Home देश की ख़बरें कोरोना में गणतंत्र दिवस: 26 जनवरी की परेड में 5 गुना कम...

कोरोना में गणतंत्र दिवस: 26 जनवरी की परेड में 5 गुना कम दर्शक होंगे, परेड का रूट भी 8 से बारिशकर 3 किमी दूर गया


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली23 मिनट पहलेलेखक: मुकेश कौशिक

  • कॉपी लिस्ट

गणतंत्र दिवस समारोह में भीड़ नियंत्रित करने के लिए टिकटों की बिक्री और विशेष अतिथि पास की संख्या बेहद कम कर दी गई है। -फाइल फोटो।

कोरोनाकाल में देश 2021 के गणतंत्र दिवस को अलग तरीके से मनाएगा। इस बार विजय चौक से राजपथ पर निकलने वाली मुख्य परेड बेहद सीमित रहेगी। परेड का आयोजन करने वाले रक्षा मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि अमूमन परेड देखने के लिए पचास लाख लोग आते हैं। लेकिन, कोरोना के नेतृत्व में इस बार केवल 25 हजार लोगों को ही आने दिया जाएगा। परेड से लेकर रिंगटोन ela और VVIP की संख्या में भारी कमी की जाएगी।

ब्रिटेन के प्रधान बाबरी जानसन गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि होंगे। यह 6 वां मौका है जब गणतंत्र दिवस पर ब्रिटेन के मुख्य अतिथि मौजूद रहेंगे। सूत्रों ने बताया कि गणतंत्र दिवस समारोह में भीड़ नियंत्रित करने के लिए टिकटों की बिक्री और विशेष अतिथि पास की संख्या बेहद कम कर दी गई है। आंकड़ों के माध्यम से यह समझा जा सकता है कि ..

काउंटर से सिर्फ 4500 टिकटों की बिक्री
इस बार केवल 4 काउंटरों से गणतंत्र दिवस कार्यक्रम के टिकट के लिए निधन होगा। कुल 4500 से अधिक टिकट नहीं बेचे जाएंगे। 2020 की गणतंत्र दिवस की परेड में 32 हजार टिकटों की बिक्री हुई थी। दिल्ली में 8 तरह के केंद्रों से टिकट बिक्री हुई थी। मीडियाकर्मियों और उनके परिजन के लिए 5000 से ज्यादा पास जारी होते हैं, लेकिन इस बार सिर्फ 300 पास दिए गए हैं।

ज़ैर्किस की संख्या में कटौती नहीं
परेड में निकलने वाली झांकियों में कटौती नहीं की गई है। इस बार 16 राज्यों और 6 केंद्रीय विभागों की झांकियां परेड में शामिल होंगी। लेकिन, सेना और अर्धसैनिक बलों की मार्चिंग टुकड़ियों में जवानों की संख्या भी कम रहेगी। इस बार केवल चार स्कूलों की दो डांस टोलियां को इजाजत दी गई है। पिछली परेड में 8 स्कूलों की भागीदारी थी।

परेड नेशनल स्टेडियम तक ही होगा
गणतंत्र दिवस की परेड राजपथ से मार्च करती हुई लालकिला पर समाप्त होती थी। इस बार इंडिया गेट के नेशनल स्टेडियम पर ही इसे समाप्त कर दिया जाएगा। यानी परेड का रास्ता 8 से आठ कर 3 किलोमीटर कर दिया गया है।

बांग्लादेश का बैंड शामिल होगा
पड़ोसी देश बांग्लादेश अपनी आजादी की स्वर्ण जयंती के मौके पर गणतंत्र दिवस समारोह में अपनी सेना का बैंड भेज रहा है। 1971 के युद्ध में भारतीय सेना की महत्वपूर्ण भूमिका के कारण ही बंगलादेश को पाकिस्तानी से मुक्ति मिली थी।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments