Home उत्तर प्रदेश यूपी बोर्ड 2021 परीक्षा के लिए बनाए गए 8497 केंद्र

यूपी बोर्ड 2021 परीक्षा के लिए बनाए गए 8497 केंद्र


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* सिर्फ ₹ 299 सीमित अवधि की पेशकश के लिए वार्षिक सदस्यता। जल्दी करो!

ख़बर सुनता है

आखिरकार लंबे इंतजार के बाद यूपी बोर्ड ने हाईस्कूल, इंटरमीडिएट परीक्षा 2021 के लिए 8497 परीक्षा केंद्रों की प्रारंभिक सूची जारी कर दी है। बोर्ड ने सभी जिला विद्यालय निरीक्षकों से केंद्रों के बारे में आने वाली आप अधिकारियों का निस्तारण करके 18 फरवरी तक रिपोर्ट यूपी बोर्ड को उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। इसके बाद बोर्ड की केंद्र निर्धारण समिति 22 फरवरी को परीक्षा केंद्रों की अंतिम सूची जारी करेगी। यूपी बोर्ड सचिव दिव्यकांत शुक्ल ने बताया कि कोविड -19 की गाइड लाइन का पालन करते हुए इस बार 2020 की अपेक्षा 10 प्रतिशत अधिक परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं।

इस बार बोर्ड ने विद्यालयों में संसाधनों की कमी को देखते हुए केंद्र निर्धारण नीति में बदलाव किया है। पूर्व में जारी नीति के आधार पर यदि परीक्षा केंद्र जारी किए जाते हैं तो 2020 के दोगुने से अधिक केेंद्र बनाने पड़ते हैं। परीक्षा केंद्र के चुनाव में आने वाली परेशानी को देखते हुए यूपी बोर्ड ने केंद्र नीति बदलकर 10 प्रति केंद्र बढ़ाने का फैसला किया।

विसंगति पर प्रधानाचार्यों से 30 तक रिपोर्ट जाएगी

प्रधानाचार्यों को परीक्षा केंद्रों के बारे में आपत्तियाँ जिला विद्यालय निरीक्षकों को 30 जनवरी तक उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है। पता चला है कि बोर्ड के साफ्टवेयर ने एरियल डिस्टेंस के आधार पर परीक्षा केंद्र तय कर दिया है, इस कारण से बड़ी संख्या में स्कूलों का परीक्षा केंद्र 30 से 40 किमी दूर चला गया है।

आखिरकार लंबे इंतजार के बाद यूपी बोर्ड ने हाईस्कूल, इंटरमीडिएट परीक्षा 2021 के लिए 8497 परीक्षा केंद्रों की प्रारंभिक सूची जारी कर दी है। बोर्ड ने सभी जिला विद्यालय निरीक्षकों से केंद्रों के बारे में आने वाली आप अधिकारियों का निस्तारण करके 18 फरवरी तक रिपोर्ट यूपी बोर्ड को उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। इसके बाद बोर्ड की केंद्र निर्धारण समिति 22 फरवरी को परीक्षा केंद्रों की अंतिम सूची जारी करेगी। यूपी बोर्ड सचिव दिव्यकांत शुक्ल ने बताया कि कोविड -19 की गाइड लाइन का पालन करते हुए इस बार 2020 की अपेक्षा 10 प्रतिशत अधिक परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं।

इस बार बोर्ड ने विद्यालयों में संसाधनों की कमी को देखते हुए केंद्र निर्धारण नीति में बदलाव किया है। पूर्व में जारी नीति के आधार पर यदि परीक्षा केंद्र जारी किए जाते हैं तो 2020 के दोगुने से अधिक केेंद्र बनाने पड़ते हैं। परीक्षा केंद्र के चुनाव में आने वाली परेशानी को देखते हुए यूपी बोर्ड ने केंद्र नीति बदलकर 10 प्रति केंद्र बढ़ाने का फैसला किया।

विसंगति पर प्रधानाचार्यों से 30 तक रिपोर्ट जाएगी

प्रधानाचार्यों को परीक्षा केंद्रों के बारे में आपत्तियाँ जिला विद्यालय निरीक्षकों को 30 जनवरी तक उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है। पता चला है कि बोर्ड के साफ्टवेयर ने एरियल डिस्टेंस के आधार पर परीक्षा केंद्र तय कर दिया है, इस कारण से बड़ी संख्या में स्कूलों का परीक्षा केंद्र 30 से 40 किमी दूर चला गया है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments