Home मध्य प्रदेश पूर्व वित्त मंत्री राघवजी ने कहा: बजट से ज्यादा कर्ज आर्थिक सेहत...

पूर्व वित्त मंत्री राघवजी ने कहा: बजट से ज्यादा कर्ज आर्थिक सेहत के लिए ठीक नहीं है


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भोपाल2 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

पूर्व वित्त मंत्री राघवजी

राज्य के बजट में 2.41 लाख करोड़ रुपये का है, लेकिन सरकार के कर्ज में 2.50 लाख करोड़ का है। ज्यादा कर्ज होने के मायने यह हैं कि सरकार हर साल ज्यादा ब्याज ले रही है। यह प्रदेश की वित्तीय सेहत के लिए अच्छा नहीं है। सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर वैट नहीं दिया। रजिस्ट्री भी सस्ता नहीं है। आम जनता को राहत की उम्मीद थी। हमारे प्रदेश में पेट्रोल और डीजल पर सबसे ज्यादा टैक्स है। रजिस्ट्री भी देश में सबसे ज्यादा गंध है।

सरकारों की मजबूरी यह है कि जीएसटी के आने के बाद उनका हाथ तंग हो गया है। इसलिए मैंने मप्र सरकार में वित्त मंत्री रहते हुए छह साल तक जीएसटी नहीं लगने दिया। पूरे देश में इसके खिलाफ लड़ाई की अगुवाई की। परिस्थिति यह है कि केंद्र सरकार हो या राज्य सरकार, सबकी कमाई का जरिया अभी भी अवैध जीएसटी वाले पेट्रोल और शराब जैसे उत्पाद हैं। अगर सरकार ने इस पर टैक्स Gaya तो वह संकट में फंस जाएगा। लेकिन, ज्यादा टैक्स होने के कारण प्रदेश में डीजल की बिक्री कम हो रही है।

लोग दूसरे राज्यों से ईंधन लेकर मप्र में आ रहे हैं। राज्य बजट में अच्छी बात यह है कि सरकार ने 24 हजार शिक्षकों की भर्ती की घोषणा की है। लगभग ढाई हजार नई गोशालाएं खोली जाएगी। 9 नए मेडिकल कॉलेज खोले जा रहे हैं। लेकिन, राज्य सरकार को यह देखना चाहिए कि मप्र के हर विभाग में हजारों पद खाली हैं। केवल पुलिस महकमें में हजारों आरक्षकों के पद लंबे समय से रिक्त हैं। इन पर भर्ती की प्रक्रिया में तेजी लाई जाने की जरूरत थी। लेकिन, सरकार ने इसके लिए कोई बात ही नहीं की।

सरकार ने राज्य की अर्थव्यवस्था में उद्योगों का योगदान बढ़ाकर 25% करने की बात कही है। लेकिन यह कैसे होगा? राज्य सरकार ने लोक सेवा आश्वासन अधिनियम और ईज ऑफ डुइंग बिजनेस के लिए 30 दिन में सभी एप्रूवल लाने की घोषणा की। लेकिन जब तक प्रदेश के अधिसूचना प्रणाली से जुड़े अधिकारियों और कर्मचारियों का रवैया नहीं बदल जाता है, तब तक हालात में सुधार नहीं होगा। मैंने वित्त मंत्री रहते हुए कई ग्लोबल इंवेस्टर समिट का आयोजन किया। बड़े उद्यमी आए। कई बड़े प्रोजेक्ट धरातल पर भी उतरे। लेकिन, निवेश का जो ताना बाना बुना गया था, वो साकर नहीं पाया गया। इस स्थिति में तेजी से बदलाव की जरूरत है। सरकार को पर्यटन में बड़ी संभावनाएं तलाशनी होंगी। यह सेक्टर आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश की रीढ़ बन सकता है, क्योंकि प्रदेश पर्यटन की संभावनाओं से भरा पड़ा है।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments