Home अन्तराष्ट्रीय ख़बरें भारत के पास ग्लोबल पावर बनने का मौका: कोरोना पर सबसे पहले...

भारत के पास ग्लोबल पावर बनने का मौका: कोरोना पर सबसे पहले ओवर पाने वाला चीन भी भारत से वैक्सीन डिप्लोमेसी में हन


  • हिंदी समाचार
  • अंतरराष्ट्रीय
  • भारत के पास एक वैश्विक शक्ति बनने की संभावना है; चीन, जो भारत से कोरोना प्रथम, लॉस वैक्सीन कूटनीति को नियंत्रित करता है

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एक घंटा पहलेलेखक: लायन मार्लो, अर्चना चौधरी और कारी लिंडबर्ग

  • कॉपी लिस्ट

भारत घरेलू दवा निर्माता कंपनियों को मजबूत कर अब दुनिया में मुफ्त वैक्सीन पहुंच रहा है।

कोरोना पर सबसे पहले ओवर पाने के बाद भी चीन ने वैक्सीन के मामले में दुनिया में धाक जमाने का मौका गंवा दिया है, वहीं कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित होने के बाद भी भारत घरेलू दवा निर्माता कंपनियों को मजबूत कर अब दुनिया में मुफ्त वैक्सीन तक पहुंच रहा है। है। आंकड़े बताते हैं कि अब तक भारत ने 68 लाख डोज वैक्सीन मुक्त में पूरी दुनिया में पहुंचाई हैं। जबकि ब्लूमबर्ग के आंकड़ों के मुताबिक, चीन ने अब तक 39 लाख वैक्सीन दी हैं।

इस स्थिति ने भारत को ग्लोबल पावर बनने का राजनयिक अवसर दिया है। भारत की फार्मास्युटिकल इंडस्ट्री खासकर सीरम इंस्टीट्यूट पहले ही दक्षिण एशिया में दवाओं की प्रमुख कंपनियों बन चुकी है। इसी कारण चीन का वैश्विक असर भी कम हो रहा है। भारत ने अपने पड़ोसी देशों नेपाल, बांग्लादेश और श्रीलंका को वैक्सीन की लाखों डोज मुहैया किए हैं।

श्रीलंका में विपक्ष के नेता इरान विक्रमसिंघे कह चुके हैं कि भारत की वजह से देश में तुरंत वैक्सीनेशन शुरू कर सकते हैं, इसके लिए श्रीलंका के लोग भारत के शुक्रगुजार हैं। वहीं बांग्लादेश में भी वैक्सीनेशन शुरू हो चुका है। जबकि एक और पड़ोसी म्यांमार से चीन ने वादा किया था कि वह 3 लाख वैक्सीन उपलब्ध कराएगा लेकिन इससे पहले ही भारत ने 17 लाख वैक्सीन उपलब्ध करा दी थी।

भारत ने दूसरे देशों को भरोसा दिलाया
जहाँ भारत के घरेलू वैक्सीन निर्माता अमीर देशों को अपनी वैक्सीन बेचने के लिए मुक्त हैं वहीं सरकार ने छोटे देशों से भी वैक्सीन खरीदने का वादा किया है। भारतीय अधिकारियों ने दूसरे देशों के उच्चायुक्तों को हैदराबाद और पुणे की यात्रा भी की है जिसके जरिए वह दक्षिण एशिया के पड़ोसी देश, भारतीय उपमहाद्वीप और डोमेनिका-बारबाडोस जैसे दूर के देशों को भी आश्वस्त किया है कि उन्हें समय पर और मुक्त वैक्सीन दी जाएगी।

न राष्ट्रीयकरण किया गया, न ही एक्स बंद हो गया
विदेश मंत्रालय की नीति एडवाइजर अशोक मलिक बताते हैं कि हमने बहुत पहले समझ लिया था कि वैक्सीन बनाने की भारत की क्षमता महामारी को हराने में काफी नहीं है, लेकिन पिछले साल जब भारतीय दवा निर्माताओं ने एंटी-मलेरिया ड्रग हाइड्रोक्लोरोक्वीन एक्सिट करना शुरू किया था, तब तक भारतीय प्रधानमंत्री दूसरे देशों के नेताओं से वैक्सीन उपलब्ध कराने के बारे में चर्चा शुरू कर चुके थे। इतना ही नहीं, जब भारत में को विभाजित से मरने वालों की संख्या 1.56 लाख पार कर रही थी, तब भी उसने फैसला किया कि वह वैक्सीन का राष्ट्रीयकरण नहीं करेगा और न ही एक्स रोकेगा।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments