Home देश की ख़बरें गुजरात के बजट में न कोई नया टैक्स और न ही मौजूदा...

गुजरात के बजट में न कोई नया टैक्स और न ही मौजूदा टैक्स में वृद्धि


अहमदाबाद। गुजरात (गुजरात) के उप-मुख्यमंत्री नितिन पटेल (नितिन पटेल) ने बुधवार को राज्य का वर्ष 2021- 22 के लिए 2,27,029 करोड़ रुपये का बजट विधानसभा में पेश किया जिसमें 59 प्रतिशत आवंटन विकास कार्यों के लिए किया गया है। पटेल ने बजट भाषण पढ़ते हुए कहा कि राज्य की अर्थव्यवस्था को विभाजित- 19 महामारी के प्रभाव से उबर रही है। पटेल उप- मुख्यमंत्री होने के साथ साथ राज्य के वित्‍त मंत्री भी हैं। उन्होंने बजट पेश किया कोई नया कर नहीं लगाया गया और न ही कोई मौजूदा कर बढ़ाया गया है। बजट अनुमानों में वित्त वर्ष के दौरान 587.88 करोड़ रुपये का अधिशेष रहने का अनुमान लगाया गया है। राज्य का राजकोषीय घाटा जो कि वित्त वर्ष 2019-20 में सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) का 1.49 प्रतिशत रहा। वर्ष 2020-21 में यह घाटा तेजी से बढ़कर 3.10 प्रतिशत पर पहुंच गया। वर्ष के दौरान महामारी की वजह से सरकारी खर्च अधिक हुआ जबकि राजस्व प्राप्ति में काफी कमी आई।

पटेल ने चालू वित्त वर्ष के दौरान जीएसटी प्राप्ति में आ रहे सुधार को हवाला देते हुए कहा कि 2020- 21 की पहली तिमाही में जीएसटी की प्राप्तियां पिछले साल की तुलना में 40 प्रतिशत कम रहीं। दूसरी तिमाही में वसूली सुधरी और कमी 15 प्रतिशत रही और तीसरी तिमाही में जीएसटी राजस्व एक साल पहले के पांच प्रतिशत से अधिक रहा। राज्य की राजस्व प्राप्ति जनवरी 2021 में 3,413 करोड़ रुपये रही जो अब तक किसी एक महीने में सबसे अधिक थी। फरवरी में यह और 3,514 करोड़ रुपये से अधिक हो गया। पटेल ने कहा, ” राज्य की अर्थव्यवस्था सुधार के रास्ते पर है। जीएसटी राजस्व में वृद्धि से आर्थिक सुधार को लेकर उत्साहवर्धक संकेत मिल रहे हैं। ”

ये भी पढ़ें गुजरात निकाय चुनाव: ग्रामीण क्षेत्रों में जीत पर पीएम मोदी ने कहा- विश्वास के लिए लोगों को नमन

देश में प्राप्त कुल प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का 53 प्रतिशत गुजरात ने आकर्षित कियाउन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक से 9,200 करोड़ रुपये का कर्ज मिलने के बावजूद राज्य को जीएसटी के मामले में 8,000 से 9,000 करोड़ रुपये की कमी का सामना करना पड़ेगा। एक अधिकारी ने कहा, ” गुजरात को जीएसटी परिषद से 25,000 करोड़ रुपये मुआवजे के तौर पर मिलने थे। इसमें से 9,200 करोड़ रुपये की राशि ऋण के तौर पर उपलब्ध कराई गई है। इसमें 6,000 करोड़ रुपये उपकार के तौर पर प्राप्त होंगे इस प्रकार 8,000 से 9,000 करोड़ रुपये तक का घाटा रहेगा। ” पटेल ने दावा किया कि अप्रैल – सितंबर 2020 के बीच गुजरात ने 1.19 लाख करोड़ रुपये का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश आकर्षित किया। यह देश में प्राप्त कुल एफडीआई का 53 प्रतिशत है।

ये भी पढ़ें गुजरात निकाय चुनाव: केजरीवाल और ओवैसी की पार्टी ने 59 सीट जीतकर बिगाड़ा कांग्रेस का खेल

एक लाख करोड़ रुपये के आवंटन के साथ ‘वन बंधु कल्याण योजना’
पटेल ने बजट में पांच साल के लिए एक लाख करोड़ रुपये के आवंटन के साथ ‘वन बंधु कल्याण योजना’ के दूसरे संस्करण की शुरुआत की भी घोषणा की। यह योजना वर्ष 2007 में तब के राज्य के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने की थी। वहीं मछुआरों के लिए सागर खेडू योजना -2 के तहत पांच साल के लिए 50,000 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। पटेल ने यह भी घोषणा की कि पांच साल के दौरान विभिन्न सरकारी विभागों में दो लाख युवाओं को नियुक्त किया जाएगा। इसके साथ ही एक नई योजना के लिए 100 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है जिसमें किसानों और कंपनियों को 50,000 एकड़ बंजर भूमि की फसलों को उगाने के लिए फसल पर दी जाएगी। बजट में शास्त्रीय महत्व के पुराने विद्यालयों की मरम्मत और उन्हें सुरक्षित बनाने के लिए 25 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। इन विद्यालयों को ” विरासत स्कूल ” के तौर पर विकसित किया जाएगा। राज्य में को विभाजित- 19 टीकाकरण के लिए एक विशेष टीका प्रकोष्ट स्थापित किया जाएगा। इसके लिए तीन करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। इसके तहत राजय के नौ नए जिलों में टीका स्टोर स्थापित किए जाएंगे।

श्रमिकों के लिए मकान बनाने की एक नई योजना ” मसीहा ”

बजट में शहरी विकास और आवास विभाग के लिए 13,493 करोड़ रुपये का कोष घोषित करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के तहत 900 करोड़ रुपेय का आवंटन किया जाएगा जिसमें 55,000 नए आवास बनाए जाएंगे जाएंगे। बजट में इसके अलावा श्रमिकों के लिए मकान बनाने की एक नई योजना ” मसीहा ” की भी घोषणा की गई है। ई- वाहनों को प्रोत्साहन देने के लिए 26 करोड़ रुपये तय के लिए रखे गए हैं। राज्य में दो मेगा टैक्सटाइल पार्क की भी योजना बनाई गई है। इसमें भरूच में दवा औद्योगिक पार्क और राजकोट जिले में चिकित्सा उपकरण पार्क बनाया जाएगा। राज्य में स्टच्यू आफ यूनिटी क्षेत्र के विकास के लिए 652 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है। राज्य में अहमदाबाद, सोमनाथ, अंटिंग, द्वारका, सुतारा और गीर में हेलीपोर्ट विकसित करने के लिए तीन करोड़ रुपये का आवंटन किया जाएगा।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments