Home देश की ख़बरें यूपी से बड़ी खबर: योगी सरकार वापस लेगी को विभाजित -19 में...

यूपी से बड़ी खबर: योगी सरकार वापस लेगी को विभाजित -19 में दर्ज मुकदमे, व्यापारियों के साथ आम लोगों को राहत मिलेगी


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश (उत्तर प्रदेश) के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने गुरुवार को निर्देश अधिकारियों को जारी कर दिए हैं। कानून मंत्रालय ने प्रमुख सचिव को दिशा-निर्देश जारी करते हुए प्रदेश भर में दर्ज मुकदमों का ब्योरा बढ़ाने को कहा है।

  • News18Hindi
  • आखरी अपडेट:28 जनवरी, 2021, 3:20 PM IST

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (योगी सरकार) यूपी के प्रत्याशियों सहित आम लोगों को बड़ी राहत देने जा रही है। राज्य सरकार के व्यापारियों और अन्य लोगों को कोविड -19 (COVID-19) और लॉकडाउन (लॉकडाउन) को तोड़ने के बारे में दर्ज किए गए मुकदमे को हटाने की तैयारी कर रही है। यूपी के कानून मंत्रालय ने अधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं। सरकार के इस फैसले के बाद अब कोरोना और लॉकडाउन तोड़ने के मामलों में पुलिस और कचेहरी की दौड़ यूपी के लोगों को नहीं करनी होगी। सरकार ने फैसला किया है कि सतर्कपियों के साथ ही अन्य लोगों पर भी दर्ज मुकदमे हटाए जाएंगे।

सभाया जा रहा प्रदेश भर में दर्ज मुकदमों का ब्योरा

उत्तर प्रदेश के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने गुरुवार को निर्देश अधिकारियों को जारी कर दिए हैं। कानून मंत्रालय ने प्रमुख सचिव को दिशा-निर्देश जारी करते हुए प्रदेश भर में दर्ज मुकदमों का ब्योरा बढ़ाने को कहा है।

योगी सरकार के इस फैसले से हजारों गरीबों के साथ ही बड़ी संख्‍या में कर्मचारियों, मजदूरों और किसानों को भी राहत मिलना तय है। वास्तव में राज्य सरकार का मानना ​​है कि कोविद के मुकदमों से आम लोगों को स्पष्टवादी परेशानी उठानी पड़ेगी। थानों में दर्ज एफआईआर को हवाला देते हुए पुलिस को लोगों को परेशान करने का मौका मिल सकता है।ये निर्णय लेने वाला पहला राज्य बनेगा यूपी

इस फैसले के बाद कोविद -19 विकासल तोड़ने और लॉकडाउन के उल्लीलिंग के मुकदमे वापस लेने वाला उत्तर प्रदेश देश का पहला राज्य बन जाएगा। सरकार इन मुकदमों की वापसी के जरिये जहां सतर्कपियों के साथ आम लोगों को बड़ी राहत देने जा रही है, वहीं उन्हें धमकी देने के लिए ऐसी स्थितियों में विशेष एहतियात बरतने की चेतावनी भी देंगे। ये मुकदमों की वापसी से पुलिस और न्यालयालय से भी बहुत कम होगा और उनमेंheखे चीजों की जांच के लिए मौका मिल सकेगा। कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा कि सतर्कताएं की लंबे समय से यह मांग थी, जिस पर विचार करते हुए राज्य सरकार ने इन मुकदमों को वापस लेने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments