Home उत्तर प्रदेश जीवन के प्रतिष गाजीपुर के प्रतियोगी छात्र ने फांसी लगाकर दी जान,...

जीवन के प्रतिष गाजीपुर के प्रतियोगी छात्र ने फांसी लगाकर दी जान, मचा रहा कोहराम


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* केवल ₹ 299 सीमित अवधि की पेशकश के लिए वार्षिक सदस्यता। जल्दी से!

ख़बर सुनना

सलोरी में रहने वाले प्रतियोगी छात्र मनीष कुमार यादव 20 ने शनिवार को फांसी लगाकर जान दे दी। दोपहर में लॉज में रहने वाले छात्रों को घटना की जानकारी हुई, जिसकी सूचना पर पुलिस पहुंच गई। मौके से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है लेकिन माना जा रहा है कि पढ़ाई के दबाव में मनीष ने यह कदम उठाया है।

मनीष मूल रूप से गाजीपुर के मरदहा गांव का रहने वाला था। उसके पिता केदारनाथ यादव व्हानी करते हैं। वह लगभग दो साल से कर्नलगंज में सलोरी स्थित प्रजापति लॉज में रहकर प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा था। लॉज मेँ रहने वाले अन्य छात्रों ने बताया कि सभी रोज सुबह टहलने जाते थे लेकिन शनिवार को मनीष आवाज देने के बाद भी कमरे से बाहर आते थे। बहुत देर तक दरवाजा नहीं खुलने पर छात्रों ने दरवाजे के उउपर लगे रोशनदान से झांककर भीतर देखा तो उसने फांसी पर लटका दिया।

सूचना पर पुलिस पहुंची और फिर दरवाजा तोड़कर शव को फंदे से नीचे उतारा गया। छात्र ने मफलर से बना फंदा पंखे में फंसाकर जान दी थी। पुलिस ने जांच पड़ताल की लेकिन मौके से कोई भी सुसाइड नोट नहीं मिला। जिसके बाद शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया। सूचना पर परिजन भी आ गए। शाम शाम पोस्टमार्टम के बाद वह शव लेकर रवाना हो गए हैं। कर्नलगंज पुलिस ने बताया कि परिजन भी कोई कारण नहीं बता पा रहे हैं। अगल-बगल के छात्रों ने बताया है कि शुक्रवार रात मनीष उनसे मिला था और तब सबकुछ सामान्य था। इसके बाद सभी सोने चले गए।

17 दिन में चौथे साथी ने मौत का रास्ता चुना

शहर में 17 दिन के भीतर प्रतियोगी छात्र-छात्राओं की खुदकुशी का यह चौथा मामला है। आठ फरवरी को ओमगायत्री नगर में रहने वाली सरोज चौरसिया ने फांसी लगाकर जान दे दी थी। फैजाबाद निवासी छात्रा रेलवे व अन्य परीक्षाओं की तैयारी कर रही थी। इसी तरह 23 फरवरी को भी कुछ छात्रों ने खुदकुशी कर ली थी। इनमें सोरि में मौसम यादव 21 ने फांसी लगाकर तो शिवकुटी में विजय उर्फ ​​राजकुमार 27 ने ट्रेन के आगे कूदकर जीवन खत्म कर ली थी। मेट्रो पुत्र जीतनारायण यादव मूल रूप से वाराणसी के गद्दोजपुर जंसा का रहने वाला था। सिविल सेल्स में पोस्ट कर के बाद वह जेईई की तैयारी करने वाला शहर आया था। जबकि मूल रूप से फत्तेपुर नवाबगंज का रहने वाला राजकुमार उर्फ ​​विजय पुत्र हरिश्चंद्र कटरा में रहता था।

सलोरी में रहने वाले प्रतियोगी छात्र मनीष कुमार यादव 20 ने शनिवार को फांसी लगाकर जान दे दी। दोपहर में लॉज में रहने वाले छात्रों को घटना की जानकारी हुई, जिसकी सूचना पर पुलिस पहुंच गई। मौके से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है लेकिन माना जा रहा है कि पढ़ाई के दबाव में मनीष ने यह कदम उठाया है।

मनीष मूल रूप से गाजीपुर के मरदहा गांव का रहने वाला था। उसके पिता केदारनाथ यादव व्हानी करते हैं। वह लगभग दो साल से कर्नलगंज में सलोरी स्थित प्रजापति लॉज में रहकर प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा था। लॉज मेें रहने वाले अन्य छात्रों ने बताया कि सभी रोज सुबह टहलने जाते थे लेकिन शनिवार को मनीष आवाज देने के बाद भी कमरे से बाहर आते थे। बहुत देर तक दरवाजा नहीं खुलने पर छात्रों ने दरवाजे के उउपर लगे रोशनदान से झांककर भीतर देखा तो उसने फांसी पर लटका दिया।

सूचना पर पुलिस पहुंची और फिर दरवाजा तोड़कर शव को फंदे से नीचे उतारा गया। छात्र ने मफलर से बना फंदा पंखे में फंसाकर जान दी थी। पुलिस ने जांच पड़ताल की लेकिन मौके से कोई भी सुसाइड नोट नहीं मिला। जिसके बाद शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया। सूचना पर परिजन भी आ गए। शाम शाम पोस्टमार्टम के बाद वह शव लेकर रवाना हो गए हैं। कर्नलगंज पुलिस ने बताया कि परिजन भी कोई कारण नहीं बता पा रहे हैं। अगल-बगल के छात्रों ने बताया है कि शुक्रवार रात मनीष उनसे मिला था और तब सबकुछ सामान्य था। इसके बाद सभी सोने चले गए।

17 दिन में चौथे साथी ने मौत का रास्ता चुना

शहर में 17 दिन के भीतर प्रतियोगी छात्र-छात्राओं की खुदकुशी का यह चौथा मामला है। आठ फरवरी को ओमगायत्री नगर में रहने वाली सरोज चौरसिया ने फांसी लगाकर जान दे दी थी। फैजाबाद निवासी छात्रा रेलवे व अन्य परीक्षाओं की तैयारी कर रही थी। इसी तरह 23 फरवरी को भी कुछ छात्रों ने खुदकुशी कर ली थी। इनमें सोरि में मौसम यादव 21 ने फांसी लगाकर तो शिवकुटी में विजय उर्फ ​​राजकुमार 27 ने ट्रेन के आगे कूदकर जीवन खत्म कर ली थी। मेट्रो पुत्र जीतनारायण यादव मूल रूप से वाराणसी के गद्दोजपुर जंसा का रहने वाला था। सिविल सेल्स में पोस्ट कर के बाद वह जेईई की तैयारी करने वाला शहर आया था। जबकि मूल रूप से फत्तेपुर नवाबगंज का रहने वाला राजकुमार उर्फ ​​विजय पुत्र हरिश्चंद्र कटरा में रहता था।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments