Home कैरियर नवरात्र कन्‍या पूजन में बर्तन देना पड़ेगा महंगा, एक किलोग्राम स्‍टील पर...

नवरात्र कन्‍या पूजन में बर्तन देना पड़ेगा महंगा, एक किलोग्राम स्‍टील पर इतने बढ़े दाम


स्‍टील के दाम प्रति किलोग्राम बढ़ने से इस बार बर्तन खरीदना महंगा पड़ेगा. Photo-facebook

नवरात्र (Navratra) शुरू होते ही लोग स्‍टील के छोटे-छोटे बर्तन जैसे प्‍लेटें, गिलास, कटोरी, कप, लंच बॉक्‍स आदि चीजें कन्‍या पूजन (Kanya Pujan) में देने के लिए खरीदते हैं. ये बर्तन किलोग्राम के हिसाब से ही खरीदे जाते हैं. दिल्‍ली-एनसीआर (Delhi NCR) में खासतौर पर स्‍टील के बर्तन देने का रिवाज है.



  • Last Updated:
    October 21, 2020, 8:00 PM IST

नई दिल्‍ली. इस बार शारदीय नवरात्र में कन्‍या पूजन या कंजक पूजन नवमी के दिन 24 अक्‍तूबर को किया जाना है. इससे एक दिन पहले 23 अक्‍तूबर को भी अष्‍टमी के दिन कई जगहों पर कन्‍या पूजन का विधान है. वहीं देशभर में अधिकांश लोग कन्‍याओं को भोजन कराने के बाद स्‍टील के बर्तन या अन्‍य गिफ्ट आयटम दक्षिणा के रूप में देते हैं लेकिन इस बार स्‍टील के बर्तन देना लोगों की जेब पर भारी पड़ सकता है.

बता दें कि नवरात्र शुरू होते ही लोग स्‍टील के छोटे-छोटे बर्तन जैसे प्‍लेटें, गिलास, कटोरी, कप, लंच बॉक्‍स आदि चीजें कन्‍या पूजन में देने के लिए खरीदते हैं. ये बर्तन किलोग्राम के हिसाब से ही खरीदे जाते हैं. दिल्‍ली-एनसीआर में खासतौर पर स्‍टील के बर्तन देने का रिवाज है. इसके लिए न केवल लोग रिटेल दुकानों से बल्कि सदर बाजार स्थित डिप्‍टी गंज थोक बर्तन बाजार के अध्‍यक्ष सुधीर कुमार बताते हैं कि इस बार स्‍टील के बर्तन 15-20 रुपये प्रति किलोग्राम महंगे हो गए हैं.

सुधीर कुमार का कहना है कि स्‍टील के बर्तनों के लिए भारत में कच्‍चा माल नहीं होता. स्‍टील की चादरें चीन से आती हैं. इसके बाद भारत के दिल्‍ली, मुंबई, अहमदाबाद, जोधपुर, यमुनानगर आदि शहरों में स्‍टील के बर्तन बनाने का काम किया जाता है. हालांकि इस बार चीन विरोधी माहौल के कारण पहले ही स्‍टील का कच्‍चा माल कम आया, इसके बाद आयात पर शुल्‍क भी बढ़ने के कारण कच्‍चा माल व्‍यापारियों को महंगा पड़ा है. जिसकी वजह से तैयार माल के दाम बढ़े हैं.

30-40 फीसदी ही आ रहे ग्राहक

आगे पढ़ें








Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments