Home देश की ख़बरें भारत-चीन दरार: तिब्बीत के रासते चीन को शिकस्त देने में जुटा भारत,...

भारत-चीन दरार: तिब्बीत के रासते चीन को शिकस्त देने में जुटा भारत, भारतीय सेना ने तैयार किया परमाणु युद्ध


पूर्वी लद्दाख में जारी सैन्य टकराव के बीच चीन लगातार अस्थिर सीमा पर भी भारत को परेशान कर रहा है।

पूर्वी लद्दाख (पूर्व लद्दाख) में जारी विधान टकराव के बीच चीन (चीन) लगातार असत्य सीमाओं पर भी भारत (भारत) को परेशान कर रहा है। चीन के इसी बर्ताव को देखते हुए भारतीय सेना (भारतीय सेना) ने अपने पड़ोसी मुलक को उसी की जुबान में जवाब देने की तैयार की है।

  • News18Hindi
  • आखरी अपडेट:28 जनवरी, 2021, सुबह 9:11 बजे IST

नई दिलवाली पड़ोसी देश नस्त्तान (पाकिस्तान) की तरह ही अब चीन (चीन) भी लगातार भारत (भारत) के लिए सिर दर्द बन रहा है। पूर्वी लद्दाख (पूर्वी लद्दाख) में जारी टकराव के बीच चीन लगातार असत्य सीमाओं पर भी भारत को परेशान कर रहा है। चीन के इसी बर्ताव को देखते हुए भारतीय सेना (भारतीय सेना) ने अपने पड़ोसी मुलक को उसी की जुबान में जवाब देने की तैयार की है। चीन लगातार तिब्बीत (तिब्बत) के रासते भारतीय सीमा पर गड़बड़ी करने की कोशिश में लगा रहता है। चीनी सेना की इसी हरकत को देखते हुए भारत की नजर अब तिब्बीत पर टिक गई है। भारतीय सेना अब तिब्बीत के रासते ही चीन पर पैनी नजर रखने की तैयारी कर रही है।

खबर है कि सेना अब अपने अधिकारियों को वाशिविक नियंत्रण रेखा के दोनो ओर तिब्बती इतिहास, संस्कृति और भाषा का अध्ययन कराने पर जोर दे रहा है। सेना का कहना है कि अगर चीन पर नजर रखनी है तो तिब्बीति भाषा और संकेत उदाहरणों का ज्ञान होना अत्यंत आवश्यक है। इसके बाद ही तिब्बीत में भारतीय सेना अपने नेटवर्क को मजबूत कर रही चीनी सेना पर नजर रख सकेगी। तिब्बत को लेकर ये प्रस्ताव पहली बार अक्टूबर में सेना के गांधारों के सम्मेलन में लाया गया था। भारतीय सेना प्रमुख एम। एम नरवने ने शिमला स्थित सेना प्रशिक्षण कमान (ARTRAC) सेना की ओर से दिए गए प्रस्ताव को आगे बढ़ाने की बात कही थी।

ARTRAC ने तिब्बत में कई पाठ्यक्रमों की पेशकश करने वाले सात संस्थानों की पहचान की है, जहां सेना के अधिकारी अध्‍ययन अवकाश के लिए जा रहे हैं। सेना की ओर से जिन संबोधनों की पहचान की गई है, उनमें बौद्ध अध्ययन विभाग (दिल्ली विश्वविद्यालय), केंद्रीय तिब्बती अध्ययन संस्थान (वाराणसी), नालंदा महाविहार (बिहार), विश्व भारती (पश्चिम बंगाल), दलाई लामा इंस्टीट्यूट हायर एजुकेशन (बैंगलोर) ), नामग्याल इंस्टीट्यूट ऑफ तिब्बतोलॉजी, गंगटोक, सिक्किम और सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन कल्चर स्टडीज (सीएससीएचएस), दाहुंग (अरुणाचल प्रदेश) शामिल हैं।यह भी पढ़ें: – भारत-चीन गतिरोध: सिक्किम में चीनी सैनिकों के साथ हुई झड़प, भारतीय सेना ने जारी किया बयान सेना के एक अधिकारी ने बताया कि सेना के जियादातर अधिकारी नेसतान की भाषा और संकेत उदाहरण से अच्छी तरह से वाकिफ हैं। लेकिन चीन और चीनी के लोगों के बारे में सेना के अधिकारियों में विशेषज्ञता की कमी है। चीन को वास्तव में समझने वाले अधिकारी संख्या में बहुत कम है। इन कमियों को दूर करने की आवश्यकता है। सेना को भाषाई, संकेत उदाहरण और रेगवहार पैटर्न के संदर्भ में चीन और तिब्बत दोनों पर विशेषज्ञत बनाने की जरूरत है। इसके लिए भाषा और क्षेत्र विशेषज्ञता की आवश्यकता होगी। इसमें चयनित अधिकारी पाकिस्तान के साथ पश्चिमी मोर्चे के बजाय एलएसी के साथ लंबे समय तक जुड़े रहेंगे।

यह भी पढ़ें: – चीन ने पूर्वी लद्दाख में LAC के पास गहराई वाले क्षेत्रों से लगभग 10000 सैनिकों को पीछे छोड़ दिया

सेना के अधिकारी ने कहा, भारत निश्चित रूप से कथित “तिब्बत कार्ड” खेलने से बच रहा है, जो वर्षों से चीन के लिए एक प्रमुख रेड-लाइन है। अब वध्य आ गया है कि चीन को उसी की भाषा में जवाब दिया जाए, जिससे भारतीय सीमा को पूरी तरह से सुरक्षित किया जा सके।







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments