Home उत्तर प्रदेश छात्रों के दबाव के आगे झुकी पुलिस ने कुछ घंटों में ही...

छात्रों के दबाव के आगे झुकी पुलिस ने कुछ घंटों में ही किया रिहा, बैचयू में धरना दे रहे छात्रों को हिरासत में लिया गया था।


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* सिर्फ ₹ 299 सीमित अवधि की पेशकश के लिए वार्षिक सदस्यता। जल्दी से!

ख़बर सुनता है

बीएचयू कैंपस खोलने की मांग पर धरना दे रहे छात्रों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। लेकिन कुछ ही घंटों में पुलिस को छात्रों के दबाव के आगे झुकना पड़ा और सभी छात्रों को रिहा कर दिया। इसके पहले शुक्रवार को सिंह द्वार पर आंदोलन कर रहे छात्रों को हटाने के दौरान छात्रों और पुलिस के बीच जमकर नोकझोंक भी हुई। उसके बाद पुलिस ने जबरन छात्रों को घसीट गाड़ी में बैठाया था और फिर थाने भेज दिया था। घटना के बाद से छात्र आक्रोशित हो गए थे और नारेबाजी करते हुए लंका थाने का घेराव किया था।

पुलिस ने धरना स्थल से बीए सेकेंड ईयर के स्टूडेंट आशुतोष कुमार, अविनाश, सुमित, अनुपम और पवन को गिरफ्तार किया है, जबकि धरना स्थल पर मौजूद अन्य छात्रों को पुलिस ने खदेड़ दिया। उसके बाद पुलिस ने सिंह द्वार से छात्रों की ओर से लगाए गए बैरिकेडिंग को भी हटा दिया। पुलिस की कार्यवाही के बाद छात्रों में नाराजगी है। एहतियातन कैंपस के बाहर पुलिस और पीएससी के जवान तैनात किए गए हैं।

बता दें कि कैम्पस में फिर से सामान्य तौर से पठन-पाठन की शुरुआत करने की मांग को लेकर छात्र लंबे समय से आंदोलन कर रहे हैं।) 5 दिसंबर को सबसे पहले छात्रों ने कैम्पस खोलने की मांग को लेकर वीसी आवास के सामने आंदोलन किया था।

वीसी ने छात्रों से बातचीत की और उन्हें कैम्पस खोलने का आश्वासन दिया। इसके बाद भी जनवरी में कैम्सप नहीं खुले तो छात्र फिर आंदोलन करने लगे। इसके बाद विश्ववविद्यालय प्रशासन ने बैठक कर चरणबद्ध तरीके से 22 फरवरी से कैंपस खोलने की बात कही थी।

बीएचयू कैंपस खोलने की मांग पर धरना दे रहे छात्रों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। लेकिन कुछ ही घंटों में पुलिस को छात्रों के दबाव के आगे झुकना पड़ा और सभी छात्रों को रिहा कर दिया। इसके पहले शुक्रवार को सिंह द्वार पर आंदोलन कर रहे छात्रों को हटाने के दौरान छात्रों और पुलिस के बीच जमकर नोकझोंक भी हुई। उसके बाद पुलिस ने जबरन छात्रों को घसीट गाड़ी में बैठाया था और फिर थाने भेज दिया था। घटना के बाद से छात्र आक्रोशित हो गए थे और नारेबाजी करते हुए लंका थाने का घेराव किया था।

पुलिस ने धरना स्थल से बीए सेकेंड ईयर के स्टूडेंट आशुतोष कुमार, अविनाश, सुमित, अनुपम और पवन को गिरफ्तार किया है, जबकि धरना स्थल पर मौजूद अन्य छात्रों को पुलिस ने खदेड़ दिया। उसके बाद पुलिस ने सिंह द्वार से छात्रों की ओर से लगाए गए बैरिकेडिंग को भी हटा दिया। पुलिस की कार्यवाही के बाद छात्रों में नाराजगी है। एहतियातन कैंपस के बाहर पुलिस और पीएससी के जवान तैनात किए गए हैं।

बता दें कि कैम्पस में फिर से सामान्य तौर से पठन-पाठन की शुरुआत करने की मांग को लेकर छात्र लंबे समय से आंदोलन कर रहे हैं।) 5 दिसंबर को सबसे पहले छात्रों ने कैम्पस खोलने की मांग को लेकर वीसी आवास के सामने आंदोलन किया था।

वीसी ने छात्रों से बातचीत की और उन्हें कैम्पस खोलने का आश्वासन दिया। इसके बाद भी जनवरी में कैम्सप नहीं खुले तो छात्र फिर आंदोलन करने लगे। इसके बाद विश्ववविद्यालय प्रशासन ने बैठक कर चरणबद्ध तरीके से 22 फरवरी से कैंपस खोलने की बात कही थी।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments