Home उत्तर प्रदेश यूपी: 1000 और 500 रुपये के पुराने नोट के साथ 11 गिरफ्तार,...

यूपी: 1000 और 500 रुपये के पुराने नोट के साथ 11 गिरफ्तार, गांव के लोगों से करते थे


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* सिर्फ ₹ 299 सीमित अवधि की पेशकश के लिए वार्षिक सदस्यता। जल्दी से!

ख़बर सुनना

गांव के सीधे-साधे लोगों को झांसे में लेकर पांच सौ व एक हजार के पुराने नोट खपाने वाले साम्राज्य का पुलिस ने पर्दाफाश किया है। उत्तर प्रदेश के जौनपुर जनपद के चंदवक स्थित बरामनपुर गांव से शुक्रवार को 11 शातिर जालसाजों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। उनके पास से 25 लाख रुपये के 500-1000 के पुराने नोट, 16 एटीएम कार्ड, एक पिस्टल, देसी तमंचा, कारतूस बरामद हुए हैं। पकड़े गए जालसाजों में सात गाजीपुर और दो वाराणसी के निवासी हैं। उनसे पूछताछ में पुलिस को कई अहम सुराग मिले हैं। इसके आधार पर वह विरासत से जुड़े अन्य लोगों तक पहुंचने में जुट गया है।

चंद सर्व थानाध्यक्ष त्रिवेणी कुमार सिंह ने पतरही चौकी इंचार्ज त्रिवेणी सिंह के साथ मुखबिर की सूचना पर बरामदपुर के छावनी तिराहा से कुछ विवादों को पकड़ा। उनकी तलाशी लेने पर 25 लाख रुपये के पुराने नोट मिले। हस्तक्षेप में उन्होंने बताया कि वह इस पैसे को बदलने की फिराक में थे।

कई लोग मिलकर यह काम करते हैं

वह गांव के अशिक्षित, वृद्ध व सीधा-साधे लोगों को झांसे में लेते हैं। मदद के बहाने उनका एटीएम कार्ड हासिल करते हैं और उसे बदल देते हैं। इसी तरह रुपये निकालते समय नोट भी बदलकर थमा देते हैं। कई लोग मिलकर यह काम करते हैं। सभी को पुराने नोट चलाने के लिए तय मात्रा में बांट दिया जाता है।

वह बरामनपुर में भी ऐसे ही किसी व्यक्ति की तलाश में आए थे। एएसपी सिटी डॉ। संजय कुमार ने बताया कि पकड़े गए सभी जालसाज बेहद शातिर किस्म के हैं। उनके विरुद्ध संबंधित धाराओं में केस दर्ज किया गया है। समूहों में अन्य लोगों के भी शामिल होने की आशंका है। मामले की जांच चल रही है।

पकड़े गए आरोपियों में सात गाजीपुर जनपद के

पुलिस की पूछताछ में पकड़े गए आरोपियों ने अपनी पहचान गाजीपुर के सैदपुर कोतवाली क्षेत्र के इनायतपुर निवासी बृजेश यादव, रावल गांव निवासी रविशंकर पाठक, सादत थाना क्षेत्र के बुड्ढनपुर उस बेचैन राजभर, भुड़कुड़ा थाना के नसरतपुर धीरजी निवासी प्रदीप कुमार, रवि कुमार, अलीपुर निवासी राहुल कुमार, गाजीपुर सदर कोतवाली के सकरा गांव निवासी धर्मेंद्र कुमार, चंदौली जिले के धानपुर थाना के हिंगुतरगढ़ निवासी प्रवीण कुमार सिंह, चंदवक थाना क्षेत्र के बरामनपुर अनिल सिंह, वाराणसी के बड़ागांव थाना के रामपुर हथिपार निवासी सुरेश कुमार मिश्र व लालपुर थाना क्षेत्र के निवासी थे। के औढ़े गांव निवासी कमलेश पांडेय के रूप में हुई। इसमें बृजेश यादव और प्रदीप कुमार पर पहले भी कई मुकदमे दर्ज हैं।

विस्तार

गांव के सीधे-साधे लोगों को झांसे में लेकर पांच सौ व एक हजार के पुराने नोट खपाने वाले विरासत का पुलिस ने पर्दाफाश किया है। उत्तर प्रदेश के जौनपुर जनपद के चंदवक स्थित बरामनपुर गांव से शुक्रवार को 11 शातिर जालसाजों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। उनके पास से 25 लाख रुपये के 500-1000 के पुराने नोट, 16 एटीएम कार्ड, एक पिस्टल, देसी तमंचा, कारतूस बरामद हुए हैं। पकड़े गए जालसाजों में सात गाजीपुर और दो वाराणसी के निवासी हैं। उनसे पूछताछ में पुलिस को कई अहम सुराग मिले हैं। इसके आधार पर वह विरासत से जुड़े अन्य लोगों तक पहुंचने में जुट गया है।

चंद सर्व थानाध्यक्ष त्रिवेणी कुमार सिंह ने पतरही चौकी इंचार्ज त्रिवेणी सिंह के साथ मुखबिर की सूचना पर बरामदपुर के छावनी तिराहा से कुछ विवादों को पकड़ा। उनकी तलाशी लेने पर 25 लाख रुपये के पुराने नोट मिले। हस्तक्षेप में उन्होंने बताया कि वह इस पैसे को बदलने की फिराक में थे।

कई लोग मिलकर यह काम करते हैं





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments