Home देश की ख़बरें दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का औसत स्तर पिछले साल से ज्यादा: सीएसई

दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का औसत स्तर पिछले साल से ज्यादा: सीएसई


दिलनाली और उसके आसपास के इलाकों में प्रदूषण कम होने का नाम नहीं ले रहा है।

रा और राजधानी हार्टनाली और उसके आसपास के क्षेत्रों (दिल्ली-एनसीआर) में प्रदूषण कम होने का नाम नहीं ले रहा है। संस्था ‘सेंटर फ़ॉर साइंस एंड एनवेंशनमेंट’ (सीएसई) ने भी इसकी पुष्टि कर दी। संकेतथा ने बताया कि दिल्ली-एनसीआर में 2020-21 की सर्दियों के दौरान प्रदूषण का औसत स्तर पिछले साल से ज्यादा था।

नई दिल्ली। पर्यावरण के क्षेत्र में काम करने वाली संस्था ‘सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरमेंट’ (सीएसई) ने बुधवार को कहा कि दिल्ली-एनसीआरआर (दिल्ली-एनसीआर) में 2020-21 की सर्दियों के दौरान प्रदूषण का औसत स्तर पिछले साल से ज्यादा था लेकिन ‘ स्मॉग की की अवधि और तीव्रता कम थी।

सीएसई ने कहा कि ‘ग्रेडेड रिपॉन्स एन्स प्लान’ (जीआरएपी) के लागूयन के लिए इस क्षेत्र में 15 अक्टूबर से एक फरवरी तक के कालखंड को आधिकारिक तौर पर सर्दी का मौसम माना जाता है। विश्लेषण में कहा गया कि इस बार सर्दियों के मौसम में 23 दिन ऐसे थे जब शहर में पीएम 2.5 कणों की मात्रा ‘गंभीर’ या ‘खराब’ एक्यूआई श्रेणी में दर्ज की गई। यही मात्रा, 2018-19 के दौरान 33 दिनों में और 2019-20 के बीच 25 दिनों में आंकी गई थी।

ये भी पढ़ें दिल्ली-एनसीआर प्रदूषण: बवाना देश का सबसे प्रदूषित इलाका, 900 के पार पहुंच गया AQI

विश्लेषण में यह भी कहा गया है कि दिल्ली के आसपास के चार शहरों से गाजियाबाद में सबसे ज्यादा प्रदूषित (प्रदूषित) रहा है। इसके साथ ही राष्ट्रीय राजधानी में उत्तरी दिल्ली सर्वाधिक प्रदूषित क्षेत्र दर्ज किया गया जहां स्थित जहांगीरपुरी की हवा में प्रदूषण सबसे ज्यादा था। प्रदूषण की जाँच: दिल्ली- NCR, गाजियाबाद सबसे प्रदूषित शहर, देशभर में मुरादाबाद की हवा खराब

सीएसई में अनुसंधान और वकालत की कार्यकारी निदेशक सुनीता रायचौधुरी ने कहा, “सर्दियों के समय प्रदूषण के अध्ययन में विशेष रूप से ध्यान होता है। इस साल महामारी के कारण की स्थिति थी और इस क्षेत्र में वातावरण की स्थितियों, शांत हवा और ठंड के साथ
मौसम के कारण सर्दियां बेहद कठिन होती हैं। ”

उन्होंने कहा, “सर्दियों की हवा में स्थानीय प्रदूषण कारक तत्व फंस जाते हैं और इससे घातक स्मॉग जनित होता है। दिल्ली-एनसीआर के लोग इससे भली भांति परिचित हैं।]मालूूमि हो देश का सबसे प्रदूषित शहर उत्तर प्रदेश का मुरादाबाद है, तो दिलनली-एनसीआर का सबसे प्रदूषित शहर गाजियाबाद है। यहां का ए आर आई आई (AQI) 320 दर्ज किया गया, सबसे अधिक प्रदूषण औद्योगिक क्षेत्रों में रहा। इन क्षेत्रों के आसपास रहने वाले लोगों को आँखों में जलन की शिकायत भी हो रही है। वहीं, देश के सबसे प्रदूषित शहर में शुमार रहे मुरादाबाद का ए 33I दर्ज किया गया है।







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments