Home कैरियर चॉपस्टिक और मोटापे पर टैक्स! दिमाग घुमा देंगे दुनिया के ये अजीबो-गरीब...

चॉपस्टिक और मोटापे पर टैक्स! दिमाग घुमा देंगे दुनिया के ये अजीबो-गरीब टैक्स


इंग्लैंड में 17वीं शताब्दी के दौरान घरों की खिड़कियों के आधार पर टैक्स लिया जाता था.

आम बजट (Union Budget 2020) के खास दिन हम आपको बताने जा रहे हैं दुनिया के कुछ अजीबो-गरीब टैक्स के बारे में. जिनके बारे में सुनना तो दूर की बात कल्पना कर पाना भी नामुकिन है.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    February 1, 2020, 12:18 PM IST

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने आज लोकसभा में मोदी सरकार 2.0 का दूसरा बजट (Union Budget 2020) पेश किया. आम बजट के खास दिन हम आपको बताने जा रहे हैं दुनिया के कुछ अजीबो-गरीब टैक्स के बारे में. जिनके बारे में सुनना तो दूर की बात कल्पना कर पाना भी नामुकिन है. जी हां किसी देश में कद्दू, पिस्ता खरीदने के लिए टैक्स देना पड़ता है तो कहीं, सेक्स करने पर लोगों को टैक्स भरना पड़ता है.

सेक्सुअल इंटीमेसी पर टैक्स
अमेरिका में रोड आइलैंट में 1971 में आई आर्थिक तगी के कारण डेमोक्रेटिक स्टेट लेजिस्लेटर बर्नाड ग्लैडस्टोन ने एक नया बिल पेश किया था. इस बिल में राज्य में सेक्सुअल इंटरकोर्स करने वालों से 2 डॉलर टैक्स के तौर चुकाने के लिए कहा गया था. इस बिल को पास करते हुए स्पष्ट शब्दों में कहा गया था कि सेक्सुअल इंटरकोर्स के लिए किसी व्यक्ति को टैक्स देना है या नहीं यह उसकी इच्छा पर निर्भर करता है. अब जाहिर सी बात है सरकार हर किसी के घर में झांककर तो देख नहीं सकती है.

काजू, पिस्ता पर अतिरिक्त टैक्सएक रिपोर्ट के मुताबिक, इंग्लैंड में काजू, पिस्ता, रोस्टेड और नमकीन पिस्ता पर 20% टैक्स वसूल किया जाता है. यह बाकि टैक्स के मुकाबले बहुत ज्यादा अजीब है.

जापान में 40 से 75 साल तक के महिलाओं और पुरुषों पर मेटाबो (मेटाबोलिज्म) कानून लागू होता है.

जापान में 40 से 75 साल तक के महिलाओं और पुरुषों पर मेटाबो (मेटाबोलिज्म) कानून लागू होता है.

द फैट टैक्सजापान में 40 से 75 साल तक के महिलाओं और पुरुषों पर मेटाबो (मेटाबोलिज्म) कानून लागू होता है. इस कानून में इस आयु वर्ग के महिला और पुरुषों की कमर हर साल मापी जाती है. यदि उनकी कमर एक निश्चित आकार (पुरुषों के लिए 85 सेमी और महिलाओं के लिए 90 सेमी) से अधिक है, तो उन्हें जुर्माना भरना होता है. जापान सरकार की ओर से यह टैक्स मोटापे की बढ़ती दरों को कम करने, डायबिटीज, स्ट्रोक जैसी बीमारियों पर रोक लगाने के लिए लागू किया गया था.

चॉपस्टिक टैक्स
चीन में हर साल 45 बिलियन कपल डिस्पोजेबल चॉपस्टिक का निर्माण होता है. भारी संख्या में चॉपस्टिक का निर्माण होने के कारण चीन में लगभग 25 मिलियन पेड़ों को काटा गया. पेड़ों की संख्या बचाने और लोगों को प्रकृति के प्रति जागरूक करने के लिए चीन सरकार ने चॉपस्टिक पर एक्सट्रा टैक्स लगाना शुरू कर दिया. चीन सरकार ने डिस्पोजेबल लकड़ी के चॉपस्टिक पर 5% टैक्स लगाया। अधिकारियों का मानना है कि यह उपाय पारंपरिक लोगों के बजाय पुन: प्रयोज्य, प्लास्टिक चॉपस्टिक के साथ खाने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करेगा.

Disclaimer: उपरोक्त जानकारी मीडिया रिपोर्ट्स के आधार पर है. 








Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments