Home उत्तर प्रदेश मरहम न सही अपमान तो न करिए 'नेताजी': अलीगढ़ में शहीद नेत्रपाल...

मरहम न सही अपमान तो न करिए ‘नेताजी’: अलीगढ़ में शहीद नेत्रपाल के अंतिम संस्कार में भाजपा-सपा नेताओं ने लगाए ठहाके, वीडियो वायरल


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अलीगढ़एक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

यह फोटो अलीगढ़ की है। इसमें सफेद बाल और सफेद कुर्ता पजामा पहने भाजपा के जिलाध्यक्ष ऋषिपाल की है। ये शहीद के अंतिम संस्कार पहुंचे लेकिन अपनी गरिमा को भुला बैठे।

  • 23 दिसंबर को ग्रेनेड हमले में घायल हुए थे सीआरपीएफ के जवान नेत्रपाल सिंह, 29 दिसंबर को हुई थी मौत
  • बुधवार की शाम पैतृक गांव लाया गया पार्थिव शरीर, सैनिक सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार

उत्तर प्रदेश में अलीगढ़ जिले के भाजपा जिलाध्यक्ष ऋषि पाल सिंह और सपा नेता बिजेंद्र सिंह का एक शर्मनाक वीडियो सामने आया है। मौका माँ का था। शहीद सीआरपीएफ के युवा नेत्रपाल का पार्थिव शरीर घर के दरवाजे पर था। परिवार पर दुखों का पहाड़ टूटा था। लेकिन समर्थकों व कार्यकर्ताओं से घिरे दोनों नेता ठहाके लगाने में मशगुल थे। दोनों नेता नेत्रपाल के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए पहुंचे थे। वीडियो वायरल होने पर लोग इसे शहीद की शहादत का अपमान बता रहे हैं।

दरअसल, थाना गौंडा के पिसावा गांव निवासी नेत्रपाल सिंह बीते 23 दिसंबर को पाकिस्तान द्वारा फेंके गए ग्रेनेड के हमले में घायल हो गए थे। जहां उनके श्रीनगर के अस्पताल में छह दिनों के इलाज के बाद 29 दिसंबर को मौत हो गई।

शहीद जवान का पार्थिव शरीर गांव लाया गया तो कोहराम मच गया।

शहीद जवान का पार्थिव शरीर गांव लाया गया तो कोहराम मच गया।

सूबेदार के पद पर तैनात थे
नेत्रपाल सिंह का जन्म 1971 में हुआ था। वे वर्तमान में श्रीनगर में सीआरपीएफ 162 बटालियन में सूबेदार के पद पर तैनात थे। बुधवार दोपहर बाद उनका शव दिल्ली से पैतृक गांव लाया गया। शव को देखकर परिवार वालों की आंखें गमगीन हो गई। वहीं ग्रामीणों ने नेत्रपाल अमर होने के नारे लगा दिए। यहां 139 बटालियन के प्रशांत प्रशांत यादव, इंस्पेक्टर विजयपाल सिंह के नेतृत्व में 14 सदस्यों की टीम द्वारा राजकीय सम्मान के साथ जवान को अंतिम सलामी दी गई। इसके बाद उनका अंतिम संस्कार किया गया।

नेत्रपाल सिंह वर्तमान में श्रीनगर में CRPF 162 बटालियन में सूबेदार के पद पर तैनात थे।

नेत्रपाल सिंह वर्तमान में श्रीनगर में CRPF 162 बटालियन में सूबेदार के पद पर तैनात थे।

चार बच्चे व पत्नी को छोड़ दिया गया

नेत्रपाल के माता-पिता की मौत हो गई है। परिवार में पत्नी सुमन देवी, पुत्र हर्ष व जतिन, बेटी सपना व शिवानी हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहीद के परिवार को 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments