Home देश की ख़बरें राहुल गांधी बोले, देश में शिशु लगाने का फैसला गलत था, जी...

राहुल गांधी बोले, देश में शिशु लगाने का फैसला गलत था, जी -23 नेताओं पर भी साधा निशाना


राहुल गांधी (फाइल फोटो)

RSS पर राहुल गांधी: राहुल गांधी ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ संवैधानिक संस्थाओं को अपने लोगों से भर रहा है, अगर चुनाव में हम बीजेपी को हरा भी दें तो संस्थानिक ढांचे में बैठे उनके लोगों से मुक्ति नहीं मिलेगी।

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी (राहुल गांधी) ने मंगलवार को जी -23 के नेताओं पर सीधा हमला बोलते हुए कहा कि ‘मैं हमेशा से पार्टी में लोकतंत्र और सांगठनिक चुनावों के पक्ष में रहा हूं। लेकिन, मेरी पार्टी के लोगों ने ही मेरी आलोचना की। ‘ प्रतिष्ठित कॉर्नेल यूनिवर्सिटी के एक वर्ग कार्यक्रम में प्रोफेसर कौशिक बसु के साथ लोकतंत्र और विकास के विषयों पर बातचीत करते हुए राहुल गांधी ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी (इंदिरा गांधी) के नेतृत्व में जाने वाले के साथ मौजूदा राजनीतिक हालात पर भी अपने विचार रखें। इंदिरा गांधी द्वारा शिशु लगाने जाने के सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि वह गलती थी, लेकिन तब जो हुआ और आज जो हो रहा है। इसमें कोई फर्क नहीं है और अपनी गलती मान लेने की हिम्मत का काम होता है।

संवैधानिक संस्थाओं को अपने लोगों से भरते हुए आरएसएस

राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने कभी भी देश के संवैधानिक ढांचे पर कब्जा करने की कोशिश नहीं की। हमारा लोकतांत्रिक ढांचा ऐसा करने की इजाजत नहीं देता है, अगर हम भी चाहते हैं तो नहीं कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ इसे अलग तरीके से अंजाम दे रहा है। वे लोग संवैधानिक स्थितियों को अपने लोगों से भर रहे हैं। अगर चुनाव में हम बीजेपी को हरा भी दें तो संस्थानिक ढांचे में बैठे लोगों को नहीं हटाया जा सकता।

कांग्रेस में लोकतंत्र लाना जरूरी: राहुल गांधीकांग्रेस पार्टी में प्रत्येक चुनावों की मांग पर राहुल गांधी ने कहा कि मैं कांग्रेस पार्टी में सक्रिय लोकतंत्र को बढ़ावा देने की बात कई सालों से कर रहा हूं और इसके लिए मेरी ही पार्टी के लोगों ने मेरी आलोचना की थी। उन्होंने कहा, “मैंने अपनी पार्टी के लोगों से कहा कि कांग्रेस में लोकतंत्र लाने को निश्चित रूप से जरूरी है। आधुनिक लोकतांत्रिक व्यवस्थाएं इसलिए प्रभावी हैं, क्योंकि उनके पास स्वतंत्र संस्थाएं हैं, लेकिन भारत में उस स्वतंत्रता पर हमला किया जा रहा है।”

मौजूदा राजनीतिक हालात पर बोलते हुए राहुल गांधी ने कहा कि न्यायपालिका से उम्मीद नहीं है। संसद में बोलने की अनुमति नहीं है। आरएसएस और बीजेपी के पास बेतशा पैसा है। सेवाओं को विपक्ष के पक्ष में खड़े होने की इजाजत नहीं है। लोकतांत्रिक अवधारणा पर यह सोचा समझा हमला है।







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments