Home खेल जगत चीन में उतर रहा फुटबॉल का फीवर: क्या चेल्सी से खेल चुके...

चीन में उतर रहा फुटबॉल का फीवर: क्या चेल्सी से खेल चुके औस्कर फिर से यूरोप लौट आएंगे? 2016 में चीन के क्लबों ने बड़े नामों को भारी रकम देकर खरीद शुरू की।


  • हिंदी समाचार
  • खेल
  • क्या चेल्सी ऑस्कर बन कर वापस यूरोप लौटने में सक्षम होगी ?; 2016 में, चीनी क्लबों ने बड़े रकम वाले बड़े नामों को खरीदना शुरू किया

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जिंककुछ ही पल पहलेलेखक: रोरी स्मिथ

  • कॉपी लिस्ट

शंघाई एसआईपीजी ने 537 करोड़ में ऑस्कर को चेल्सी से साइन किया था। (फाइल फोटो)

इंग्लिश क्लब चेल्सी ने 2012 में दो मिडफील्डर माइकल के ऑस्कर और बेल्जियम के केविन डी ब्रूइन को साइन किया था। डी ब्रूइन को जल्द ही लोन पर जर्मनी भेज दिया गया। ऑस्कर को सीजन के पहले ही मैच में डेब्यू का मौका मिला। डी ब्रूइन अभी मैनचेस्टर सिटी के सबसे बड़े खिलाड़ी हैं। वहीं 29 साल के ऑस्कर ने 5 साल से इंटरनेशनल मैच नहीं खेला। उनमें फुटबॉल की दुनिया भूल गई है।

2016 में चीन के क्लबों ने भारी रकम देकर बड़े खिलाड़ियों काे खरीदा

2016 में यूरोपियन सॉकर में चाइनीज सॉक्स की महामारी आई थी। चीन के क्लबों ने बड़े नामों को भारी मात्रा में खरीदना शुरू किया। एक समय 10 दिन के भीतर तीन बार चीनी ट्रांसफर रिकॉर्ड टूटता है। पहले चेल्सी के रामिरस, फिर एटलेटिको मैड्रिड के मार्टिनेज, अंत में शाखर दोनेत्स्क के एलेक्स टेक्सेरा के लिए। शंघाई एसआईपीजी ने 537 करोड़ में 25 साल के ऑस्कर को चेल्सी से साइन किया। उन्हें साल के लगभग 195 करोड़ मिलने लगे। उनके करिअर के अच्छे 6-7 साल बचे थे। लेकिन उनके इस फैसले को समझना मुश्किल था।

चीन के क्लब खिलाड़ियों के पे में कर कटौती हो सकती है

ऑस्कर के अनुसार परिवार का भविष्य सुरक्षित करने के लिए उन्होंने पेशकश की। जब उन्होंने चेल्सी छोड़ने का मन बनाया था तो एटलेटिको मैड्रिड, युवेंट्स, मिलान जैसे क्लब में उनके लिए तैयार हो गए।]इधर, कोरोना के पहले से ही चीन में फुटबॉल की स्थिति बिगड़ने लगी थी। मार्टिनेज रिटायर हो चुके हैं। रामिरस बिना क्लब के है। टेक्सेरा भी जंबुसू से अलग हो चुके हैं। खिलाड़ियों के पे-कट की बात भी चल रही है। ऑस्कर अभी 29 साल के हैं।

उनमें काफी फुटबॉल बची है। लेकिन सच्चाई यह भी है कि बड़े खिलाड़ियों के साथ नहीं खेलने से उनका खेल कमजोर हुआ है। वह कला चली गई है, जो उन्हें खास बनाता था। शायद ऑस्कर कभी वापस नहीं नहीं जा रहे हैं, जहां वे 2016 में थे। उन्होंने वही किया, जो उन्हें करना था। उन्हें वह मिला, जिसका सपना देखा था। लेकिन दुख की बात फैंस के लिए हैं, जिन्होंने ऑस्कर के शानदार खेल को मिस कर दिया।

खबरें और भी हैं …



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments