Home मध्य प्रदेश टीकाकरण के दूसरे चरण का पहला दिन: प्रदेश में 17605 लोगों को...

टीकाकरण के दूसरे चरण का पहला दिन: प्रदेश में 17605 लोगों को लगा पहला टीका, भोपाल में 6600 को लगना था, 23605 को लगाया गया।


विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भोपाल2 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

राजधानी के जेपी अस्पताल में पंजीकरण के लिए लग गई थी कतार

  • केंद्रों पर सुबह से ही लग गई थी भीड़के लगवाने के लिए करना पड़ा इंतजार

प्रदेश में 186 केंद्र पर पहले दिन 17605 लोगों को टीका लगाया गया था। इनमें से 16019 लोग 60 से अधिक आयु के हैं। हरदा में एक भी सीनियर सिटीजन टीके के लिए नहीं पहुंचे। सबसे कम 11 टीके आगर में लगे। वहीं भोपाल में 6600 कोके लगना था, सिर्फ 2321 को लगा। यानी लक्ष्य का 35.16 प्रति। नेक्स्ट 3 मार्च को लगेगा

भोपाल में 17 टीकाकरण केंद्रों पर लोगों को लगाई गई वैक्सीन

राजधानी में पहले दिन 17 टीकाकरण केंद्रों पर 6600 लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन इनमें से महज 2321 को ही टीका लगाया जा रहा था। यह तय लक्ष्य का महज 35.16 प्रतिशत रहा।

पोर्टल समय पर शुरू नहीं होने के कारण टीकाकरण 9:30 बजे के बाद ही शुरू हो पाया। ऐसे में सुबह केंद्रों पर ना सिर्फ जैक लगवाने वालों की भीड़ रही, बल्कि लोगों को टीके लगवाने में एक से दो घंटे भी लगे रहे। टीका लगवाने वालों में 978 महिलाएं और 1343 पुरुष शामिल थे।

एम्स के आयुष विभाग में साइलाइन और हेल्थ कैर वर्कर्स के साथ न्यू फील्ड सीनियर सिटीजन को वैक्सीनेशन में शामिल किया गया। दिनभर में कुल 220 लोगों को वैक्सीन लगाई गई। सुबह 8 बजे से एम्स में वैक्सीनेशन टीम पहुंची और 9 बजे तक तैयारी पूरी कर ली थी।

9.30 बजे योगीलाल भवन नामक बुजुर्ग वैक्सीन लगवाने पहुंचे। काउंटर पर पंजीयन करवाने के बाद हाॅल में कुछ देर बैठे और फिर उन्हें फर्स्ट डोज लगाने के लिए कमरा नंबर एक में ले जाया गया, जहां समझदारी देकर वैक्सीन लगाई गई। ऐसे ही बाकी बुजुर्गों के साथ भी किया गया। इनमें अयोध्या नगर निवासी आरडी पाठक भी वैक्सीन लगवाने आए थे। उन्होंने बताया कि उन्हें कोरोना तो नहीं हुआ, लेकिन इस दिन का बेसब्री से इंतजार था। इन सभी को वैक्सीन लगवाने के बाद निगरानी कक्ष में भेजा जा रहा था।

कौन सा प्रशिक्षण में

  • 1062 सीनियर सिटीजन
  • 334 स्वास्थ्य वर्कर्स फर्स्ट डोज
  • 748 स्वास्थ्य वर्कर्स सेकंड डोज
  • 07 एयरलाइन वर्कर्स फर्स्ट डोज
  • 170 कोमॉर्बिडिटी 45-60 वर्ष

9.30 बजे ओपन हुआ पोर्टल: पहला केकडीरा गांधी गैस राहत अस्पताल के पूर्व अधीक्षक को लगा

जेपी अस्पताल में बनाए गए केंद्र पर कोविन पोर्टल सुबह 9.30 बजे से शुरू हुआ। इसके बाद हितग्राहियों के पंजीकरण शुरू किए गए। प्रथम टीका सुबह 9.52 बजे इंदिरा गांधी गैस राहत अस्पताल के पूर्व अधीक्षक डॉ। आरके तिवारी को लगा। स्वास्थ्य मंत्री डॉ। प्रभुराम चौधरी सुबह 10.25 बजे जेपी पहुंचे थे। उन्होंने टीकाकरण केंद्र नंबर -1 पर अपना पंजीकरण कराया और 10.28 बजे उन्हें टीका लगाया गया। इसके बाद उन्हें आधे घंटे तक वहीं ऑब्जर्वेशन में रखा गया।

आम लोगों को छोड़ दिया, रेटिंग का पहले

जेपी में जब पोर्टल ओपन हुआ तो रिटायर्ड आईएएस और डॉक्टरों की कतार लग गई। तब जिन लोगों ने पहले आकर पंजीकरण कराए थे, उन्हें छोड़कर रेटिंग के पंजीकरण से पहले टीके लगाए गए।

समीक्षा को नहीं लगना पड़ा कतार में

जेपी में समीक्षाएँ की सुविधा का इस कदर ध्यान रखा जा रहा था कि अस्पताल के डॉक्टर उन्हें सोफे पर बैठाकर उनके दस्तावेज़ के बारे में खुद पोर्टल पर पंजीकरण कराने में लगे हुए थे।

गाइडलाइन का पालन करने से नहीं हुआ

कोरोनाकाल में वर्क, सैनिटरीजर और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया है। आज टीका लगवाने आए हैं, इसलिए पूरी सुरक्षा हो सकेगी।

-कल्पना मिश्रा (68), अरेरा कॉलोनी

कोरोना की वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है

मैंने अपनी बारी का इंतजार किया और आज आने वाले पर केक लगाने वाले ने। यह पूरी तरह से सुरक्षित है, सभी को लगवानी चाहिए। -डॉ। प्रभुराम चौधरी, स्वास्थ्य मंत्री
टीकाकारण में ये हुई परेशानी

1 है। पोर्टल सुबह 9 बजे शुरू होना था, पर 9.30 बजे के बाद चला गया।

२। कुछ केंद्रों पर पोर्टल 10 बजे तक भी काम नहीं कर रहा था।

३। पोर्टल पर कई आधार कार्ड का ऑथेंटिकेशन ही नहीं पाया गया।

४। टीकाकरण के बाद दिए जाने वाले सर्टिफिकेट के प्रिंट नहीं निकले।

५। 100% पंजीकरण सक्रिय किए जाने से अफ़रा-तफ़री हो रही है।

डॉ। मिश्रा को लेकर पहुंचे मंत्री सारंग

शहर के जाने-माने 90 वर्षीय डॉ एनपी मिश्रा भी सोमवार को टीका लगवाने के लिए हमीदिया अस्पताल पहुंचे। व्हील चेयर पर बैठे डॉ। मिश्रा को चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग वैक्सीनेशन सेंटर पर पहुंचे। डॉ। मिश्रा गांधी मेडिकल कॉलेज के डीन और मेडिसिन डिपार्टमेंट के एचओडी भी हैं। जेपी अस्पताल के बाद सबसे ज्यादा टीके हमीदिया में ही लगे हुए हैं।

उन्होंने कहा कि इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए सरकार ने कई कदम उठाए हैं।
उन्होंने कहा कि इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए सरकार की ओर से कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है।चौंकाने वाला मामला: धार में महिला को एंट बॉडी बनने के बाद कोरोना दिखाई दिया

इधर, धार में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। 30 वर्ष की महिला स्वास्थ्यकर्मी दूसरे डोज के बाद भी कोरोना पॉजिटिव आई हैं। हैरानी की बात है कि सब्जियों का स्तर भी अच्छा पाया गया है। उन्होंने 17 जनवरी काे पहला व 22 फरवरी काे दूसरा डोज लगवाया था। 26 को किए गए जांच में कोरोना की पुष्टि हुई। बाकी रिपोर्ट नॉर्मल है

यह हैरान करने वाला है कि किसी व्यक्ति में कोरोना संक्रमण और दोनों पक्षों को मिला है। आशंका है कि कहीं यह वायरस का दूसरा तनाव तो नहीं है। जांच कर रहे हैं।

– डॉ। अनिल वर्मा, पैथोलॉजिस्टेंट

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments