Home कैरियर पूर्णागिरि जनशताब्दी को रेल मंत्री ने दिखाई हरी झंडी, बोले-उत्तराखंड में 4200...

पूर्णागिरि जनशताब्दी को रेल मंत्री ने दिखाई हरी झंडी, बोले-उत्तराखंड में 4200 करोड़ से ऋषिकेश-कर्णप्रयाग नई लाइन का हो रहा निर्माण


नई दिल्ली/टनकपुर. रेल मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने उत्तराखंड (Uttarakhand) की जनता को टनकपुर-दिल्ली पूर्णागिरि जनशताब्दी स्पेशल ट्रेन की सौगात दी. ट्रेन को हरी झंडी दिखाने के बाद रेल मंत्री पीयूष गोयल ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि क्षेत्रीय जनता की लंबे समय से यह मांग थी जो आज पूरी हो गई है.

इस ट्रेन के संचालन से जहां मां पूर्णागिरी के दर्शन हेतु जाने के लिए एक सुगम साधन उपलब्ध हो गया है. वहीं इस गाड़ी के चलने से उत्तराखंड की जनता को दिल्ली जाने के लिए एक सुगम यात्रा सुविधा भी उपलब्ध हो गई है. साथ ही इससे क्षेत्रीय पर्यटन को बढ़ावा मिलने से रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे.

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने उत्तराखंड को लेकर रेलवे के कई अहम प्रोजेक्ट का भी जिक्र किया. उन्होंने बताया कि उत्तराखंड में 4200 करोड़ रूपये की लागत से ऋषिकेश-कर्ण प्रयाग (125.09 किमी.) नई लाइन निर्माण का कार्य प्रगति पर है. वहीं, हरिद्वार-लक्सर खंड (27 किमी.) के दोहरीकरण का कार्य पूरा कर लिया गया है. उत्तराखंड में आधारभूत रेल संरचना को सुदृढ़ करने हेतु वर्ष 2014-19 में प्रति वर्ष औसत 672 करोड़ रूपये का आवंटन किया गया, जो कि वर्ष 2009-14 तक के प्रति वर्ष औसत बजट आवंटन 187 करोड़ रूपये की तुलना में 259 प्रतिशत अधिक हैै.

वर्ष 2019-20 में उत्तराखंड में रेल परियोजनाओं एवं संरक्षा कार्यों के लिये 903 करोड़ आवंटित किया गया जो कि वर्ष 2009-14 तक के औसत प्रति वर्ष बजट आवंटन 187 करोड़ से 383 प्रतिशत अधिक है. वर्ष 2020-21 के बजट में उत्तराखंड में रेल प्रोजेक्ट्स  एवं संरक्षा कार्याें हेतु 1780 करोड़ रूपये आवंटित किया गया जो वर्ष 2009-14 तक के औसत प्रतिवर्ष बजट आवंटन 187 करोड़ रूपये से 852 प्रतिशत अधिक है.

इससे आगे बढ़कर वर्ष 2021-22 हेतु 4432 करोड़ का आवंटन किया गया है जो कि वर्ष 2009-2014 तक औसत प्रतिवर्ष आवंटन 187 करोड़ की तुलना में 22 गुना से भी अधिक है. उत्तराखंड में चल रही रेल परियोजनाओं के पूरा होने से उत्तराखंड विकास के नये क्षितिज पर पहुँचेगा.

गोयल ने कहा कि विगत कुछ वर्षों में इस क्षेत्र में रेलवे द्वारा उल्लेखनीय कार्य किये गये, जिसके अन्तर्गत वर्ष 2017 में पीलीभीत-टनकपुर खंड का गेज कन्वर्जन पूरा कर टनकपुर रेलवे स्टेशन को ब्राॅड गेज लाइन से जोड़ा गया.

दिल्ली से पीलीभीत तक का खंड विद्युतीकृत है तथा पीलीभीत से टनकपुर (62 किमी.) तक का विद्युतीकरण कार्य भी पूर्ण कर लिया गया है. रेल संरक्षा आयुक्त (Rail Safety Commissioner) के निरीक्षण के उपरान्त टनकपुर से दिल्ली तक सीधे विद्युत इंजन से गाड़ी चलायी जा सकेगी.

कार्यक्रम में वीडियो लिंक के माध्यम से केंद्रीय शिक्षा मंत्री डा. रमेश पोखरियाल ’निशंक’ उपस्थित थे. टनकपुर में आयोजित समारोह में सांसद अजय टम्टा, सांसद अजय भट्ट, सांसद अनिल बलूनी के अलावा विधायक कैलाश चन्द्र गहतोड़ी, विधायक पुष्कर सिंह धामी तथा विधायक पूरन सिंह फत्र्याल, रेलवे बोर्ड से सदस्य ओ.एण्ड बी.डी. पुर्णेन्दु मिश्रा भी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे.

अपर महाप्रबन्धक, पूर्वोत्तर रेलवे अमित कुमार अग्रवाल ने कहा कि 27 फरवरी, 2021 से 05325 टनकपुर-दिल्ली पूर्णागिरी जनशताब्दी विषेष गाड़ी टनकपुर से 11.25 बजे प्रस्थान कर दिल्ली 21.35 बजे पहुँचेगी तथा 05326 दिल्ली-टनकपुर पूर्णागिरी जनशताब्दी विशेष गाड़ी दिल्ली से 06.10 बजे प्रस्थान कर टनकपुर 16.10 बजे पहुँचेगी.

इस गाड़ी में जनरेटर सह लगेज यान के 02, द्वितीय श्रेणी चेयरकार के 08 एवं वातानुकूलित चेयरकार के 02 कोचों कुल 12 एल.एच.बी. कोच लगाये जायेंगे. अग्रवाल ने कहा कि टनकपुर स्टेशन पर उन्नत यात्री सुविधायें उपलब्ध करायी गयी है. मंडल रेल प्रबन्धक, इज्जतनगर आशुतोष पंत ने आभार जताया और वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबन्धक, इज्जतनगर नीतू ने कार्यक्रम का संचालन किया.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments