Home देश की ख़बरें पीएम मोदी ने महाराजा सुहेलदेव ने ट्वीट किया शिलान्यास, बोले- इतिहास सिर्फ...

पीएम मोदी ने महाराजा सुहेलदेव ने ट्वीट किया शिलान्यास, बोले- इतिहास सिर्फ वह नहीं जो गुलामीपन से लिखा गया- News18 हिंदी


नई दिल्ली / बहराइच। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (नरेंद्र मोदी) ने मंगलवार को श्रावस्ती के महानायक राजा सुहेलदेव (महाराजा सुहेलदेव) की 4.20 मीटर ऊंची प्रतिमा के निर्माण सहित मानचित्र का एक वीडियो कांफ्रेंस के जरिये बसंत पंचमी के दिन मंगलवार को शिलान्यास किया। इस दौरान अनिश्चितकाल के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ और भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्‍यक्ष शब्‍दकार देव सिंह निकासी राय स्थित कार्यक्रम स्‍थल चित्तौरा में इस दौरान मौजूद रहे।

प्रधानमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंस के जरिये मंगलवार को निकासीाइच के चित्तौरा झील के विकास कार्यों का शिलान्यास किया। यह कार्यक्रम महाराजा सुहेलदेव की जयंती के उपलक्ष्‍य में इंदतर प्रदेश के बहिराईच में आयोजित किया गया। इसमें महाराजा सुहेलदेव की एक घोड़े पर सवार प्रतिमा की स्थापितापना, कैफेटेरिया, अतिथि गृह और न्यूजीलैंड के पार्क जैसी विभिन्‍न पर्यटक सुविधाओं को शामिल किया गया है।

निकासीाइ की पुण्यभूमि को नमन- PM
प्रधानमंत्री मोदी ने डिजिटल माध्यम से बहराइच जिले में महाराजा सुहेलदेव स्मारक और चित्तौरा झील की विकास योजना का शिलान्यास किया। साथ ही, प्रधानमंत्री ने महाराजा सुहेलदेव स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय और महर्षि बालार्क चिकित्सालय, निकासाइच का लोकार्पण भी किया।

इस दौरान पीएम ने कहा कि अपने पराक्रम से मातृभूमि का मान बढ़ाने वाले, राष्ट्रनायक महाराज सुहेलदेव की जन्मभूमि और ऋषि मुनियों ने कहा जहां तप किया, बहिराईच की इस पुण्यभूमि को मैं नमन करता हूं। बसंत पंचमी की आप सभी को बहुत-बहुत मंगल शुभकामनाएँ। माँ सरस्वती भारत के ज्ञान-विज्ञान को और समृद्ध करें।

प्रधानमंत्री ने कहा कि राम चरित मानस में गोस्वामी तुलसीदास जी कहते हैं- ‘ऋतु ​​बसंत बह त्रिविध बयारि’ यानी बसंत ऋतु में शीतल, मंद, सुगंध ऐसे तीन प्रकार की वायु बह रही है। समान हवा, इसी मौसम में खेत-खलिहान, बाग, बगान से लेकर जीवन का हर हिस्सा आनंदित हो रहा है। पीएम ने कहा- आज मुझे बहिराईच में महाराजा सुहेलदेव जी के भव्य स्मारक के शिलान्यास का सौभाग्य मिला है। उन्होंने दावा किया कि ये आधुनिक और भव्य स्मारक, ऐतिहासिक चित्तौरा झील का विकास, बहराइच पर महाराजा सुहेलदेव के आशीर्वाद को बढ़ाएगा और आने वाली पीढ़ियों को प्रेरित करेगा।

भारत का इतिहास सिर्फ उसने नहीं जो गुलामीता से लिखा है- पीएम
निकासीाइच में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से संबोधित कर रहे पीएम ने कहा कि आज महाराजा सुहेलदेव जी के नाम पर बनाए गए मेडिकल कॉलेज को एक नया और भव्य भवन भी मिला है। भारत का इतिहास सिर्फ वो नहीं है, जो देश को गुलाम बनाने वालों, गुलामी की एकता के साथ इतिहास लिखने वालों ने लिखा है, भारत का इतिहास वो भी है जो भारत के सामान्य जन में, भारत की लोकगाथाओं में रचा-बसा है। जो पीढ़ी दर पीढ़ी बढ़ा है।

पीएम ने कहा कि बहिराईच जैसे विकास के आकांक्षी जिले में स्वास्थ सुविधाओं को बढ़ाना यहां के रहने वालों के जीवन को आसान बनाए रखना है। इसका लाभ आसपास के जिले श्रावस्ती, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर को तो होगा ही साथ ही साथ ही नेपाल से आने वाले मरीजों को भी मदद मिलेगी। देश की पांच सौ से ज्यादा रियासतों को एक करने का कठिन कार्य करने वाले सरदार पटेल जी के साथ क्या किया गया, इसे देश का बच्चा भी भली-भांति जानता है। आज दुनिया की सबसे बड़ी प्रतिमा स्टेच्यू ऑफ यूनिटी सरदार पटेल की है, जो हमें प्रेरणा दे रही है।

चौरी-चौरा के वीरों के साथ जो हुआ, वह क्या हम भूल सकते हैं? – पीएम
प्रधानमंत्री ने कहा कि बीते कुछ वर्षों में देश भर में इतिहास, आस्था, अध्यात्म, संस्कृति से जुड़े जितने भी स्मारकों का निर्माण किया जा रहा है, उनका बहुत बड़ा लक्ष्य पर्यटन को बढ़ावा देने का भी है। उत्तर प्रदेश तो पर्यटन, तीर्थाटन दोनों के मामले में समृद्ध भी है और इसका लाभ भी अपार हैं।

उन्होंने कहा कि भारत के कई ऐसे सेनानी हैं, जिनके योगदान को कई वजहों से स्वीकार नहीं किया गया है। चौरी-चौरा के वीरों के साथ जो हुआ, वह क्या हम भूल सकते हैं? महाराजा सुहेलदेव और भारतीयता की रक्षा के लिए उनके प्रयासों के साथ भी यही प्रयास किया गया।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments