Home उत्तर प्रदेश महाशिवरात्रि पर नहीं होगा काशी विश्वनाथ गर्भगृह में प्रवेश, चारों ओर पर...

महाशिवरात्रि पर नहीं होगा काशी विश्वनाथ गर्भगृह में प्रवेश, चारों ओर पर अरघा लगाकर जलाभिषेक होगा


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* केवल ₹ 299 सीमित अवधि की पेशकश के लिए वार्षिक सदस्यता। जल्दी से!

ख़बर सुनकर

कमिश्नररक अग्रवाल की बैठक में सोमवार को वाराणसी कमिश्नरी सभागार में महाशिवरात्रि महोत्सव की तैयारियों पर बैठक की गई। कोरोना नर्सिंगल का ध्यान रखते हुए मंदिर के चारों ओर से झांकी दर्शन का निर्णय लिया गया। गर्भगृह में प्रवेश और शिवलिंग स्पर्श की अनुमति नहीं होगी। द्वार पर ही लगे अरघे से श्रद्धालु जलाभिषेक कर रहे होंगे।

महाशिवरात्रि पर मैदागिन से आने वाले श्रद्धालु छत्ताद्वार से 20 मीटर पहले से मंदिर चौक से मंदिर के पूर्वी गेट से दर्शन करेंगे। रेफ मिकनपानिका गली द्वार की तरफ से होगी। रेटिंग, सुगम दर्शन, दिव्यांगजन छत्ताद्वार से प्रवेश कर मंदिर के दूसरे गेट पर दर्शन कर उसी से वापस हो सकते हैं। गोदौलिया से आने वाले श्रद्धालु बांस फाटक, धुंडीराज गणेश से मंदिर के पश्चिमी गेट से प्रवेश कर दर्शन करेंगे। स्थानीय लोग सरस्वती फाटक गली से मंदिर में दक्षिणी गेट पर होंगे।

स्क्रीन पर लगातार लाइव टेलीकास्ट

श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए चार नंबर स्क्रीन लगेंगे। इस पर लगातार लाइव टेलीकास्ट होता रहेगा। मैदागिन, गोदौलिया पर साउंड सिस्टम से समुचित जानकारी प्रसारित की जाएगी। किसी भी आकस्मिक जरूरत के लिए डॉक्टरों की टीम के साथ एकर्न्स मंदिर परिसर पर उपलब्ध रहेगा। कमिश्नर ने शिव बारात के रूट को ठीक करने के निर्देश दिए। बैठक में आईजी विजय सिंह मीणा, जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा, एसएसपी अमित पाठक, मंदिर के मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुनील कुमार वर्मा सहित अन्य विभागीय अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

मैदागिन से आगे नहीं जाएंगे वाहन

महाशिवरात्रि पर श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए रूट डायवर्ट किया जाएगा। मैदागिन से आगे काशी विश्वनाथ मंदिर की ओर और गोदौलिया की तरफ वाहन नहीं होगा। इसके लिए शहर में विभिन्न स्थलों क्वींस कॉलेज, टाउनहॉल के समीप, लहुराबीर और मदोदरी क्षेत्र आदि में वाहन पार्किंग शुरू हो जाएगी।

राजघाट पर तीन दिवसीय महाशिवरात्रि महोत्सव होगा
राजघाट पर तीन दिवसीय महाशिवरात्रि महोत्सव 11 मार्च से शुरू होगा। पहले दिन स्थानीय लोगों के कार्यक्रम होंगे। 12 मार्च को कवि सम्मेलन और 13 मार्च को कैलाश खेर का कार्यक्रम होगा। कमिश्नररक अग्रवाल ने घाटों के व्यापक साफ-सफाई, प्रकाश व्यवस्था और व्यवस्था के ठीक-ठाक करने के निर्देश संबंधित विभागीय अधिकारियों को दिए। महोत्सव स्थल पर प्रदर्शनी लगेगी। जिसमें विभिन्न विभागों के स्टाल होंगे।

कमिश्नररक अग्रवाल की बैठक में सोमवार को वाराणसी कमिश्नरी सभागार में महाशिवरात्रि महोत्सव की तैयारियों पर बैठक की गई। कोरोना नर्सिंगल का ध्यान रखते हुए मंदिर के चारों ओर से झांकी दर्शन का निर्णय लिया गया। गर्भगृह में प्रवेश और शिवलिंग स्पर्श की अनुमति नहीं होगी। द्वार पर ही लगे अरघे से श्रद्धालु जलाभिषेक कर रहे होंगे।

महाशिवरात्रि पर मैदागिन से आने वाले श्रद्धालु छत्ताद्वार से 20 मीटर पहले से मंदिर चौक से मंदिर के पूर्वी गेट से दर्शन करेंगे। रेफ मिकनपानिका गली द्वार की तरफ से होगी। रेटिंग, सुगम दर्शन, दिव्यांगजन छत्ताद्वार से प्रवेश कर मंदिर के दूसरे गेट पर दर्शन कर उसी से वापस हो सकते हैं। गोदौलिया से आने वाले श्रद्धालु बांस फाटक, धुंडीराज गणेश से मंदिर के पश्चिमी गेट से प्रवेश कर दर्शन करेंगे। स्थानीय लोग सरस्वती फाटक गली से मंदिर में दक्षिणी गेट पर होंगे।

स्क्रीन पर लगातार लाइव टेलीकास्ट





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments