Home वूमेन ख़बरें बीमा: होम लोन के साथ लें होम लोन इंश्योरेंस, अपनों को दें...

बीमा: होम लोन के साथ लें होम लोन इंश्योरेंस, अपनों को दें सुकून भरी ज़िंदगी


विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

तरुण पाहवा2 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट
  • अगर घर बनाने की ज़िम्म सूची आपकी है, तो परिवार की सुरक्षा की एक और ज़िम्म सूची पूरी करेंगे होम लोन के साथ होम लोन इंश्योरेंस के बारे में।

व्यक्ति होम लोन के बारे में घर बनाता है ताकि अपना एक आसरा बनाकर परिवार को सुकून भरा ज़िंदगी दे सके। ोन होम लोन के साथ एक बड़ी देयता बन जाती है। कर्ज़ लेने वाले व्यक्ति की अगर मौत हो जाती है, तो कर्ज़ चुकाने की ज़िम्मेदार सूची परिवार के सदस्यों पर आ जाती है। होम लोन के साथ होम लोन इंश्योरेंस लेने से इस स्थिति से बचा जा सकता है। ये कैसे फ़ायदेमंद है और कैसे काम करता है, आइए समझते हैं।

होम लोन बीमा पर असमंजस

जब आप होम लोन लेने के लिए बैंक जाते हैं, तो वे होम लोन बीमा लेने की सलह देते हैं। ज़्यादातर बैंकों और एनबीएफसी ने होम लोन बीमा को अनिवार्य कर दिया है। जबकि लोन बीमा अनिवार्य नहीं है। बीमा लेना है या नहीं यह लोन लेने वाले व्यक्ति पर निर्भर करता है। इसके लिए वे नहीं कर सकते। हालांकि विशेषज्ञों के मुताबिक यह बीमा एक अतिरिक्त सुरक्षा की तरह है। यदि ऋण धारक की मृत्यु हो जाती है तो बैंक घर की नीलामी नहीं होगी। यह परिवार के लिए सुरक्षा का इंतज़ाम होता है। लोन बीमा लेने वाले व्यक्ति के साथ कोई आकस्मिक आपदा आने पर लोन राशि भुगतान नहीं करना होता है। यदि व्यक्ति होम लोन के बराबर टर्म इंश्योरेंस कवर लेता है तो इंश्योरेंस कंपनी बीमाधारकों की मृत्यु होने पर बीमे की राशि उसके परिजनों को दे देगी। इस पैसे से मृतक के परिजन ख़ुद होम लोन का भुगतान कर सकते हैं।

होम लोन बीमा और टर्म इंश्योरेन्स में प्रीमियम

यह ऐसी समझ है। होम लोन बीमा की प्रीमियम एक मुश्त होती है जो लोन की राशि के साथ जोड़ दी जाती है। 50 लाख रुपए के कवर के लिए एक मुश्त प्रीमियम 25000 रु। । लगभग चुकाना होता है। वहीं टर्म इंश्योरेन्स का प्रीमियम रेटिंग समरावधि के अनुसार 5000 से 7000 रु। सालाना तक होता है।

होम लोन इंश्योरेंस और होम इंश्योरेंस के बीच का अंतर

कई बार लोग होम लोन इंश्योरेंस और होम इंश्योरेंस के बीच के अंतर को समझ नहीं पाते हैं। होम इंश्योरेंस में घर और उसमें मौजूद सामानों की चोरी, प्राकृतिक आपदा जैसे भूकंप, तूफान, बाढ़ आदि से होने वाले नुकसानों को कवर किया जाता है। वहाँ होम लोन इंश्योरेंस घर ख़रीदने या बनने पर पर गए कर्ज़ को कवर करता है।

टर्म इंशोरेंस में कुछ विकल्प ऐसे भी हैं, जहां अवधि पूर्ण होने पर हमें प्रीमियम राशि की वापसी हो सकती है। और अन्य विकल्प में इंश्योरेंस की बीमा राशि बढ़ती है। यहां किसी प्रकार की आकस्मिक घटना होने पर परिवार के सदस्यों को अतिरिक्त आर्थिक सहायता (लोन राशि भुगतान करने के बाद) प्राप्त हो सकती है।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments