Home ब्लॉग क्लिकिंग का आकर्षण: अमेरिका में कैपिटल गेंस टैक्स का नियम बदल गया...

क्लिकिंग का आकर्षण: अमेरिका में कैपिटल गेंस टैक्स का नियम बदल गया तो भारतीय शेयर बाजारों में विदेशी निवेश बढ़ा


  • हिंदी समाचार
  • व्यापार
  • विदेशी निवेश बढ़ेगा भारतीय स्टॉक मार्केट्स में अगर अमेरिका में कैपिटल गेन्स टैक्स के नियम बदल गए हैं

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

19 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

अमेरिका में शेयरों से होने वाले उस मुनाफे पर भी कैपिटल गेंस टैक्स लगाने का प्रस्ताव किया गया है, जो निवेश में दिख तो रहा होगा लेकिन भुनाया नहीं गया होगा। वित्त मंत्री जेनेट येलेन के इस प्रस्ताव के लागू होने से एफआईआई यानी विदेशी निवेशकों को भारतीय बैंकों में ज्यादा निवेश करने को बढ़ावा मिल सकता है।

जानकारों का कहना है कि अनिरियल्द्ड कैपिटल गेन पर टैक्स लगाए जाने पर बड़े अमेरिकी फंड्स के लिए अपने देश में पैसे लगाए रखना फायदेमंद नहीं रहेंगे। इसको देखते हुए भारत जैसे देश के शेयर बाजारों में उनका निवेश बढ़ सकता है।

एफआईआई ने 2020 में २२.५ है अरब डॉलर यानी 1.7 लाख करोड़ रुपये लगाए गए

इकोनॉमिक रिकवरी उम्मीद से ज्यादा तेज होने के कारण घरेलू शेयर विमानों ने पिछले एक साल में जोरदार रिटर्न दिया है। विदेशी संस्थागत अधिकारियों ने कैलेंडर ईयर 2020 में घरेलू शेयर बाजार में 22.5 अरब डॉलर यानी 1.7 लाख करोड़ रुपये लगाए थे। भारत पर उनका भरोसा बना हुआ है और वे इस कैलेंडर ईयर में अब तक यहां के शेयर बाजार में 43,770 करोड़ रुपये का नेट इनवेस्टमेंट कर चुके हैं।

फाइनेंशियल सहित और कई सेक्टर में लग सकता है अमेरिका से आने वाला निवेश

एचडीएफसी सिक्योरिटीज के रिटेल रिसर्च हेडक जासानी कहते हैं, ‘अमेरिका में कैपिटल गेंस टैक्स में प्रस्तावित बदलाव लागू होने पर कुछ निवेश निकलकर भारत सहित दूसरे देशों में होगा। वहां से भारतीय बाजार में आने वाली रकम फाइनेंशियल सेक्टर सहित और कई सेक्टर में लग सकती है। ‘

घरेलू बाजार की संभावनाओं में सुधार, कैपिटल गेंस टैक्स का नया नियम फायदेमंद

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के रिटेल रिसर्च हेड सिद्धार्थ खेमका कहते हैं, ‘घरेलू शेयर बाजार की संभावनाओं में काफी सुधार है। इसे अमेरिका में कैपिटल गेंस टैक्स का नया नियम बनने से फायदा होगा। ‘

मैक्रो इकोनोमिक फैक्टर्स दे सकते हैं शेयरों में अमेरिकी फंडों के निवेश को बढ़ावा

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के रिसर्च हेड विनोद नायर कहते हैं, ‘इसके (कैपिटल गेंस टैक्स) असर के बारे में अभी तक कुछ कहना जल्दबाजी होगी, क्योंकि अभी तक उस पर ठोस काम नहीं हुआ है। लेकिन वह भारत के लिए सकारात्मक होगा। ‘

दरअसल, भारतीय इकोनॉमी में उम्मीद से तेज रिकवरी हुई है और मार्च क्वॉर्टर के नतीजे ठोस रहने का अनुमान है। इसके अलावा देश में टीकाकरण अभियान जोरों से चल रहा है। ये सबसे घरेलू बाजार में विदेशी निवेश तेज हो सकता है।

लॉकडाउन से आई तेज गिरावट के बीच विदेशी निवेशकों ने सस्ते में खूब शेयर खरीदे थे

2020 में जब कोरोनावायरस पर ओवर पाने के लिए जो लॉकडाउन लगाया गया था, तब उसे घरेलू शेयर बाजार में आई तेज गिरावट के बीच विदेशी निवेशकों ने सस्ते दाम में खूब शेयर खरीदे थे। पढ़ाई में इकोनॉमी को बढ़ावा देने की सरकार कयनों के बीच ब्याज दरों में कमीकर लगभग शून्य के लगभग होने से बाजार में पैसों की बाढ़ आ गई थी। इससे भी भारतीय शेयर बाजार में विदेशी निवेश को बढ़ावा मिला था।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments