Home खेल जगत नेशनल डोप टेस्टिंग लेबोरेटरी के लिए बुरी खबर: ओलिंपिक का साल, हमारे...

नेशनल डोप टेस्टिंग लेबोरेटरी के लिए बुरी खबर: ओलिंपिक का साल, हमारे पास टेस्ट हाउस नहीं; फिर से बढ़ सकता है भारत की डोप टेस्टिंग एमबीए का निलंबन


विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भोपाल4 मिनट पहलेलेखक: कृष्ण कुमार पांडेय

  • कॉपी लिस्ट

पीलि चंद्रन, (साई के पूर्व निदेशक खेल मेडिसिन)

  • अगस्त 2019 में पहली बार मान्यता रद्द हुई थी

खेल मंत्रालय और नेशनल एंट डोपिंग एजेंसी (नाडा) के लिए बुरी खबर है। देश की राष्ट्रीय डोप टेस्टिंग लेबोरेटरी (एनडीटीएल) का निलंबन एक दफा और बढ़ सकता है। कारण, डोपिंग की वैश्विक संस्था वाडा (वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी) भारत सरकार के उन प्रयासों से संतुष्ट नहीं है, जो उसने एनडीटीएल की कमियों को दूर करने के लिए किए हैं। इसका असर ये हो रहा है कि टेस्ट ढाई गुना तक कम हो गए हैं। वहीं, देश की जापान में टेस्ट कराने की तुलना में विदेशी एमबीए में टेस्ट कराने से खर्च पचास गुना तक बढ़ गया है। साथ ही पड़ोसी देशाें की टेस्टिंग से मिलने वाली आय भी बंद हो गई है। दरअसल, वाडा ने अगस्त 2019 में साइट विजेट के दौरान मिली कमियों के कारण एनडीटीएल की मान्यता छह महीने के लिए रद्द कर दी थी। जुलाई 2020 में दूसरी बार निलंबन छह महीने के लिए बढ़ा दिया गया था। 17 जनवरी को वाडा का दूसरा सस्पेंशन समाप्त हो गया है।

खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने भी कहा था कि हमने एनडीटीएल की कमियों को दूर कर लिया है। वाडा के मैगी ड्यूरेंड ने बताया- अभी भी कई कमियां सुधारी नहीं गई हैं। आईएसएल के नियम के तहत रिलायंस की मान्यता अभी भी बहाल नहीं की जा सकती है। उम्मीद है कि एनडीटीएल जल्द ही सुधार कर लेगा।

असर

  • निलंबन से टेस्ट ढाई गुना तक कम
  • विदेशी जापान में टेस्ट से खर्च पचास गुना बढ़ा
  • विदेशों से मिलने वाला रेवेन्यू खत्म हुआ

सैंपल की टेस्टिंग न हो पाने से टाटा होने का कोई मतलब नहीं

25 साल तक साईं के डायरेक्टर ऑफ स्पोर्ट्स मेडिसिन रहे पीएश चंद्रन ने कहा, ‘एफिलेशन न हाएने से यहां टेस्टिंग नहीं हाए पा रही है। एसे में जापान हाेने का काेई मतलब नहीं है। अपनी अस्पताल में खर्च थोड़ा कम होता है और रिजल्ट भी जल्दी मिलते हैं। वहाँ विदेशी मध्य थोड़ी सूजन हैं और समय बहुत अधिक लगता है।

हर विद्यालय के अपने-अपने रेट्रो हैं। आमतौर पर एक टेस्ट में 15-20 हजार रुपये खर्च होते हैं। भारत के सैंपल दोहा में टेस्ट हो रहे हैं। वहाँ और दिल्ली के रेट में ज्यादा अंतर नहीं है। लेकिन जितनी जल्दी रिपोर्ट चाहिए, खर्च उतना ज्यादा बढ़ेगा। लंदन में टेस्टिंग का खर्च 26 से 35 हजार तक आता है। इसके अलावा भारत को पड़ोसी देशों की टेस्टिंग से मिलने वाली आय बंद हो गई है। पहले बांग्लादेश, पाकिस्तान और श्रीलंका के सैंपल दिल्ली में ही टेस्ट होते थे। ‘

इस साल महज 250 टेस्ट हुए जबकि पिछले साल 3800 हुए थे

अरब की मान्यता न होने से खेलों को डोपिंग मुक्त रखने का खेल मंत्रालय और नाडा का उद्देश्य प्रभावित हो रहा है। असर देश में हो रहा है एथलेटिक्स व अन्य प्रतियोगिताओं में शामिल खिलाड़ियों की सैंपलिंग पर भी पड़ रहा है। नाडा ने साल 2019-20 में 3858 टेस्ट किए हैं जबकि 2020-21 सीजन के दो महीने में आयोजित आधा दर्जन प्रतियोगिताओं में महज 200 से 250 टेस्ट ही किए गए हैं। जनवरी में भोपाल और फरवरी में गुवाहाटी में हुई जूनियर नेशनल एथलेटिक्स में नाडा ने 1,637 एथलीटों में से महज कुछ दर्जन नमूनों के लिए थे।

वाडा ने एमबीए पर आनुवांशिक कार्रवाई की सिफारिश की थी

पिछले साल फरवरी में वाडा के रायपुर एक्सपर्ट ग्रुप ने बाकी बची गैर-अनुरूपताओं के आधार पर एनडीटीएल के खिलाफ आगे की सकारात्मक कार्रवाई शुरू करने की सिफारिश की। इसके लिए स्वतंत्र समिति का गठन किया गया। इस कमेटी को वाडा एग्जीक्यूटिव कमेटी के चेयरमैन को एनडीटीएल के स्टेटस के बारे में रिपोर्ट करना था। तब तक केरल को सस्पेंड रखने का फैसला किया गया। 17 जनवरी को यह निलंबन भी खत्म हो गया है। फिर भी उद्योग में वाडा के नियमों के अनुकूल सुधार नहीं पाया गया है।

और इधर – एक-दूसरे को जिम्मेदार ठहराना नाडा-एनडीटीएल के अधिकारी
नाडा के डीजी नव अग्रवाल कहते हैं कि टेस्टिंग से जुड़े मामले एनडीटीएल ही देखता है। नाडा तो सिर्फ सैंपलिंग करता है। मुझे टेस्टिंग के संबंध में ज्यादा जानकारी नहीं है। वहीं, एनडीटीएल के साइंटिफिक डायरेक्टर डाॅ। पीएल साहू कहते हैं कि सैंपलिंग और टेस्टिंग के संबंध में नाडा से चर्चा करना चाहिए। वे ही सैंपल कलेक्ट कर रहे हैं और भिजवा रहे हैं। एनडीटीएल निलंबित है हम ताे बस उम्मीद कर रहे हैं कि हमारा निलंबन बहाल हाे और सारी चीजें सामान्य हाे जाएं।

खबरें और भी हैं …



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments