Home देश की ख़बरें महाराष्ट्र में खाकी शर्मसार: जलगांव में पुलिसवालों पर गर्ल्स हॉस्टल की लड़कियों...

महाराष्ट्र में खाकी शर्मसार: जलगांव में पुलिसवालों पर गर्ल्स हॉस्टल की लड़कियों से स्ट्रिप डांस कराने का आरोप, गृह मंत्री ने जांच के आदेश दिए


विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबईएक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

जलगांव के सरकारी गर्ल्स हॉस्टल में पुलिसवालों के घुसने का आरोप है। यहां ठहरनेवाली लड़कियों ने खिड़की से हालात बयां किए।

महाराष्ट्र में खाकी वर्दी पर गंभीर आरोप लगाया गया है। यहां जलगांव के एक सरकारी गर्ल्स हॉस्टल में पुलिसवालों पर छात्राओं को कपड़े उतारकर नाचने के लिए मजबूर करने का आरोप है। यह मामला गुरुवार को विधानसभा में भी उठा, जिसके बाद गृह मंत्री अनिल देशमुख ने मामले की जांच के लिए कमेटी बना दी है। अगले दो दिन में कमेटी इसकी जांच कर रिपोर्ट देगी।

जानकारी के मुताबिक, घटना 1 मार्च की है। इस दिन कुछ पुलिसकर्मियों के साथ दूसरे लोगों की जांच के नाम पर हॉस्टल में दाखिल हुए थे। वहीं लोगों ने लड़कियों के कपड़े उतरवाकर उन्हें जबरदस्ती डांस कराया। जिन लड़कियों ने इनकार किया, उन्हें मारने-पीटने की धमकी दी गई। मामले की जानकारी मिलने पर सामाजिक कार्यकर्ता वहां पहुंचे, तो उन्हें अंदर जाने से रोका गया।

लड़कियों ने खिड़की से बताए हालात
सामाजिक कार्यकर्ता फिरोज कसारी ने बताया कि महिला और बालकल्याण विभाग के हॉस्टल में बेसहारा, प्रताड़ित और पीड़ित महिलाओं और लड़कियों के रहने और खाने की व्यवस्था की जाती है। यहाँ कुछ अनैतिक काम होने की जानकारी मिली थी। जिसके बाद एनजीओ की टीम वहां पहुंची थी। जब सोशल वर्कर्स को हॉस्टल के अंदर नहीं जाने दिया गया, तो हॉस्टल में रहनेवाली लड़कियों ने खिड़की से पूरी घटना बता दी।]

भाजपा ने भाजपा राष्ट्रपति शासन ’की मांग की
एक सामाजिक संगठन ने मंगलवार को इस मामले में डीएम अभिजीत राऊत से शिकायत की थी। सबूत के तौर पर इस घटना का वीडियो भी पेश किया गया था। गुरुवार को विधानसभा में मामला उठने पर भाजपा नेता सुधीर मुनगंटीवार ने कहा कि हमारे राज्य में महिलाओं के साथ ऐसी बदसलूकी हो रही हो, तो इस सरकार को सत्ता में रहने का कोई अधिकार नहीं है, और यही वह समय है जब राज्य ने राष्ट्रपति शासन लगा दिया। दे दिया।

राकांपा नेता ने राष्ट्रपति शासन की मांग को बताया
विधानसभा में मुनगंटीवार के बयान को मंत्री नवाब मलिक ने आपत्तिजनक बताते हुए इसे सदन की कार्रवाई से निकालने की मांग की है।) इसके बाद विधानसभा के कार्यवाहक अध्यक्ष ने बयान को जांचने का आदेश दिया है। मलिक ने मुनग्तवार से कहा, आप हमें राष्ट्रपति शासन लगाने की धमकी मत दीजिए यह लोगों द्वारा बोनस हुआ सरकार है। सरकार अपने नंबर बल से चलती हुई है इस तरह से गलत है। ‘ इस पर विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि लोकतंत्र में सरकार बर्खास्त करने की मांग करना सदस्यों का अधिकार है।

मनसे ने कहा कि पुलिसवालों को सस्पेंड नहीं किया गया, इसलिए हम सजा देंगे
महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना की नेता रूपाली पाटील ने फेसबुक पर विरोध करते हुए लिखा कि इस मामले में दोषी पुलिस वालों पर और अधिकारियों पर तुरंत कार्रवाई कर उन्हें नौकरी से निलंबित कर दिया जाए और अगर ऐसा नहीं हुआ तो हम मनसे शैली में इन अधिकारियों को निर्वस्त्र सजा दें होगा।

खबरें और भी हैं …





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments