Home अन्तराष्ट्रीय ख़बरें बाइडेन की मुश्किल: सऊदी प्रिंस के खिलाफ कार्रवाई का रिस्क नहीं ले...

बाइडेन की मुश्किल: सऊदी प्रिंस के खिलाफ कार्रवाई का रिस्क नहीं ले सकते अमेरिकी राष्ट्रपति, चुनाव के साथ वादा भी खत्म हो गया है


विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चार्ल्सटन4 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

जो बाइडेन ने चुनाव प्रचार के दौरान वादा किया था कि अगर वे राष्ट्रपति बनते हैं तो सऊदी अरब के प्रिंस सलमान के खिलाफ पत्रकार हत्या के मामले में कार्रवाई की जाएगी। (फाइल)

बात नवंबर 2020 की है। जो बाइडेन टेक्सॉस में एक रैली में भाषण दे रहे थे। तब उन्होंने डोनाल्ड ट्रम्प पर आरोप लगाया कि वे चार्ल्सटन पोस्ट के पत्रकार की हत्या के मामले में सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान को बचा रहे हैं। बाइडेन ने ये भी कहा था कि अगर वे राष्ट्रपति बनते हैं तो सलमान के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

अब बाइडेन राष्ट्रपति हैं। उन्होंने एक रिपोर्ट जारी की। कहा गया है कि पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के लिए प्रिंस सलमान ने मंजूरी दी थी। सऊदी अरब को संकेत देने के लिए बाइडेन ने प्रिंस सलमान की बजाए उनके पिता किंग सलमान से बातचीत की। लेकिन, सीएनएन के विश्लेषकोंिसिस में एक्सपर्ट ने दावा किया है कि बाइडेन प्रिंस सलमान के खिलाफ एक्शन का जोखिम ले सकता है।

वह तो सिर्फ चुनावी वादा था
सीएनएन से बातचीत में बाइडेनिस्टा के एक अफसर ने कहा- एक रिपोर्ट से कुछ नहीं होता है और इस रिपोर्ट को आधार बनाकर आप प्रिंस सलमान के खिलाफ कोई एक्शन भी नहीं ले सकते। वैसे भी इस रिपोर्ट में कुछ नया नहीं है। इसमें जो बातें कही गई हैं वे सभी एक साल से लोग जानते हैं और अमेरिकी अफसरों को भी हकीकत पता है। नया सिर्फ यह है कि इस रिपोर्ट को आधिकारिक तौर पर जारी किया गया है। आप कह सकते हैं कि अमेरिका के पास ऑफिशियल स्टैंडबाय कर दिया गया है।

इस अफसर ने कहा कि बाइडेन ने जब चुनावी सभाओं में खशोगी हत्याकांड का जिक्र किया था, तब भी वे जानते थे कि राष्ट्रपति बनने के बाद उनके लिए कई कदम उठाए नामुमकिन जैसा होगा। इसलिए इसे चुनावी वादे से ज्यादा अहमियत नहीं मिलेगी।

सऊदी से रिश्तों की अहमियत जानते हैं बाइडेन
बाइडेनिसा को बहुत अच्छे से मालूम है कि रियाद से उनके रिश्तों की कितनी अहमियत है। प्रिंस सलमान को सिर्फ सांकेतिक तौर पर निशाना बनाया गया है। किंग सलमान 85 साल के हैं और बीमार भी हैं। लिहाजा, शासन और सत्ता की पूरी बगडोर प्रधान सलमान के हाथ में है। अपने 70 साल के सहयोगी को किसी भी सूरत में नाराज नहीं कर सकते। अमेरिका के हजारों हित मिडल ईस्ट में सऊदी की वजह से ही पूरे होते हैं।

ट्रम्प के रास्ते पर ही चल रहा है
अमेरिकी रिपोर्ट में भले ही प्रिंस सलमान पर संक्षियां उठाई गई हों, लेकिन इससे ज्यादा कुछ होने की उम्मीद नहीं की जानी चाहिए। ट्रम्प के दौर में भी काफी बातें हुईं, लेकिन एक्शन के नाम पर कुछ नहीं हुआ। अब भी यही होगा। ईरान अब भी अमेरिका के लिए बड़ी परेशानी बना हुआ है। ये हालात में बाइडेन कभी नहीं करेंगे कि सऊदी अरब को नाराज किया जा सके। प्रधान सलमान के पास रूस और चीन जैसे ऑप्शन हैं और ये दोनों ही देश करेंगे कि यह अमीर मुल्क उनके पाले में आए।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments