Home देश की ख़बरें महाराष्ट्र के बिजली मंत्री ने माना, ड्रैगन ने किया था साइबर हमला,...

महाराष्ट्र के बिजली मंत्री ने माना, ड्रैगन ने किया था साइबर हमला, अब चीनी उपकरणों का उपयोग नहीं करेगा


एक रिपोर्ट में संशय प्रकट किया गया था कि मुम्बई में बड़े पैमाने पर बिजली गुल होनी चाहिए, कहीं यह ऑनलाइन टाइपिंग का परिणाम नहीं था। एएनआई

साइबर हमले पर नितिन राउत: महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत ने कहा कि बिजली गुल हो जाना की इस घटना की जांच के लिए अलग-अलग समितियां बनायी थीं और उनकी रिपोर्टें मिल गयी हैं।

मुम्बई। महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत (नितिन राउत) ने प्राथमिक सूचना का हवाला देते हुए कहा कि पिछले साल अक्टूबर में ‘साइबर हमले’ के कारण मुम्बई बड़े पैमाने पर अचानक बिजली गुल हो गई थी और यह ‘विधवाओं’ का कथानक था। था। पिछले साल 12 अक्टूबर को स्टूडियो फेल हो जाने से यहां बड़े पैमाने पर बिजली चली गयी थी, ट्रेनें जहां थीं, वहीं रूक गयी थीं, को विभाजित -19 महामारी के चलते घर से काम करने वालों का काम बाधित हो गया था और आर्थिक गतिविधि पर बुरा असर पड़ा। असर पड़ा था। महाराष्ट्र विधान भवन के बाहर राउत ने कहा कि राज्य सरकार, महाराष्ट्र विद्युत विनियामक आयोग और केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण ने बिजली गुल हो जाने की इस घटना की जांच के लिए अलग-अलग समितियां बनायी थीं और उनकी रिपोर्टें मिल गयी हैं।

SCADA यूनिट से सबूत मिला
नितिन राउत ने बुधवार को 12 अक्टूबर को मुंबई पावर स्टूडियो फेल होने के मामले में महाराष्ट्र साइबर सेल की रिपोर्ट को सदन में पेश किया। उन्होंने कहा कि SCADA इकाई से पता चला है कि चीन, ब्रिटेन और अन्य स्थानों से 8 ट्रोजन हार्स मालवेयर की एंट्री का पता चला है। SCADA इकाई की स्थापना और डिमांड के बीच बैलेंस बनाता है।

‘चीनी उपकरणों का इस्तेमाल नहीं’उन्होंने कहा कि इस मालवेयर में 8 जीबी का डेटा चुराया है और हमारा डिपार्टमेंट अब चीनी उपकरणों का इस्तेमाल नहीं करेगा। उन्होंने कहा, ” तब हमने साइबर सेल से शिकायत की थी और उनकी रिपोर्ट का इंतजार है। लेकिन, मेरे पास जो प्राथमिक सूचना है, उसके हिसाब से निश्चित ही यह साइबर हमला था और यह विध्वंस था। ’’ कांग्रेस के मंत्री राउत ने अधिक ब्योरा नहीं दिया।

ड्रैगन के स्कैनर पर स्टड सिस्टम

राउत की टिप्पणी अमेरिका की एक कंपनी की रिपोर्ट के बीच आयी है, जिसमें दावा किया गया है कि पिछले साल लद्दाख में सीमा पर तनाव के बीच चीन सरकार से संबद्ध एक समूह ने मालवेयर के मार्फत भारत की महत्वपूर्ण विद्युत श्रृंखला प्रणाली को निशाना बनाया था।

उस रिपोर्ट में यह संशय प्रकट किया गया था कि मुम्बई में बड़े पैमाने पर बिजली गुल होनी चाहिए, कहीं यह ऑनलाइन पंजीकरण का परिणाम नहीं था।







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments