Home अन्तराष्ट्रीय ख़बरें चीन के रास्ते पर म्यांमार आर्मी: दानव समर्थकों को दबाने के लिए...

चीन के रास्ते पर म्यांमार आर्मी: दानव समर्थकों को दबाने के लिए ड्रोन और स्पायवेयर का इस्तेमाल किया; 30 दिन में 25 प्रदर्शनकारी मारे गए


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • म्यांमार सैन्य तख्तापलट, नवीनतम समाचार और अपडेट का विरोध; 25 लोगों को मार डाला, 1000 से अधिक का पता लगाया, जिसमें दाऊ आंग सान सू की भी शामिल थीं

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चार्ल्सटन / नेडेटॉ14 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

म्यांमार की सेना घुसपैठियों के खिलाफ घातक हथियारों और सर्विसेजलांस टेक्नोलॉजीज का इस्तेमाल कर रही है।

म्यांमार में लोकतांत्रिक सरकार के तख्तापलट को एक महीना हो चुका है। सेना के दमन के बावजूद डेमोक्रेटिक की मांग कर रहे प्रदर्शनकारी पीछे हटने के लिए तैयार नहीं हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अब तक 25 लोग सेना की फायरिंग में मारे जा चुके हैं। म्यांमार की सेना आंदोलन को दबाने के लिए उस तकनीक का इस्तेमाल कर रही है जो उसने सरहनों को महफूज रखने के लिए हासिल की थी।

चीन की सेना ने हॉन्गकॉन्ग और शिनज अभ्यास में लोकतंत्र समर्थकों की आवाज दबाने के लिए इन्ही जासूसी उपकरणों और घातक हथियारों का इस्तेमाल किया था और अब भी कर रही है।

इजराइली ड्रोन और स्पायवेयर
म्यांमार मिलिट्री इजराइली सर्विसेजलांस ड्रोन, यूरोपियन iPhone क्रेकिंग डिवाइस और अमेरिका में बने उन सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर रही है, जो हैकिंग में काम आते हैं। इसके अलावा इलेक्ट्रॉनिक्स और टेलिकम्युनिकेशन अपग्रेडिंग के जरिए भी आंदोलन का दमन किया जा रहा है ताकि देश में जो कत्लेआम हो रहा है, वह दुनिया तक न पहुंच पाया। तकनीक के उपयोग के साथ ही सेना ने क्रूरता की तमाम हदें पार कर ली हैं।

चीन, सऊदी अरब और मैक्सिको भी यही करते हैं
टेक्नोलॉजीज का इस्तेमाल अवाम की बेहतरी और उनके दमन दोनों में किया जा सकता है। म्यांमार में वर्तमान में यहां की सेना वही कर रही है जो चीन, सऊदी अरब या मैक्सिकों की सरकारें पहले से करती हैं। प्रदर्शनकारी दुनिया तक अपनी आवाज पहुंचाने के लिए टेक्नोलॉजीज का इस्तेमाल कर रहे थे। अब सेना इसका इस्तेमाल दमन के लिए कर रही है।

न्यूयॉर्क टाइम्स ने म्यांमार के दो साल के बजट डॉक्यूमेंट्स की जांच की। इससे लगता है कि आर्मी ने सबसे ज्यादा खर्च सेवाओंलांस टेक्नोलॉजीज हासिल करने पर किया।

इजराइल ने 2018 में म्यांमार को सैन्य सामग्री बेचने पर रोक लगा दी थी। तब तक सेना पर रोहिंग्या मुस्लिमों के नरसंहार के आरोप लग रहे थे। इसके बावजूद खतरनाक हथियारों और सर्विलांस के कारण यहां सेना की पहुंच बढ़ गई है। अब तक ये साफ नहीं हो पाया है कि ये सब किस रास्ते से म्यांमार पहुंचे।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments