Home देश की ख़बरें दोस्त ने ही रची करोड़ों की चांदी चोरी की खेती: जयपुर में...

दोस्त ने ही रची करोड़ों की चांदी चोरी की खेती: जयपुर में डॉ। दोस्त से चांदी में निवेश किया, फिर उसे जमीन में ढाला और खुद ही 27 फीट सुरंग खोदकर चुरा ले गया।


  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • राजस्थान Rajasthan
  • जयपुर
  • यह जौहरी था जिसने रजत में डॉक्टर का निवेश किया और चोरी की आशंका दिखाते हुए जमीन पर कब्जा कर लिया, बाद में भतीजे और कर्मचारियों के साथ, सरदारों को नियुक्त किया।

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयपुर40 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

वैशाली नगर में डॉ के घर में सुरंग बनाकर चांदी चोरी करने के मामले में पकड़े गए आरोपी।

राजस्थान के जयपुर में हुई करोड़ों रुपए की चांदी चोरी का पुलिस ने खुलासा किया है। पीड़ित डॉ के जुलेर दोस्त ने ही वरदात को अंजाम दिया था। हालांकि, आरोपी अभी तक पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। पुलिस ने बताया कि जयपुर के वैशाली नगर में डॉ सुनीत सोनी के घर 24 फरवरी को सुरंग बनाकर करोड़ों की चांदी चोरी हुई थी।

वरदात के मुख्य आरोपी जुएलर शिखर अग्रवाल ने अपने डॉक्टर दोस्त को चांदी में निवेश करवाया था। फिर सुरक्षित रखने के लिए जमीन में गड़वा दिया। इसके बाद पूरी वारदात को अपने भांजे जतिन जैन के साथ अंजाम दिया। पुलिस ने इस मामले में ज्वैलर राशि अग्रवाल के 3 और सहयोगियों को गिरफ्तार किया है। जबकि राशि अग्रवाल और जतिन जैन अब भी फरार हैं। पुलिस ने बताया कि चोरी की गई चांदी ईंट के रूप में लगभग 18 सिल्लियों में थे। उन्हें अभी तक बरामद नहीं किया गया है।

27 फीट लंबी सुरंग बनाई गई थी
एसीपी अजय पाल लांबा ने बताया कि पुलिस ने सबसे पहले उस प्लाट के मालिक बनवारी जांगिड़ को गिरफ्तार किया था, जहां से सुरंग बनाई गई थी। पूछताछ में यह पता चला कि बनवारी जांगिड़ को यह प्लाट सम अग्रवाल ने ही खरीदा था। प्लाट जस्टर्स में बनवारी के नाम था, जबकि उसका पूरा पैसा राशि ही लगाया गया था।

बनवारी से पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो उसने जुलेर के यहां काम करने वाले कालूराम सैनी, केदार जाट और एक कारपेंटर रामकरण जांगिड़ का नाम बताया। रामकरण आमेर का रहने वाला है, जो बनवारी का पड़ोसी है। पुलिस ने इन तीनों को गिरफ्तार कर लिया है।

इन सभी ने मिलकर खाली प्लाट से डॉ के घर तक लगभग 27 फीट लंबी टनल बनाई और चांदी चोरी की। शिखर अग्रवाल ने काम होने के बाद रामकरण को 5.50 लाख रुपये भी दिए थे।

पिछले साल बन गया था तहखाना
पुलिस ने बताया कि डॉ को रजत में निवेश कर पाने का पूरा काम शिखर अग्रवाल ही करता था। डॉ पर भरोसा करने के लिए वह उसे क्रेडिट पर भी चांदी की सिल्लियां दे देता था। जब डॉ के पास बड़ी मात्रा में चाँदी इकट्ठी हो गई तो सम्म ने ही इसे सुरक्षित रखने के लिए घर में तहखाना बनाने का सामान दिया। पिछले साल दीपावली के आसपास ही डॉ। ने तहखाना बनवाकर चांदी को छुपाया था। तहखाने में चांदी रखते हुए जब सम्म भी भी डॉ के साथ था।

ये पूरा मामला है
वैशाली नगर में डॉ। सुनीत सोनी के घर 24 फरवरी को चोरी की वारदात हुई थी। डॉ के घर के ठीक पीछे बने प्लॉट से 27 फीट लंबी सुरंग बनाकर चोर चांदी की सिल्लियां और जेवर चोरी कर ले गए। ये सारा कीमती सामान 3 बक्सों में जमीन के अंदर गड़ा हुआ था। चोरी की वारदात का खुलासा तब हुआ, जब डॉ। सोनी 2 दिन बाद 26 फरवरी को बेमेंट में गई। वहां उन्हें बॉक्स टूटा मिला और उसमें रखी चांदी गायब मिली। एक बॉक्स के नीचे लगभग 2 फीट गहरी सुरंग दिखी। इसके बाद डॉ ने चोरी की रिपोर्ट दर्ज करवाई। जिस प्लॉट से चोरी के लिए सुरंग बनाई गई थी, उसमें एक कमरा भी बना हुआ था। उसी वर्ष जनवरी में जुलेर ने पैसे देकर उसे अपने परिचित बनवारी जांगिड़ के नाम से चित्रित किया था।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments