Home कैरियर जल्द ही WhatsApp-Facebook के ज़रिए सरकार टीचर्स को देगी ट्रेनिंग

जल्द ही WhatsApp-Facebook के ज़रिए सरकार टीचर्स को देगी ट्रेनिंग


क्लास रूम में टीचर्स को ट्रेनिंग देने के बाद एक WhatsApp Group और Facebook Page बनाए जाने की योजना है जिसके ज़रिए टीचर्स एक-दूसरे से जुड़े रहेंगे.

क्लास रूम में टीचर्स को ट्रेनिंग देने के बाद एक WhatsApp Group और Facebook Page बनाए जाने की योजना है जिसके ज़रिए टीचर्स एक-दूसरे से जुड़े रहेंगे.

अब एजुकेशन सिस्टम को बेहतर बनाने के लिए सरकार वॉट्सऐप और फेसबुक जैसे सोशल मीडिया और मैसेजिंग प्लेटफॉर्म्स का सहारा लेगी. इसके लिए बुधवार को सरकार ने एक प्लान जारी करते हुए कहा कि सरकार एक स्पेशल ट्रेनिंग प्रोग्राम चलाएगी जिसके तहत प्रिंसिपल और टीचर्स को ट्रेनिंग देने में वॉट्सऐप और फेसबुक जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स का भी सहारा लेगी. इस योजना के तहत पहले चरण में 42 लाख टीचर्स को ट्रेनिंग दिए जाने की योजना है.

कैसे मिलेगी ट्रेनिंग-
क्लास रूम में टीचर्स को ट्रेनिंग देने के बाद एक वॉट्सऐप ग्रुप और फेसबुक पेज बनाया जाएगा जिसके ज़रिए टीचर्स एक-दूसरे से जुड़े रहेंगे. मानव संसाधन विकास मंत्री ने रमेश पोखरियाल ने कहा कि इस ग्रुप में या पेज के माध्यम से टीचर्स अपने सामने आने वाली चुनौतियों को शेयर कर सकेंगे जिससे उनका हल ढूंढने में मदद मिलेगी. ये भी पढ़ेंः  पॉर्न साइट से लीक 1 लाख यूज़र्स का डेटा, कई भारतीय भी शामिल

दिल्ली में बुधवार को मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने नेशनल इंसिएटिव ऑन स्कूल टीचर हेड हॉलीस्टिक एडवांसमेंट (निष्ठा) का शुभारंभ किया. इस मौके पर उन्होंने कहा कि शिक्षक बनने की पढ़ाई के पाठ्यक्रम में भी बदलाव किया जा रहा है. अब ऐसे ही कोई भी शिक्षक नहीं बन पाएगा. निशंक ने कहा, ‘ट्रेनिंग में पॉक्सो एक्ट और दिव्यांगजनों को पढ़ाने से संबंधित दिशा-निर्देश भी दिए जाएंगे.  केंद्रीय मंत्री ने ये भी कहा कि अब आईएएस बनना आसान होगा पर शिक्षक नहीं. शिक्षक एक छात्र का नहीं पूरे देश को बनाने वाला होता है.


ट्रेनिंग के महत्वपूर्ण बिंदु-
पढ़ाने के ढंग के साथ लीडरशिप की भी ट्रेनिंग.
भाषा, मैथ, सोशल साइंसेज पर मुख्य रूप से फोकस.
शिक्षकों की ट्रेनिंग का मंत्रालय ऑनलाइन निगरानी करेगा.
ट्रेनिंग के दौरान उनकी प्रतिदिन हाजिरी की भी जांच होगी.

टीचर्स की काउंसिलिंग करके उनके सामने आने वाली दिक्कतों को दूर किया जाएगा ताकि वे स्टूडेंट्स की परेशानियों को अच्छी तरह से समझ सकें.








Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments