Home देश की ख़बरें न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट में खुलासा: गलवान हिंसा के बाद चीन ने...

न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट में खुलासा: गलवान हिंसा के बाद चीन ने मुंबई के पावर सप्लाई सिस्टम पर साइबर अटैक किया था, 10-12 घंटे बिजली सप्लाई थप थी।


  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • भारत में चीन साइबर हमले के कारण पिछले साल मुंबई में बिजली की निकासी हो सकती है, एनआईटी की रिपोर्ट में कहा गया है कि अक्टूबर में मुंबई में बिजली की निकासी हो सकती है।

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

15 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

रिपोर्ट के मुताबिक, चीन की RedEcho नाम के साइबर ग्रुप ने इस घटना को अंजाम दिया था। -सिम्बॉलिक इमेज

गलवान में भारतीय सेना के साथ हुई झड़प के बाद चीनी हैकरों ने पिछले साल 12 अक्टूबर को मुंबई के पावर सप्लाई सिस्टम पर साइबर अटैक किया था। इस घटना के बाद महानगर में लगभग 10-12 घंटे तक बिजली सप्लाई ठप रही थी। अमेरिका के प्रतिष्ठित पत्र न्यूयॉर्क टाइम्स ने अपनी एक रिपोर्ट में यह खुलासा किया है। रिपोर्ट के मुताबिक, चीन के रेड इको ग्रुप ने इस घटना को अंजाम दिया था।

बिजली सप्लाई सुबह करीब 10 बजे ठप हुई। दो घंटे बाद रेलवे सेवा तो शुरू कर ली गई थी, लेकिन पूरी तरह से समस्या दूर करने में 10-12 घंटे लगे थे। इसे दशक का सबसे खराब पावर फेल्योर बताया गया था।

भारत को चुप कराने की योजना
साइबर अटैक के जरिए चीन, भारत को चुप रहने का संदेश देना चाहता था। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि जब भारतीय और चीनी सैनिक बॉर्डर पर आमने-सामने थे, तब मॉलवेयर को उन कंट्रोल सिस्टम में डिलैक्ट किया जा रहा था जो पूरे भारत में बिजली की सप्लाई की देखरेख करते हैं।

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, महाराष्ट्र साइबर सेल की पत्रों की जांच में इस बात का खुलासा हुआ था कि पावर आउटेज के पीछे मॉलवेयर अटैक हो सकता है। हालांकि, डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी ने आउटेज की सबसे बड़ी वजह केन जिले के लोड डिसैच सेंटर में ट्रिपिंग को बताया था।

साइबर स्पेस कंपनी ने की थी ट्रेसिंग
रिपोर्ट में कहा गया है कि साइबर स्पेस कंपनी ने फ्यूचर ने घटना की मॉलवेयर ट्रेसिंग की थी। कंपनी के सीईओ स्टुअर्ट सोलोमन के हवाले से कहा गया है कि भारतीय पावर जनरेशन एंड ट्रांसमिशन इन्फ्रास्ट्रक्चर में लगभग 10 से अधिक नोड्स से एंट्री करने के लिए एडवांस साइबर टेक्नॉलजी का उपयोग किया गया था।

RedEcho को लगातार किया जाएगा ट्रैक
साइबर सिक्योरिटी कंपनी का कहना है कि इन तमाम आशंकाओं के बावजूद, मौजूदा हैकर ग्रुप के लिए मुंबई पावर आउटेज के लिए कौन जिम्मेदार है इसके पर्याप्त सबूत नहीं हैं। हालाँकि, इसके लिए RedEcho को ट्रैक करना जारी रहेगा। कंपनी ने ये भी कहा है कि उसने भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम को अपने रिजल्ट भेजे हैं।

सीमा झड़प के बाद 10,000 साइबर अटैक का प्रयास
रिपोर्ट के अनुसार, एक अधिकारी ने कहा कि अधिकांश हमले और मॉलवेयर का पथ और नियंत्रक सर्वर। चीन में मिला है। सीमा पर हुई झड़पों के तुरंत बाद हमने रोजाना 10,000 साइबर हमले के प्रयासों को ऑब्जर्व किया। वर्तमान में यह थोड़ा कम हुआ है, लेकिन हमें सतर्क रहना होगा। संभावित साइबर हमलों और संवेदनशील सरकारी वेबसाइटों और पोर्टल्स के सुरक्षा पहलुओं पर एक रिपोर्ट भी भारतीय कम्प्यूटर इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम को गई है।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments