने में जुटे हैं।

नेताजी के जीवन से जुड़े हर महत्वपूर्ण क्षण को रंगों से आकार देने में जुटे कलाकार।

नेताजी के जीवन से जुड़े हर महत्वपूर्ण क्षण को रंगों से आकार देने में जुटे कलाकार।

भारतीय इतिहास का निर्णायक मोड़ त्रिपुरी अधिवेशन था
जब सभी कैनवास अपने ऊपर उकेरे चित्रों की समग्रता से स्पष्ट जाएंगे, तब एक नजर में नेताजी का संपूर्ण जीवन आंखों के सामने झलक उठेगा। साथ ही 1939 के त्रिपुरी अधिवेशन की शब्दावली भी ताजा हो जाएगी, जिसमें नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के प्रत्याशी ट्रिब्यूट सीतारमैया को परजित कर अखिल भारतीय कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए चुने गए थे। इस जीत ने भारतीय राजनीति को ऐतिहासिक मोड़ दे दिया था। जबलपुर सेंट्रल जेल में ही नेताजी को अंग्रेजों ने भी रखा था।

तस्वीरों में कैनवास पर नेताजी का जीवन वृत्त देखें

नेताजी के जीवन वृत्त को कैनवास पर उता रहे कलाकार।

नेताजी के जीवन वृत्त को कैनवास पर उता रहे कलाकार।

125 वीं जयंती पर संस्कारधानी याद कर रही देश के वीर सपूत को।

125 वीं जयंती पर संस्कारधानी याद कर रही देश के वीर सपूत को।

देश के हर प्रांत से पहुंचे कलाकार कल्पना को दे रहे आकार।

देश के हर प्रांत से पहुंचे कलाकार कल्पना को दे रहे आकार।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के विविध स्वरूप को जीवंत कर रहे कलाकार।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के विविध स्वरूप को जीवंत कर रहे कलाकार।

गोलसरार शहीद स्मारक में 400 मीटर कैनवास पर उतर रहा जीवन वृत्त।

गोलसरार शहीद स्मारक में 400 मीटर कैनवास पर उतर रहा जीवन वृत्त।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments