Home तकनीक और ऑटो गुप्त मोड में भी आपके डेटा पर नजर रखता है Google! ...

गुप्त मोड में भी आपके डेटा पर नजर रखता है Google! जज बोले- यह परेशान करने वाला


इंकॉग्निटो मोड भी सेफ नहीं है? सांकेतिक फोटो (पिक्साबे)

यूजर्स की ओर से कोर्ट में मौजूद वकील अमांडा बॉन ने जजाह को बताया कि Google (Google) के अनुसार प्राइवेट व्यूंजिंग मोड यूजर्स को उनके डेटा पर अधिक नियंत्रण देता है।

  • News18Hindi
  • आखरी अपडेट:27 फरवरी, 2021, 8:48 AM IST

चार्ल्सटन। Google यूजर्स जब इंकाग्निटो मोड (गुप्त मोड) में शेयरिंग करते हैं तो क्या वास्तव में उनकी एक्टिविटी छिपी रहती है? Google की पैरेंट कंपनी अल्फ़ाबेट इंक की एक इकाई का कहना है कि क्रोम में इंकॉनाइटिटो मोड में एक्सपोज़र या अन्य ब्राउज़र्स में ‘प्राथमिक शेयरिंग’ का मतलब है कि कंपनी ‘आपकी एक्टिवटी को का डेटा नहीं रखगी।’ हालांकि एक जज ने गुरुवार को इस मामले में Google की याचिका पर संदेह जाहिर किया।

अरब स्थित सैन होज़े में एक परीक्षण के दौरान अमेरिकी डिस्ट्रिक्ट जज लुसीह ने कहा कि वह Google के डेटा कलेक्शन प्रैक्टिस से ‘परेशान’ हैं। कोह की कोर्ट के समक्ष आए एक मामले में कहा गया है कि कंपनी द्वारा प्राथमिक निवेशों के दावे को केवल छल हैं। इस मामले में उन लोगों के लिए 5,000 डॉलर का मुआवजे की मांग की गई है, जिनकी गोपनीयता से कथित तौर पर जून 2016 से लेकर अब तक यह समझौता हुआ है।

Google की अपील पासकिनार
इस मामले को खारिज करने की गूगल की अपील को दरकिनार करते हुए कोह ने कहा कि यह ‘असामान्य’ है कि कंपनी डेटा संग्रह का ‘अतिरिक्त प्रयास’ कर रही है। इस मामले में Google पर आरोप है कि वह वेबसाइटों के भीतर अपने कोड के पीस के आधार पर यूजर्स की कथित मुख्य वित्तीय पैकेजिंग हिस्ट्री के लिए विश्लेषकोंिटिक्स और एड एजेंसियों का इस्तेमाल करते हैं। साथ ही इसकी कॉपी Google के सर्वर को भेजते हैं। युजर्स की ओर से कोर्ट में मौजूद वकील अमांडा बॉन ने जजाह को बताया कि Google के अनुसार प्राथमिक व्यूंजिंग मोड यूजर्स को उनके डेटा पर अधिक नियंत्रण देता है। वास्तविकता यह है कि Google कह रहा है कि बहुत ही कम तरीकों से डेटा कलेक्ट करने से रोका जा सकता है।

Google के वकीलों ने क्या कहा?

Google के वकील पेज शापिरो ने कहा कि कंपनी की गोपनीयता नीति इसके प्रैक्टिस के बारे में स्पष्ट जानकारी देती है। इस मामले में डेटा कलेक्शन का खुलासा किया गया है। ‘

Google के ही एक अन्य वकील स्टीफन ब्रूम ने कहा कि विश्लेषकोंिटिक्स या अन्य सेवाओं का उपयोग करने के लिए कंपनी के साथ कॉन्ट्रैक्ट करने वाले वेबसाइट मालिक हमारे डेटा कलेक्शन के बारे में अच्छी तरह से जानते हैं। थ ने कंपनी के वकीलों से कहा, ‘मैं Google से एक घोषणापत्र चाहतां हूं कि वे बताते हैं कि अदालत की वेबसाइट पर यूजर्स की कौन सी जानकारी इकट्ठा कर रहे हैं और इसका क्या उपयोग किया जा रहा है।’







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments