Home उत्तर प्रदेश बंद कमरे में साक्षात्कार, प्रक्रिया को रोकें

बंद कमरे में साक्षात्कार, प्रक्रिया को रोकें


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* केवल ₹ 299 सीमित अवधि की पेशकश के लिए वार्षिक सदस्यता। जल्दी से!

ख़बर सुनना

ज्ञानपुर। महाराजा चेतसिंह जिला चिकित्सालय में शनिवार को चार पदों पर होने वाली नियुक्ति गड़बड़ी के कारण निरस्त कर दी गई। बंद कमरे में चल रहे साक्षात्कार को डीएम आर्यका अखौरी की शिकायत पर सीएमओ डॉ। लक्ष्मी सिंह ने निरस्त कर दिया है।
स्वास्थ्य विभाग अक्सर किसी न किसी मामले को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहता है। शनिवार को जिला अस्पताल कारनामे को लेकर चर्चा में रहा। यहां पर एक चिकित्साधिकारी, एक काउंसलर और दो एमबीए तेजिशियन की संविदा पर नियुक्ति होनी थी। इसके लिए साक्षात्कार की तैयारी चल रही थी। बता दें कि शुक्रवार को अवकाश के दिन साक्षात्कार होना था, लेकिन मामला लीक होने से टल गया। शनिवार को भी दोपहर बाद अस्पताल में सन्नाटा पसर गया और बंद कमरे में साक्षात्कार होने का मामला प्रकाश में आया तो इसकी शिकायत किसी अभयर्थी ने डीएम से कर दी। इसके बाद डीएम आर्यका अखौरी के निर्देश पर सीएमओ डॉ। लक्ष्मी सिंह जांच करने के लिए पहुंची।
उन्होंने बताया कि अस्पताल प्रशासन की ओर से साक्षात्कार में गड़बड़ी मिली। प्रचार-प्रसार न होने से केवल एक अभयर्थी मौके पर पहुंच गया था। जिसके कारण नियुक्ति प्रक्रिया को निरस्त कर डीएम को आख्या भेज दी गई है। सीएमओ ने कहा कि प्रचार-प्रसार कराकर ही साक्षात्कार किया जाएगा। कोशिश होगी कि पूरी नियुक्ति प्रक्रिया रद्द हो जाए। विशेष बात यह है कि इन पदों पर पहले भी साक्षात्कार हुआ था, उस दौरान भी धानधली के कारण भर्ती प्रक्रिया निरस्त कर दी गई थी।) सूत्रों की माने तो अस्पताल के एक चिकित्सक के समन्वयमेल से कुछ चहेतों की नियुक्ति होनी थी। जिसके कारण गुपचुप तरीके से साक्षात्कार कराया जा रहा था।

ज्ञानपुर। महाराज चेतसिंह जिला चिकित्सालय में शनिवार को चार पदों पर होने वाली नियुक्ति गड़बड़ी के कारण निरस्त कर दी गई। बंद कमरे में चल रहे साक्षात्कार को डीएम आर्यका अखौरी की शिकायत पर सीएमओ डॉ। लक्ष्मी सिंह ने निरस्त कर दिया है।

स्वास्थ्य विभाग अक्सर किसी न किसी मामले को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहता है। शनिवार को जिला अस्पताल कारनामे को लेकर चर्चा में रहा। यहां पर एक चिकित्साधिकारी, एक काउंसलर और दो एमबीए तेजिशियन की संविदा पर नियुक्ति होनी थी। इसके लिए साक्षात्कार की तैयारी चल रही थी। बता दें कि शुक्रवार को अवकाश के दिन साक्षात्कार होना था, लेकिन मामला लीक होने से टल गया। शनिवार को भी दोपहर बाद अस्पताल में सन्नाटा पसार गया और बंद कमरे में साक्षात्कार होने का मामला प्रकाश में आया तो इसकी शिकायत किसी अभयर्थी ने डीएम से कर दी। इसके बाद डीएम आर्यका अखौरी के निर्देश पर सीएमओ डॉ। लक्ष्मी सिंह जांच करने के लिए पहुंची।

उन्होंने बताया कि अस्पताल प्रशासन की ओर से साक्षात्कार में गड़बड़ी मिली। प्रचार-प्रसार न होने से केवल एक अभयर्थी मौके पर पहुंच गया था। जिसके कारण नियुक्ति प्रक्रिया को निरस्त कर डीएम को आख्या भेज दी गई है। सीएमओ ने कहा कि प्रचार-प्रसार कराकर ही साक्षात्कार किया जाएगा। कोशिश होगी कि पूरी नियुक्ति प्रक्रिया रद्द हो जाए। विशेष बात यह है कि इन पदों पर पहले भी साक्षात्कार हुआ था, उस दौरान भी धानधली के कारण भर्ती प्रक्रिया निरस्त कर दी गई थी।) सूत्रों की माने तो अस्पताल के एक चिकित्सक के तालमेल से कुछ चहेतों की नियुक्ति थी। जिसके कारण गुपचुप तरीके से साक्षात्कार कराया जा रहा था।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments