Home मध्य प्रदेश दीपदान समारोह: 16 लाख दीपों की रोशनी से जगमगाया पितृ पर्वत; ...

दीपदान समारोह: 16 लाख दीपों की रोशनी से जगमगाया पितृ पर्वत; लगभग 1 लाख श्रद्धालु हुए शामिल


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इंदौरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट
  • भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और मंत्री तुलसी सिलावट हुए
  • पश्चिम बंगाल में महिलाओं की स्थिति को लेकर भाजपा महासचिव ने जताई चिंता

पितेश्वर हनुमान मंदिर पर रविवार शाम को बड़ी संख्या में लोग एकत्रित हुए। रात होते-होते पितृ पर्वत पर दीपक जल उठे और पूरी पहाड़ी दीपक से जगमगाने लगे। इंदौर के पितरेश्वर हनुमान मंदिर पर अयोध्या से लाई गई ज्योति से 16 लाख दीपक एक साथ प्रज्वलित कर गिनीज और लिम्का बुक में दर्ज कराने की सूचना दी हैं। इस कार्यक्रम में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने हिस्सा लिया।

आयोजन की तैयारी पिछले एक महीने से की जा रही थी। विश्व कल्याण और कोरोनावायरस की समाप्ति के लिए 16 लाख दीपक एक साथ प्रज्वलित किए गए। कार्यक्रम के आयोजकों का दावा है कि किसी भी धार्मिक स्थल पर एक साथ इतने दीपक नहीं जलाए गए हैं। इस दौरान इंदौर और आसपास के क्षेत्रों से बड़ी संख्या में श्रद्धालु दीपदान कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए पहुंचे थे। वहीं भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने अपने बेटे आकाश विजयवर्गीय के साथ मिलकर संगीतमय हनुमान चालीसा का गायन किया।

कैलाश विजयवर्गीय ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि वह चाहते हैं कि संपूर्ण विश्व का कल्याण होता रहे और सभी लोग निरोगी रहे। वर्तमान समय में जिस तरीके से कोरोनावायरस संक्रमण है, उसमें भी सभी को निजात मिले इसके लिए उन्होंने हनुमान जी से प्रार्थना की। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि आने वाले समय में इंदौर का प्रत्येक नागरिक पहाड़ पर स्थित हनुमान जी पर हमेशा दीपक रहे। उसी कार्यक्रम में कोविड -19 के पालन के सवाल पर कहा कि उन्होंने सभी आने वाले भक्तों से अनुरोध किया था कि वह वर्क लगाकर आएं और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और यहां मैं देख रहा हूं कि ज्यादातर लोग वर्क लगाकर ही पहुंचे हैं।

वहीं बीजेपी नेता रूपा गांगुली द्वारा बंगाल में महिलाओं की स्थिति पर ममता बनर्जी पर सवाल उठाए जाने पर कहा कि यह बात स्पष्ट रूपा गांगुली की नहीं बल्कि बंगाल की संपूर्ण महिलाओं की है, बंगाल महिला अपराधों में अब्बल है। दुष्कर्म की घटनाओं में महिलाओं से ज्यादा घटनाएं होती हैं, इसके साथ ही महिलाओं की गुमशुदगी भी सबसे अधिक बंगाल में ही है। रूपा गांगुली जी ने मुद्दा इसलिए उठाया है क्योंकि वह बंगाल की महिलाओं का प्रतिनिधित्व करती हैं। इस कार्यक्रम में कैलाश विजयवर्गीय के साथ मध्य प्रदेश सरकार की जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट, विधायक रमेश मेंदोला और आकाश विजयवर्गीय भी मौजूद रहे।

पितृ पर्वत पर प्रवेश के साथ ही मार्ग के दोनों ओर जगमगा रहे दीप मन में उत्साह भर रहे थे। विश्व शांति और कोरोना से मुक्ति की कामना से जलाए गए इन दीपकों को 80 सेक्टर में बांटा गया था। उन्हें अलग-अलग नाम भी दिए गए थे। आयोजन समिति के हरिनारायण यादव व श्रवणसिंह चावड़ा के मुताबिक, आयोजन को गिनीज और लिम्का बुक में दर्ज करने के लिए सूचना दी गई थी। दीपों में लगभग 10 हजार लीटर सरसों का तेल और महाराष्ट्र से लाई गई बाती डाली गई थी। पितरेश्वर हनुमान को फूल बंगले में विराजित किया गया। संतों के सान्निध्य में दीपों को अयोध्या से लाई गई लौ से प्रज्जवलित किया गया। देर रात लोग पितरेश्वर हनुमान के मनोहारी स्वरूप को निहार रहे थे।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments