Home वूमेन ख़बरें भारतीय छात्रों को पछाड़ गोल्ड मेडल जीता: स्पेन की मारिया ने संपूर्णानंद...

भारतीय छात्रों को पछाड़ गोल्ड मेडल जीता: स्पेन की मारिया ने संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में किया टॉप, काशी में बनी संस्कृत की आचार्य, अब अपने देश में लेगी शिक्षा


  • हिंदी समाचार
  • महिलाओं
  • बॉलीवुड
  • स्पेन की मारिया ने सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में शीर्ष किया, काशी में संस्कृत शिक्षक बनी, अब वह अपने देश में काम करेंगी

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

5 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

संपूर्ण विश्व का ज्ञान लेना है तो भारत की प्राचीन भाषा संस्कृत पढ़ें … यह कहना है सात समंदर पार यूरोपीय देश स्पेन की मारिया का। वाराणसी के संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय से मारिया ने संस्कृत में ‘पूर्व मीमांसा’ विषय से ‘आचार्य’ की डिग्री लेने के साथ ही भारतीय छात्रों को पछाड़ कर विश्वविद्यालय में ‘टॉप’ किया। मारिया को मंगलवार को उप्र की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने गोल्ड मेडल और प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया।

आनंदीबेन पटेल ने कहा कि यह मेडल केवल एक भाषा और विषय को नहीं, बल्कि इस बात को भी दर्शाता है कि हमारी सभ्यता और संस्कृति आगे बढ़ रही है।आंनदी बेन दीक्षांत समारोह की प्रमुख कर बनी हुई थी। मुख्य अतिथि मालदीव में पूर्व राजदूत और विदेश मंत्रालय में अपर सचिव अखिलेश मिश्र थे। विश्ववविद्यालय के 38 वें दीक्षांत समारोह में विश्वविद्यालय के शताब्दी भवन में 29 मेधावियों को कुल 57 मेडल मिले।

राज्यपाल पटेल ने कहा संस्कृत केवल एक भाषा नहीं, हमारी परंपरा को गतिमान करने का एक महत्वपूर्ण स्रोत है। इसके साथ-साथ सभी भारतीय भाषाओं की पोषिका है। संस्कृत ज्ञान के बिना किसी भी भारतीय भाषा में पूर्णता प्राप्ति नहीं हो सकती है। इस विद्या में केवल कर्मकांड नहीं है अपितु आर्य भट्ट, वास्तु शास्त्र 64 कलाएं, राजनीतिक शास्त्र, नीति शास्त्र, समाज शास्त्र, नाट्य शास्त्र, आदि कई लोक उपयोगी विषय निहित है जो आज भी प्रसांगिक है। इसी से संपूर्ण विश्व में एक आत्मा का विस्तार हुआ है। संस्कृत भाषा व सनातन संस्कृति के कारण ही देशवाद के सूत्र में परिवर्तन हुआ है। बता दें कि 1791 में स्थापित महाविद्यालय में अब सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय है। विश्वविद्यालय को 1958 में उप्र के तत्कालीन मुख्यमंत्री डाॅ। संपूर्णानंद ने बनाया था। उस समय इसका नाम जननसेय संस्कृत विश्वविद्यालय था। 1974 में इसका नाम बदलकर ‘सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय’ रख दिया गया।

संस्कृत में विश्व का ज्ञान भरा है, इसलिए स्पेन से काशी आईं

उपाधि मिलने के बाद मारिया ने कहा कि संस्कृत ऐसी भाषा है जिसमें पूरे विश्व का ज्ञान भरा पड़ा है। इसलिए स्पेन से संस्कृत की शिक्षा के लिए काशी के सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्ववविद्यालय में प्रवेश लिया। गुरुओं के आशीर्वाद से आचार्य की उपाधि मिली है। अब मैं जीवन भर देव भाषा संस्कृत का प्रचार-प्रचार स्पेन में करूंगी।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments