Home मध्य प्रदेश महाकाल में शिवनवरात्रि: उज्जैन के महाकाल मंदिर में फाल्गुन कृष्ण पक्ष की...

महाकाल में शिवनवरात्रि: उज्जैन के महाकाल मंदिर में फाल्गुन कृष्ण पक्ष की पंचमी तीन मार्च से शिव नवरात्रि का उत्सव, 11 को महाशिवरात्रि


विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अजान7 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

महाकाल मंदिर में मंगलवार को सायंकाल बाबा महाकाल का दर्शन करें

  • पहले दिन बाबा को वस्त्र धारण कराए जाएंगे

फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की पंचमी यानि तीन मार्च दिन बुधवार से उज्जैन के महाकाल मंदिर में 9 दिन तक शिव नवरात्रि का उत्सव शुरू हो रहा है। यह 11 मार्च तक चलेगा। उत्सव की खास बात यह है बाबा महाकाल को रोज केसर, चंदन का उबटन, इत्र, औषधि, पैरों के रस आदि से स्नान कराया जाएगा। राजाधिराज का पुरस्कार, होल्कर, छबीना बनाना, शेषनाग, मनमहेश, उमा महेश, शिव तांडव और त्रिकाल स्वरूप में बनाए गए होंगे। फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी यानि 11 मार्च को महाकाल मंदिर में महाशिवरात्रि का महापर्व मनाया जाएगा। महाकाल मंदिर के पुजारी पं। आशीष गुरू ने बताया कि शिव नवरात्रि में महाकाल मंदिर में बाबा महाकाल और माता पार्वती के विवाहोत्सव का उल्लास रहता है। शिव नवरात्रि के पहले दिन प्राचीन परंपरा के अनुसार सुबह नैवेद्य कक्ष में चंद्रमौलेश्वर रूप में पूजन होगा। उसके बाद कोटितीथ के समीप स्थित भगवान कोटेश्वर व रामेश्वर महादेव का अभिषेक पूजन किया जाएगा। इसके बाद गर्भगृह में 11 ब्राह्मण पुजारी घनश्याम गुरु के आचार्यत्व में भगवान का अभिषेक कर एकादश-एकादशमी रुद्राभिषेक का पाठ करेंगे। सुबह 10.30 बजे होने वाली भोग आरती दोपहर 2 बजे होगी और सायं पांच बजे की संध्या आरती दोपहर तीन बजे होगी। संध्या पूजा के बाद भगवान को नव वस्त्र धारण करनाए जाएगा। पहले दिन भगवान को सोला, दुपट्टा और जलाशय पर मेखला धारण किया जाएगा। रजत आभूषण से श्रंगार होगा।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments