Home देश की ख़बरें तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में द्रमुक ने आईयूएमएल और एमएमके को साथ लिया

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में द्रमुक ने आईयूएमएल और एमएमके को साथ लिया


तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में द्रमुक ने आईयूएमएल और एमएमके को साथ लिया। (सांकेतिक चित्र)

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव: तमिलनाडु विधानसभा चुनावों में विपक्षी द्रमुक ने दो अन्य पक्ष भारतीय संघ मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) और मनथानेया मक्काल काची (एमएमके) के साथ सीटों का बंटवारा मंजूर कर लिया है।

चेन्नई। तमिलनाडु में छह अप्रैल को होने वाले विधानसभा चुनावों (तमिलनाडु विधानसभा चुनाव) के लिए विपक्षी द्रमुक ने भारतीय संघ मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) और मनथानेया मक्काल काची (एमएमके) के साथ सीट बंटवारे के बारे में निष्कर्ष निकाला है। सीट बंटवारा समझौते के तहत पार्टी ने आईयूएमएल को तीन बैठकों और एमएमके को दो सवारी दी हैं।

द्रमुक, वाइको के एमडीएमके के साथ भी सीट बंटवारे को लेकर एक समझौते तक पहुंचने के करीब है और टी। तिरूमावलवन नीत वीसीके पार्टी के साथ भी पार्टी की बातचीत चल रही है। बातचीत कल भी जारी रह सकती है। वीसीके के नेता ने कहा कि सीट बंटवारे पर चर्चा के दौरान उनकी पार्टी ने सीटों की संख्या से द्रमुक नेताओं को अवगत करा दिया था।

ये भी पढ़ें: राजनाथ सिंह ने तमिल को खूबसूरत भाषा बताई, लेकिन इस बात के लिए पूछा माफी

भाजपा को सत्ता से बाहर रखने, मुख्यमंत्री को हटाकर भारत को राह दिखाया गया TN: राहुल गांधीडीएमके प्रमुख शटालिन ने कहा, भाजपा को कभी भी शवीकर नहीं करेगा

डीएमके (DMK) प्रमुख एमके स्टालिन (एमके स्टालिन) ने कहा है कि TN कभी भी भाजपा को स्वीकार नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि बीजेपी टीएम में हिंदी और संस्कृत को लागू करने का प्रयास करेंगे और विकास के नाम पर राज्य से तमिल का सफाया कर देंगे। डीएमके प्रमुख ने कहा कि तमिलनाडु के लोग चाहते हैं कि राज्य धर्मनिरपेक्ष रहे और भाजपा को सत्ता में नहीं आना चाहिए। स्टालिन ने एक बार फिर जोर देते हुए कहा कि द्रमुक और कांग्रेस निश्चित रूप से एक साथ चुनाव लड़ेंगे।

पूरे TN में 16,000 ग्राम सभाएँ आयोजित होंगी
उन्होंने कहा कि महंगाई और किसानों का मुद्दा आगामी चुनावों में प्रमुख मुद्दा साबित होगा। हमने पूरे TN में 16,000 ग्राम सभाएं आयोजित करने का फैसला किया है। लोग इस अभियान में काफी उत्साह से भाग ले रहे हैं, विशेष रूप से महिलाओं पर। आमतौर पर महिलाएं सामूहिक सभाओं से दूर रहती हैं, लेकिन हमारी पार्टी की ओर से हुई ग्राम सभाओं में वे धैर्य से बैठती हैं। सवाल पूछती हैं और मेरे जवाब सुनती हैं। यह बहुत बड़ा बदलाव है। हम डीएमके और कांग्रेस संसदीय चुनावों में एक साथ थे, स्थानीय निकाय चुनावों में एक साथ रहे और अब आगामी विधानसभा चुनाव में भी एक साथ रहेंगे।







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments